योगी आदित्यनाथ ने कहा, प्रदेश में कम हुए अपराध

योगी आदित्यनाथ ने कहा, प्रदेश में कम हुए अपराधवाराणसी के दीनदयाल राजकीय अस्पताल में बच्चों से हालचाल पूछते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।  

वाराणसी। वाराणसी के दो दिवसीय प्रवास पर आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में अपराध कम हुए हैं और सभी मामले दर्ज हो रहे हैं। मुख्यमंत्री ने विभिन्न विभागों के साथ हुई समीक्षा बैठकों और थानों के निरीक्षण के बाद कहा, “लोगों को लग रहा है कि पहले की अपेक्षा अपराध बढ़े हैं, लेकिन ऐसा नहीं है। अपराध कम हुए हैं, परन्तु सभी मामले दर्ज होने के कारण अपराध की संख्या ज्यादा दिख रही है।’’

उन्होंने कहा, “हमारी सरकार का प्रयास समाज के हर व्यक्ति को न्याय दिलाने का है। हमारा प्रयास है कि कोई प्रताड़ित न हो। प्रत्येक व्यक्ति का विकास हो।’’ दौरे के दूसरे दिन मुख्यमंत्री ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में कैंट थाना और दीनदयाल राजकीय अस्पताल का निरीक्षण किया। कैंट थाना के निरीक्षण के दौरान मुख्यमंत्री ने प्रदेश में सभी विवादित जमीनों की तीन महीने में पैमाइश कराने का निर्देश दिया। दीनदयाल राजकीय अस्पताल के निरीक्षण के दौरान उन्होंने चिकित्सकों को सभी का समुचित इलाज करने का निर्देश दिया। अस्पताल में कुल 365 दवाओं के सापेक्ष मात्र 100 दवाओं की उपलब्धता होने की जानकारी पर उन्होंने अन्य आवश्यक दवाओं का शीघ्र व्यवस्था सुनिश्चित करने और किसी भी स्थिति में दवाओं की कमी ना होने देने को लेकर सख्त हिदायत दी।

उन्होंने अस्पताल के नि:शुल्क पैथोलॉजी सहित डिजिटल एक्स-रे आदि की भी जानकारी ली। उन्होंने वार्डों में भर्ती मरीजों का हाल चाल जानने के दौरान चिकित्सकों को नियमित रूप से मरीजों की देखभाल करने का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री ने शनिवार दोपहर वाराणसी पहुंचने के बाद आयुक्त सभागार में करीब चार घंटे तक विकास कार्यों एवं कानून व्यवस्था की समीक्षा कर सभी अधिकारियों से उनके विभागों की जानकारी ली थी।

ये भी पढ़ें:मोदी ऐसे आदमी जो गंजे को भी कंघी बेंच दें : संजय सिंह

समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमंत्री लोक निर्माण, नगर निगम, जल निगम और जलकल विभागों से उनके काम की गति को लेकर नाराज थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने दो दिनी प्रवास पर शनिवार दोपहर वाराणसी पहुंचे। इन विभागों के अधिकारियों को चेतावनी देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इतनी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी वाले यह विभाग अभी भी पूरी रफ्तार से काम नहीं कर पा रहे हैं।

पुलिस अधिकारी गश्त करें

योगी आदित्यनाथ ने पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिया कि वह रोज कम से कम 45 मिनट पैदल गश्त करें। उन्होंने डायल 100 की सुविधा को प्रभावी बनाने पर विशेष जोर देते हुए कहा कि सुनिश्चित करें कि इन वाहनों की गश्त से अपराध कम हों।’’ भू-माफिया के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का निर्देश देते हुए उन्होंने कहा, ‘’किसी गरीब का उत्पीड़न नहीं होना चाहिए। जिसने भी भूमि पर गलत कब्जा कर निर्माण करवाया है, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए।’’

Share it
Share it
Share it
Top