यूपी: योगी ने 18 गाँवों को घोषित किया राजस्व ग्राम

यूपी: योगी ने 18 गाँवों को घोषित किया राजस्व ग्रामफोटो साभार: इंटरनेट

महाराजगंज (भाषा)। वनटांगिया समुदाय के लोगों को मुख्य धारा में लाने के प्रयास के तहत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को वनटांगिया समुदाय के 18 गाँवों को राजस्व ग्राम घोषित किया।

परिवारों को भूमि के पट्टे दिए

योगी ने विपक्षी दलों पर आरोप लगाया कि वे गरीबों को लंबे समय से मूर्ख बना रहे हैं और उन्हें उनके अधिकारों से वंचित रख रहे हैं। योगी पनियारा ब्लॉक के तहत चंदनचाफी गाँव में आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने 3779 वनटांगिया परिवारों को भूमि के पट्टे प्रदान किये।

आज से वनटांगिया लोगों को सरकारी योजनाओं का लाभ देने का कार्य शुरू हो गया है। सड़क, पानी, बिजली, स्वास्थ्य, शिक्षा और मकान जैसी सुविधाएं गरीबों को प्रदान की जाएंगी।
योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश

अधिकारियों को दिए निर्देश

सत्ता संभालते ही योगी ने अधिकारियों को निर्देश दिया था कि वनटांगिया समुदाय को मुख्य धारा में लाने के लिए कदम उठाये जाएं। मुख्यमंत्री ने कहा, “आज से वनटांगिया लोगों को सरकारी योजनाओं का लाभ देने का कार्य शुरू हो गया है। सड़क, पानी, बिजली, स्वास्थ्य, शिक्षा और मकान जैसी सुविधाएं गरीबों को प्रदान की जाएंगी।“

यह भी पढ़ें: पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लिए कलंक बन रही काली नदी, 1200 गाँव बीमारियों की चपेट में

गाँवों में खोले जाएंगे स्कूल

मुख्यमंत्री ने कहा, “जो लोग गरीबों और गाँवों के फायदे की राजनीति का दावा करते हैं, वे लंबे अरसे से गरीबों को मूर्ख बना रहे हैं। भाजपा एकमात्र ऐसा दल है, जो गरीबों और गाँवों के लिए कार्य कर सकता है।“ योगी ने वनटांगिया समुदाय के गाँवों में आंगनवाड़ी केंद्र की आधारशिला रखी। इन गाँवों में प्राथमिक विद्यालय और जूनियर हाई स्कूल खोलने का भी प्रस्ताव है।

70 वर्ष बाद भी सुविधाओं से वंचित

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने कहा, “राज्य सरकार की प्राथमिकता इन गाँवों का विकास सुनिश्चित करना है, जिन्हें आजादी के 70 वर्ष बाद भी लंबे समय से मूलभूत सुविधाओं से वंचित रखा गया है।“ योगी ने इससे पहले गोरखपुर में कहा, “उनकी सरकार वनटांगिया लोगों को बुनियादी सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है।“ आगे कहा, “आजादी के बाद से अब तक वनटांगिया अपने अधिकारों से वंचित रहे हैं। राजस्व गाँव में सम्मिलित होने से इन जनजातीय लोगों को विकास की योजनाओं का लाभ मिलेगा।“

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश में पूर्व विधायक-मंत्री और नहीं कर पाएंगे सरकार के लोगो का इस्तेमाल

दूसरे चरण में अन्य 47 वनटांगिया बहुल गाँवों को राजस्व ग्राम का दर्जा मिल जाएगा। इस प्रकार प्रदेश में कुल 65 वनटांगिया राजस्व गाँव हो जाएंगे। उनकी सरकार प्रदेश के 1625 अन्य गाँवों को भी राजस्व ग्राम की फेहरिस्त में शामिल करने की दिशा में अग्रसर है।
योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश

गोरखपुर महोत्सव की तैयारियों का लिया जायजा

मुख्यमंत्री ने कहा, “दूसरे चरण में अन्य 47 वनटांगिया बहुल गाँवों को राजस्व ग्राम का दर्जा मिल जाएगा। इस प्रकार प्रदेश में कुल 65 वनटांगिया राजस्व गाँव हो जाएंगे। उनकी सरकार प्रदेश के 1625 अन्य गाँवों को भी राजस्व ग्राम की फेहरिस्त में शामिल करने की दिशा में अग्रसर है।“ मुख्यमंत्री ने सुबह गोरखनाथ मंदिर में लगभग 300 फरियादियों की समस्याओं से संबंधित पत्र लेते हुए संबंधित विभागों के अधिकारियों को उनके निस्तारण के निर्देश दिए। इसके अलावा उन्होंने अधिकारियों के साथ मकर संक्रांति, खिचड़ी मेला और 11 से 13 जनवरी तक आयोजित हो रहे गोरखपुर महोत्सव की तैयारियों की प्रगति की जानकारी भी प्राप्त की।

यह भी पढ़ें: ओपी सिंह होंगे उत्तर प्रदेश के नए डीजीपी, सुलखान सिंह आज होंगे रिटायर

Share it
Top