यूपी : पुलिस कर्मियों को मिलेगी मजबूत भवनों की सुरक्षा, कैबिनेट बैठक में प्रस्ताव पास 

Abhishek PandeyAbhishek Pandey   26 Sep 2017 6:35 PM GMT

यूपी : पुलिस कर्मियों को मिलेगी मजबूत भवनों की सुरक्षा, कैबिनेट बैठक में प्रस्ताव पास यूपी पुलिस के जर्जर सरकारी भवन 

लखनऊ। अंग्रेजों के समय में बने पुलिस भवनों में यूपी पुलिस के जवान अपनी जान दांव पर लगा कर ड्युटी कर रहे थे। इन भवनों में पुलिसकर्मी अक्सर खुद को असुरक्षित महसूस करते थे, कि जाने कब जर्जर भवन उनकी मौत का काल न बन जाये।

ये भी पढ़ें-बीएचयू हिंसा मामले में यूपी सरकार ने न्यायिक जांच के आदेश दिए

पुलिस कर्मियों की इस असुरक्षा को देखते हुए मंगलवार सुबह कैबिनेट बैठक में योगी सरकार ने प्रदेश में पुलिस के जर्जर भवनों को ढहाने का फैसला किया है। पुलिस कर्मियों के जर्जर भवनों को ध्वस्त करने में राज्य सरकार को 19 लाख रुपए का खर्चा उठाना पड़ेगा। राज्य सरकार ने इसके पीछे अपने जवानों की सुरक्षा को प्राथमिकता देना और जर्जर भवनों के स्थान पर नये भवन बनायेगी। जिसे बेहद ही सुरक्षित और आरामदायक बनाया जायेगा।

योगी सरकार ने जारी किया श्वेत पत्र।

दूसरों की सुरक्षा में 24 घंटे तैनात रहने वाले पुलिस कर्मचारी खुद को अक्सर असुरक्षित महसूस करते हैं। इसके पीछे सबसे मुख्य वजह उन पुलिस भवनों को माना जा रहा है, जिनका निर्माण अंग्रेजों के वक्त किया गया था। इन जर्जर आवासों में कई बार बड़े हादसे हो चुके हैं, लेकिन इस ओर पुलिस के बड़े अधिकारियों का भी ध्यान नहीं जा रहा था। पुलिस कर्मियों की माने तो ज्यादातर भवन जर्जर पड़े हैं, जहां हर वक्त पुलिस कर्मी और उनका परिवार असुरक्षित महसूस करता है। जर्जर भवनों की बात करें तो प्रदेश में पुलिस कर्मियों के रहने वाले बैँरक ऐसे है कि जहां जानवर भी अपना दिन न बीता सके। वहीं कुछ पुलिस कर्मी सरकारी आवास रहने के बावजूद भी किराए में आवास लेकर रहने को मजबूर हैं, इसके पीछे वजह जर्जर पुलिस के भवनों को माना जा रहा है।

ये भी पढ़ें-बीएचयू हिंसा मामले में यूपी सरकार ने न्यायिक जांच के आदेश दिए

योगी कैबिनेट के जर्जर भवन ध्वस्त करने की सूचना जैसे ही पुलिसकर्मियों के बीच गई उनके अंदर मानों एक नई उर्जा उत्पन्न हो गई। आईजी रेंज के कार्यालय मेँ तैनात सिपाही पवन ने कहा कि, जर्जर भवन ध्वस्त होने के बाद अगर सरकार जल्दी ही नये भवनों का निर्माण करवा दे तो सरकारी आवासों की कमी भी दूर हो जायेगी और नये भवनों में हम खुद को बेहद सुरक्षित महसूस करेंगे। वहीं बाराबंकी जिले में तैनात दरोगा पंकज सिंह ने कहा कि सरकार के इस फैसले से लगा कि मुख्यमंत्री जी को पुलिस कर्मियों और उनके परिवार की बेहद चिंता रहती है। सोनभद्र में तैनात दरोगा मनोज सिंह ने कहा कि, जर्जर भवनों के गिराने के आदेश से नये भवनों के बनने का रास्ता साफ हो जायेगा। वहीं सरकार के इस फैसले पर आईजी रेंज जेएन सिंह ने कहा कि, समय-समय पर जर्जर भवनों के सुधार के लिए जिलों के एसपी को निर्देश देता रहा हूं, लेकिन सरकार के इस फैसले के बाद नये भवनों के बनने का रास्ता साफ हो गया है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top