यूपी : नकल माफिया पर सख्त होगी सरकार, कोचिंग चलाने वाले शिक्षकों पर होगी एफआईआर

यूपी : नकल माफिया पर सख्त होगी सरकार, कोचिंग चलाने वाले शिक्षकों पर होगी एफआईआरउत्तर प्रदेश में बाेर्ड परीक्षाओं के समय कई जगहों से नकल की खबरें मिली थीं।

लखनऊ (भाषा)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य की शिक्षा व्यवस्था में सुधार की आवश्यकता महसूस करते हुए आज चेतावनी दी कि नकल माफिया से सख्ती से निपटा जाएगा। उन्होंने कोचिंग चलाने वाले शिक्षकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश भी दिए। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने आज बताया कि मुख्यमंत्री महसूस करते हैं कि राज्य की शिक्षा व्यवस्था में काफी सुधार की आवश्यकता है।

ये भी पढ़ें- नकल पर नकेल के लिए योगी सरकार सख्त, जारी किए गए हेल्पलाइन नंबर

राज्य सरकार इसे सुधारने के लिए हरसम्भव प्रयास करेगी। ‘‘जहां एक तरफ यह प्रयास किया जाएगा कि सभी परीक्षाएं समय पर हों, वहीं दूसरी तरफ राज्य सरकार यह भी कोशिश करेगी कि नकल पर पूरी तरह से लगाम लगे।'' उन्होंने कहा, ‘‘राज्य सरकार नकल करवाने वालों तथा ऐसे केंद्रों पर सख्त कार्रवाई करेगी। नकल पर हर हाल में रोक लगाई जाएगी। दागी केंद्रों को चिह्नित कर उन्हें ब्लैक लिस्ट करने के साथ-साथ उनके खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज कराई जाएगी।''

गाँव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

योगी ने सोमवार देर रात शास्त्री भवन में शिक्षा को लेकर हुए प्रस्तुतिकरण के दौरान कहा कि प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था का स्तर सुधारने के लिए नकल माफिया से निपटना आवश्यक है. इसके लिए सरकार सभी प्रभावी कदम उठाएगी। उन्होंने सरकारी शिक्षकों द्वारा कोचिंग चलाने पर सख्त रवैया अपनाते हुए ऐसे शिक्षकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

ये भी पढ़ें- नकल पर सख्त हुई योगी सरकार, 54 केंद्रों की परीक्षा रद्द, 7 जिलों के अधिकारियों को नोटिस

नकल का एक और दृश्य।

‘‘हर हाल में यह सुनिश्चित किया जाए कि विद्यालयों में अधिकतम 200 दिन के अन्दर कोर्स पूरा कराया जाए। विद्यालयों में शिक्षकों की उपस्थिति की लगातार मॉनीटरिंग की जाए। सभी विद्यालयों में शिक्षकों तथा छात्रों की नियमित उपस्थिति बायोमीट्रिक्स के माध्यम से मॉनीटर की जाए। साथ ही विद्यालयों में नियमित पढाई सुनिश्चित की जाए।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top