यूपी सरकार की तस्वीर खींचो, ईनाम पाओ योजना 

यूपी सरकार की तस्वीर खींचो, ईनाम पाओ योजना सड़क हादसे रोकने के लिए यूपी सरकार की नई पहल

लखनऊ (भाषा)। सरकारी बसों के साथ होने वाले हादसों को रोकने के लिए यूपी सरकार ने एक नई पहल की है। सरकार ने यात्रियों से कहा है कि वे यात्रा के दौरान सरकारी बसों के ड्राइवर को मोबाइल पर बात करता देख उनकी फोटो खींचे और बदले में इनाम जीतें।

उत्तर प्रदेश के परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने कहा, ‘सरकारी बसों में यात्रा के दौरान ड्राइवर मोबाइल पर बात ना करें, इसके लिए तमाम नियम कानून बने लेकिन इसके बावजूद यात्रियों की अक्सर शिकायतें आती हैं कि ड्राइवर गाड़ी चलाते समय मोबाइल पर बात करते हैं। इसको देखते हुए हमने अब यात्रियों से ही मदद मांगी है। यात्री फोन पर बात करते हुए ड्राइवर की फोटो खींचे और हमें व्हाट्सअप के माध्यम से भेजें।” उन्होंने कहा कि ऐसे लापरवाह ड्राइवरों की फोटो मिलने के बाद संबंधित ड्राइवर पर जुर्माना लगाया जाएगा और फोटो भेजने वाले यात्री को ईनाम दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें: विश्व रक्तदान दिवस क्यों मनाते हैं , जरा इसके पीछे की कहानी भी जान लीजिए

इस फोटो खीचों अभियान से ड्राइवरों और यात्रियों में जागरुकता बढ़ेगी और दुर्घटनाएं कम होगी। क्योंकि अधिकतर दुर्घटनाओं में टाफिक नियमों का उल्लंघन ही कारण होता है।
स्वतंत्र देव सिंह, उत्तर प्रदेश के परिवहन मंत्री

उन्होंने कहा कि इस विचार से हमें दो तरह से मदद मिलेगी। पहला ड्राइवर को फोन पर बात करते देख उसकी फोटो खीचेंगा और अपनी सुरक्षित यात्रा सुनिश्चित करेगा। दूसरी तरफ ड्राइवर के मन में यह डर रहेगा कि कहीं उसे फोन पर बात करता देख कोई यात्री फोटो न खींच ले इसलिए वह गाड़ी चलाते समय फोन पर बात करने से बचेगा।

ये भी पढ़ें: अब सुरक्षित और आरामदेय होगा रेल का सफर, 40 हजार डिब्बों का होगा नवीनीकरण

उत्तर प्रदेश सड़क परिवहन निगम उत्तर भारत के अन्य राज्यों समेत समूचे उत्तर प्रदेश में अपनी बसें चलाता है। इसके बेड़े में 11 हजार 851 से अधिक बसें है और करीब तीस लाख किलोमीटर का सफर करती है तथा करीब सत्तर लाख रुपए प्रतिदिन की आमदनी करती है।

ये भी पढ़ें: दिनभर लाइन में लगने के बाद महिलाओं को मिल पाता है पानी

पहले से है कानून

वैसे गाड़ी चलाते समय मोबाइल पर बात करने वालों के लिए कानून में सजा है। ऐसे व्यक्ति को मोटर व्हीकल एक्ट 1988 की धारा 184 के तहत छह महीने तक की सजा और एक हजार रुपए का जुर्माना है लेकिन इस कानून की चपेट में आने से अक्सर ड्राइवर बच जाते हैं।

Share it
Share it
Share it
Top