साइकिल से ही ले जाना पड़ा मासूम भांजी का शव    

साइकिल से ही ले जाना पड़ा मासूम भांजी का शव    प्रतीकात्मक फ़ोटो (फ़ोटो साभार-आउट लुक )

कौशाम्बी (भाषा)। जिला अस्पताल में कथित तौर पर शव वाहन नहीं मिलने से सात महीने की मासूम बच्ची के शव को उसके मामा द्वारा साइकिल से ही अस्पताल से गांव ले जाने का मामला प्रकाश में आया है।

ये भी पढ़ें- यूपी में नेताओं की सुरक्षा करने वाले ऐसे क्यों रहते है ?

मंझनपुर तहसील क्षेत्र के मलाक सददी गांव निवासी अनंत कुमार मजदूरी करते हैं। उनकी सात महीने की मासूम बेटी उल्टी दस्त से पीडित थी। मासूम को उसके मामा बृजमोहन ने जिला अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उसने इलाज के दौरान दम तोड दिया।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

बृजमोहन का आरोप है कि अस्पताल ने शव वाहन नहीं उपलब्ध कराया, जिसकी वजह से वह भांजी के शव को साइकिल से ही गांव लेकर गया।

ये भी पढ़ें- तुर्क पंचायत का बड़ा फैसला : तीन तलाक देने वाले पर लगाया 2 लाख रुपए का जुर्माना

मुख्य चिकित्साधिकारी डा एस के उपाध्याय ने बताया कि मामला संज्ञान में आया है। उन्होंने जांच शुरु करा दी है। जांच की रिपोर्ट आने के बाद दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.