सम्भल के इस गाँव में गरमाया माहौल, घर छोड़कर गये अनेक परिवार

सम्भल के इस गाँव में गरमाया माहौल, घर छोड़कर गये अनेक परिवारसम्भल के इस गाँव से घर छोड़कर गये अनेक परिवार।

सम्भल (भाषा)। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों में इस समय माहौल गरमाया हुआ है। सहारनपुर के बाद अब सम्भल से कुछ परिवारों के पलायन की खबरें आ रही हैं। खबर के मुताबिक, सम्भल स्थित नन्दरौली गाँव में एक वर्ग के युवक द्वारा दूसरे समुदाय की विवाहिता को अपने साथ ले जाने के बाद उत्पन्न तनाव के बीच अल्पसंख्यक समुदाय के अनेक परिवार अपना घर छोड़कर चले गये हैं।

उत्तर प्रदेश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

नन्दरौली गाँव में अलग-अलग समुदायों से ताल्लुक रखने वाले युवक और एक विवाहिता के बीच आशनाई और महिला को अपने साथ ले जाने के मामले ने साम्प्रदायिक रूप ले लिया था। गत 10 मई को पुलिस की मौजूदगी में वर्ग विशेष के लोगों के घरों में तोडफोड के बाद गांव में डर और आशंका का माहौल देखकर अल्पसंख्यक समुदाय के 10-15 परिवार पलायन कर गये हैं।

पुलिस अधीक्षक रवि सिंह छवि भी मानते हैं कि लोग डर की वजह से अपना घर छोड़कर रिश्तेदारों के घर चले गये हैं, लेकिन वह इसे पलायन की श्रेणी में नहीं रखते।

उन्होंने एक बातचीत में कहा, ‘‘लोगों ने पलायन नहीं किया है। वो अगल-बगल की रिश्तेदारी में चले गए हैं। माहौल थोड़ा सही हो जाएगा तो आ जाएंगे। लोग डर के मारे चले गए हैं, लेकिन पलायन नहीं हुआ है। पलायन का मतलब दूसरा होता है। कोई अपना सब-कुछ बेचकर चला जाए, उसे पलायन कहा जाता है।'' इस बीच, नन्दरौली गांव निवासी सगीर अहमद ने बताया कि गांव में एक वर्ग विशेष के लोगों द्वारा पिछली 10 मई को जिस तरह की तोड़फोड़ की गयी, उसकी दहशत के चलते अल्पसंख्यक वर्ग के 10-15 परिवार अपने घर में ताला लगाकर और घर का सामान ले कर चले गए हैं।

उन्होंने कहा कि जिस तरह पुलिस के सामने घरों में तोड़फोड़ किये जाने के साथ-साथ सामान में आग लगायी गयी, उससे हम खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं, इसके चलते हम घर का सामान समेट कर किसी और ठिकाने पर जा रहे हैं।

नन्दरौली के ही रहने वाले शानू मियां ने भी कुछ ऐसी ही दास्तां बयान की है। उनका कहना है कि वह भी अन्य लोगों की तरह अपना सामान बांधकर परिवार के साथ अपनी रिश्तेदारी में जा रहे हैं। माहौल ठीक होने पर देखा जाएगा। इस बीच, प्रशासन ने नन्दरौली गांव में गत 10 मई की रात को एक वर्ग के लोगों के घरों में तोड़फोड़ के दौरान तमाशबीन बने चार पुलिसकर्मियों को निलम्बित कर दिया है।

अपर पुलिस अधीक्षक पंकज पांडेय ने बताया कि नन्दरौली मामले मे 10 मई की रात को पुलिस की मौजूदगी में एक वर्ग के घरों में तोडफोड तथा आगजनी के दौरान गाँव में तैनात हेड कांस्टेबल मलखान सिंह तथा अशोक कुमार, कांस्टेबल सहदेव सिंह और अमर पाल सिंह को निलम्बित कर दिया गया है।

उन्होंने बताया कि उपद्रव के दौरान ड्यूटी पर तैनात 23वीं वाहिनी पीएसी के जवानों पर कार्रवाई के लिए सम्बन्धित कमांडेंट को पत्र लिखा गया है। इस मामले में एक पक्ष के सात लोगों तथा विवाहिता को अपने साथ ले जाने के आरोपी युवक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top