मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डॉक्टर्स से कहा, कहां मर गई नैतिकता, बंद करिए निजी प्रैक्टिस

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डॉक्टर्स से कहा, कहां मर गई नैतिकता, बंद करिए निजी प्रैक्टिसडॉक्टर्स को संबोधित करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लखनऊ के केजीएमयू हॉस्पिटल में नए वेंटिलेटर का लोकार्पण करने पहुंचे। उन्होंने राज्य की स्वास्थ्य सुविधाओं पर जोर देने की बीत की। उन्होंने कहा कि सरकार यूपी में कम से कम 6 एम्स खोलेगी। साथ ही उन्होंने डॉक्टर्स को मरीजों के साथ नरमी बरतने और बाहर प्रैक्टिस न करने की हिदायत दी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि केजीएमयू की अपनी प्रतिष्ठा है। देश और दुनिया मे केजीएमयू के छात्र नाम कमा रहे हैं। मेदांता के अधिकतर डॉक्टर यही से पढ़ कर निकले हैं। इस देश की जो आवश्यकता है उसके अनुरूप चिकित्सा विश्वविद्यालय सही काम कर रहा है। केजीएमयू से ही पढ़कर निकले डॉक्टर ने पूर्वी उत्तर प्रदेश में सेवा दे रहे है। 5 लाख नए चिकित्सक चाहिए। ये सरकारों के लिए चिंता का विषय है, लेकिन इससे ज्यादा है मरीजो के प्रति संवेदनशीलता।

योगी ने ली डॉक्टरों की क्लास

बीते वर्षों में डॉक्टरों को लेकर मरीजो की सोच में बदलाव आया है। पब्लिक अब डॉक्टर को कसाई मानती है। बीमारी सिर्फ शरीर को नह बल्कि मन को भी होता है। तीमारदारों और डॉक्टरों के बीच मारपीट की रोज खबरें आती हैं। जूनियर डॉक्टर ग्रुप बनाकर टूट पड़ते है मरीजों पर। क्या ये संभव नहीं है कि डॉक्टर यह से पढ़कर ग्रामीण इलाकों में जाकर देश सेवा में अपना योगदान दें। डॉक्टर मेडिकल कॉलेज से तनख्वाह लेते है और प्राइवेट प्रैक्टिस भी करते है। आखिर नैतिकता कहा मर गई है। इस देश का नागरिक अगर स्वस्थ होगा तो वो भी राष्ट्र के निर्माण में अपना योगदान दे सकता है।

आपके पास जो गरीब आता है वो विश्वास के साथ आता है। उसके पास पैसे नहीं होते लेकिन दुआ होती है। इसलिए मैं आपसे अपील करूँगा की जब कोई गरीब आता है तो उसे खाली हाथ मत लौटाए। वेंटिलेटर जो प्राइवेट वाले 5 साल चलाते है वो सरकारी में मात्र एक साल चलता है। क्योंकि मेन्टेन्स नहीं कराया जाता। ये जनता के साथ धोखा है। मैं 31 मार्च को अपने दफ्तर में गया तो मुझे फाइलो का ढेर दिखाया गया मैने पूछा तो अधिकारियों ने कहा कि पिछला बजट खर्च नहीं हो पाया।

हम नए 25 मेडिकल कॉलेज बनाएंगे

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम लोक संकल्प पत्र के वादों को पूरा करेंगे। उत्तर प्रदेश सरकार केजीएमसी को एम्स के तर्ज पर विकसित करेगी उत्तर प्रदेश। हम नए 25 मेडिकल कॉलेज बनाएंगे गोपाल टंडन को प्रस्ताव बनाने की जिम्मेदारी। सस्ती दवा उपलब्ध कराने का प्रयास करेगी सरकार। लोक संकल्प पत्र के वादों को पूरा करेंगे। उत्तर प्रदेश सरकार केजीएमसी को एम्स के तर्ज पर विकसित करेगी उत्तर प्रदेश। गोपाल टंडन को प्रस्ताव बनाने की जिम्मेदारी। गोरखपुर में जापानी इंसेफ्लाइटिस से मौते होती हैं। लेकिन अब वो बीमारी एक्युट इंसेफ्लाइटिस हो गई और इसके लिए अभी कोई टिका नहीं बना। मैं गोमती रिवर फ्रंट निरीक्षण के लिए गया। सोचा गोमती का पानी है आचमन करूँगा लेकिन गोमती का पानी नाले से भी गंदा है।

Share it
Share it
Share it
Top