मैनस्टुअल हाईजीन डे- वैशाली के किशोरियों ने दिखाया खासा उत्साह

मैनस्टुअल हाईजीन डे- वैशाली के किशोरियों ने दिखाया खासा उत्साहवैशाली के स्लम एरिया की किशोरियों और महिलाओं ने खासा उत्साह दिखाया.

वैशाली (गाजियाबाद )I मैनस्टुअल हाईजीन दिवस के मौके पर गांव कनेक्शन ने वैशाली के स्लम एरिया की किशोरियों और महिलाओं ने खासा उत्साह दिखाया। उनका उत्साह देखने लायक रहा, जागरुकता कार्यक्रम की मुख्य वक्ता डॉ. विभा पांडेय ने महिलाओं को मासिक धर्म के वैज्ञानिक कारणों के बारे में विस्तार से बताया।

28 मई 2014 को जर्मनी के वॉश यूनाइटेड एनजीओ ने सबसे पहले लोगों को जागरुक करने के उद्देश्य से दुनिया भर में मैनस्टुअल हाईजीन डे को मनाने की प्रथा का सुभारंभ हुआ, तब से ये 28 मई को पूरी दुनिया में बड़ी धूम धाम के साथ महिलाजागरुकता दिवस के रुप में मनाया जा रहा है।

डॉ विभा इस दौरान खाने में पौस्टिक आहार, दूध, आयरन लेने और साफ सफाई पर विशेष ध्यान देने की आश्वयकता बताई। हर 4 घंटे में नेपकीन बदलने जैसी कई छोटी-छोटी बारीकियों के बारे में महिलाओं, किशोरियों को जानकारी दी और बताया कित तरह से मासिक धर्म की वैज्ञानिक प्रक्रिया चलती है। खट्टा न खाने, ठंडी चीजों का सेवन न करने और बाल धोने से इस पर क्या असर होता है के सवाल पर उन्होंने बताया कि इससे कुछ नहीं होता ये सब भ्रंतिया हैं, अंधविश्वास है, इससे मासिक धर्म पर कोई असर नहीं होता।

गांव कनेक्शन के इस जागरुकता कार्यक्रम में आईं समाजिक कार्यकर्ता सोनिया मौर्या ने समाज में महिलाओं को संबंध में फैली कुप्रथाओं की निंदा की और समाज में फैले अंधविश्वास पर महिलाओं की राय जानने की कोशिश की, और महिलाओं को अंधविश्वास से दूर रहने को कहा।

गांव कनेक्शन के इस जागरुकता कार्यक्रम में महिलाओं बहुत ज्यादा खुश दिखीं, और बाताया आज पहली बार कोई संस्था हमारे स्लम एरिया में आयी है, इसके लिए सभी महिलाओं ने गांव कनेक्शन की टीम का आभार व्यक्त किया।

Share it
Top