धांधली की शिकायतों पर योगी सरकार ने रोका 46 मदरसों का अनुदान

धांधली की शिकायतों पर योगी सरकार ने रोका 46 मदरसों का अनुदानप्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने सूबे के मदरसों को तगड़ा झटका दिया है। सरकार ने राज्य के 46 मदरसों को मिलने वाली अनुदान राशि पर रोक लगा दी है। डीआईओएस की रिपोर्ट के बाद यह रोक लगाई गई है। इन मदरसों के खिलाफ मानकों के हिसाब से काम नहीं करने की शिकायत मिली थी।

560 मदरसों को अनुदान देती है सरकार

उत्तर प्रदेश 560 मदरसों को अनुदान राशि देती है। इस अनुदान राशि में शिक्षकों की सैलरी और रख रखाव का खर्च शामिल होता है। इस संबंध में मिली शिकायत के मुताबिक इन मदरसों में सैलरी तो कम दी जाती है, लेकिन हस्ताक्षर ज्यादा पर करवाया जाता है यानी रिकॉर्ड में जितनी सैलरी दी जाती है, उससे ज्यादा दिखाई जाती है।

ये भी पढ़ें:- कहीं खतरनाक गेम तो नहीं बन रहे बच्चों की मौत की वजह

मदरसों पर लगा पढ़ाई-लिखाई नहीं कराने का आरोप

इन मदरसों पर पढ़ाई लिखाई सिर्फ कागजों में ही दिखाए जाने का आरोप है. आरोप है कि इन मदरसों में पढ़ाई लिखाई नहीं होती है, बल्कि कागजों में दिखाया जाता है। इससे पहले योगी सरकार ने आदेश जारी कर सूबे के सभी मदरसों को हिंदी में मदरसे का नाम, खुलने और बंद होने का वक्त समेत तमाम जानकारियां लिखनी होंगी।

ये भी पढ़ें:- फर्जी बाबाओं की लिस्ट में गंभीर आरोपों से घिरे इन बाबाओं का नाम क्यों नहीं है ?

मदरसों के खुलने और बंद होने का बोर्ड पर लिखना होगा समय

इस पर यूपी सरकार के मंत्री बलदेव सिंह ओलख ने कहा था कि ये आदेश इसलिए दिया गया ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग जान सकें कि आखिरकार इस मदरसे का नाम क्या है? साथ ही ये भी लोग जान सकें कि यहां किस तरह की पढ़ाई होती है। मदरसों के खुलने और बंद होने का वक्त भी अब बोर्ड पर लिखना होगा।

ये भी पढ़ें:- ऑनलाइन गेम ‘ब्लू व्हेल चैलेंज’ पर सरकार ने लगायी रोक

ये भी पढ़ें-ख़बर जो सवाल खड़े करती है : भारत में दूध उत्पादन तो खूब हो रहा है लेकिन पीने को नहीं मिल रहा है

ये भी पढ़ें:- सरकारी रिपोर्ट : किसान की आमदनी 4923 , खर्चा 6230 रुपए

यह भी पढ़ें- Video : यूपी बोर्ड में इस बार स्वकेन्द्र परीक्षा नहीं

ये भी पढ़ें:- वे बेजुबान हैं लिहाजा सरकारी नीतियों से बाहर हैं, हर साल अनदेखी से मर जाते हैं 1 लाख पशु

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

First Published: 2017-09-13 15:59:37.0

Share it
Share it
Share it
Top