पत्नी की गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखाने गए पति को लखनऊ पुलिस ने बेटे के सामने पीटा

पत्नी की गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखाने गए पति को लखनऊ पुलिस ने बेटे के सामने पीटाफोटो साभार : इंटरनेट

लखनऊ। एक तरफ यूपी पुलिस को जनता और पीड़ित के साथ सौम्य व्यवहार करने की नसीहत दी जाती है, दूसरी ओर पुलिस के अधिकारी सुधरने को तैयार नहीं है। ऐसा ही हाल दिखा लखनऊ के पीजीआई थाने में, जहां अपने पत्नी की गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखाने गए पति को पुलिस अफसर ने बेटे के सामने मारा पीटा और उसे हवालात में डाल दिया।

मामला लखनऊ जिलेका है। 12 अप्रैल को पीजीआई थाना इलाके के एल्डिको चौकी प्रभारी अरुण कुमार मिश्र ने अपने बेटे के साथ एफआईआर लिखाने पहुंचे तेलीबाग निवासी राजा को जमकर पीटा। इतना ही नहीं, जब अपने पिता को पिटते देख बेटे ने चिल्लाना शुरू किया तो उसे भी पुलिस अफसर ने मारा-पीटा।

वहीं पुलिस ने पीड़ित राजा के खिलाफ सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने का मुकदमा लिखाने के बाद उसे हवालात में बंद कर दिया, जबकि बेटा हवालात के बाहर ही पुलिस वालों से गुहार लगाता रहा। मामला संज्ञान में आने के बाद एसएसपी दीपक कुमार ने चौकी प्रभारी एल्डिको को शाम को हटा दिया।

ये भी पढ़ें- उन्नाव गैंगरेप मामले में बख्शे नहीं जाएंगे अपराधी : योगी

फोटो साभार एनबीटी ट्वीटर

पत्रकारों से बातचीत में पीड़ित राजा ने बताया, “पांच अप्रैल को पत्नी फूलजहां के साथ विवाद होने पर मैंने उसे थप्पड़ जड़ दिया था। इसके बाद मेरी पत्नी घर छोड़कर चली गई। मगर दो दिन बाद उसका फोन आया और कुछ दिन में वापस आने की बात कही।“ उसने आगे बताया, “मेरी शादी को 18 साल हो चुके हैं, मगर नाराज होकर वह चली गई थी। जब उसका फोन आया और उसने घर वापस आने की बात कही, उसके बाद से उसका फोन स्विच ऑफ जा रहा है। पत्नी नहीं लौटी तो मैं तहरीर लेकर थाने पहुंचा, मगर पुलिस ने खुद ही ढूंढ लेने की बात कहकर भगा दिया। कई बार मैं थाने गया मगर पुलिस ने मेरी कोई मदद नहीं की।“

राजा ने आगे बताया, “12 अप्रैल को मैं फिर थाने में रिपोर्ट लिखाने के लिए अपने 8 साल के बेटे के साथ पहुंचा। वहां चौकी प्रभारी अरुण कुमार मिश्रा गाली-गलौज करने लगे तो वह मुंशी वाले कमरे में ले जाकर मुझे मारने पीटने लगे। बेटे ने देखा तो उसे भी मारा-पीटा और मुझे हवालात में डाल दिया।“

ये भी पढ़ें- अगर आप लखनऊ में करने जा रहे हैं धरना-प्रदर्शन, तो ये खबर ध्यान से पढ़ लीजिए 

फोटो साभार फेसबुस सुधीर लोधी

इस मामले में पीजीआई इंस्पेक्टर रवींद्रनाथ राय ने पत्रकारों को बताया, “पीड़ित राजा की तहरीर पर गुमशुदगी दर्ज की जा रही थी, उसी समय राजा पुलिसकर्मियों से गाली-गलौज करने लगा। इस कारण थाने में सरकारी काम में बाधा पहुंचाने पर उसके खिलाफ भी रिपोर्ट दर्ज की गई, मगर बाद में जमानत दे दी गई है।“

वहीं एसएसपी दीपक कुमार का कहना है, “राजा थाने में जोर-जोर से चिल्ला रहा था और पुलिसकर्मियों से गाली-गलौज कर रहा था। इस मामले में चौकी प्रभारी अरुण कुमार मिश्रा की उससे अभद्रता करने की बात सामने आई, जिसके बाद उन्हें चौकी से हटा दिया गया है।“

ये भी पढ़ें- रिक्शे वाले के 6 साल के बेटे की प्रतिभा के कायल हुए डीएम, फेसबुक पर बताया ‘जादू की पुडि़या’

Tags:    up police 
Share it
Share it
Share it
Top