उत्तर प्रदेश

यूपी के किसानों का फसली ऋण माफ करने का प्रस्ताव तैयार: सूर्य प्रताप शाही

वाराणसी (भाषा)। उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने आज कहा कि चुनावी वादे के अनुरुप राज्य के किसानों का फसली फसली ऋण जल्द ही माफ किया जाएगा। इसके लिए विभाग स्तर पर प्रस्ताव बनाकर भेज दिया गया है।

राज्य सरकार ने लाभान्वित होने वाले किसानों की पूरी सूची तैयार कर ली है और जल्द ही इसे कैबिनेट की पहली बैठक में मंजूरी दी जाएगी। प्रदेश में नई सरकार की पहली कैबिनेट बैठक 4 अप्रैल को होने की संभावना है।

शाही ने बनारस में सर्किट हाउस में पत्रकारों को बताया कि राज्य में कुल डेढ करोड ऐसे किसान हैं जिनका फसली ऋण माफ किया जाएगा। कृषि मंत्री ने बताया कि योगी सरकार का प्रयास है कि किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का पूरा लाभ दिलाया जाए जिससे उनके जीवनस्तर में सुधार हो सके। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से अधिक से अधिक किसानों को जोड़ा जाएगा ताकि प्राकृतिक आपदा की स्थिति में उन्हें बीमा लाभ मिल सके।

गेहूं क्रय का दायरा बढ़ाएगी सरकार

शाही ने कहा कि सरकार किसानों से गेहूं क्रय किये जाने का दायरा भी बढायेगी। पिछली सरकार ने 40 लाख टन खरीद का लक्ष्य रखा था, इसे वर्तमान सरकार ने 80 लाख टन कर दिया है। इसके लिए करीब 45 हजार टन भंडारण की व्यवस्था कर ली गई है जिसे आगे और भी बढाया जाएगा। वहीं पांच कृषि विश्विद्यालयों में सीटें बढाई जाएंगी। मिट्टी की जांच के लिए 45 जांच केंद्र और बनाए जाएंगे ताकि हर जिले के किसान आसानी से मिट्टी की जांच करा सकें।

उन्होंने बताया कि 2022 तक किसानों की आर्थिक स्थिति में व्यापक सुधार करने का लक्ष्य तय किया गया है। प्रयास होगा कि किसान की प्रतिव्यक्ति आय को मौजूदा साढ़े 15 हजार से बढाक़र 2022 तक 32000 रुपए कर दिया जाए।

उन्होंने कहा कि केंद्र में नरेंद्र मोदी और राज्य में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली सरकारें किसानों के हितों के लिए कृतसंकल्पित हैं। हर हाल में पांच साल में किसानों की सामाजिक एवं आर्थिक स्थिति में सुधार होगा।