‘नमामि देवी नर्मदे-सेवा यात्रा’ की तर्ज पर ‘नमामि गंगे’ परियोजना चलाएंगे : योगी

गाँव कनेक्शनगाँव कनेक्शन   28 April 2017 10:05 PM GMT

‘नमामि देवी नर्मदे-सेवा यात्रा’ की तर्ज पर ‘नमामि गंगे’ परियोजना चलाएंगे : योगीडिंडौरी में मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के साथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।

डिंडौरी (मप्र)। गंगा नदी के संरक्षण के लिए चलाई जा रही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की महत्वाकांक्षी योजना ‘नमामि गंगे' को सबसे बड़ी चुनौती मानते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज कहा कि वह मध्यप्रदेश में चल रही ‘नमामि देवी नर्मदे-सेवा यात्रा' की तर्ज पर ‘नमामि गंगे' परियोजना को चलाएंगे, ताकि गंगा को भी निर्मल, स्वच्छ एवं अविरल बनाया जा सके। ‘नमामि देवी नर्मदे -सेवा यात्रा' में डिंडौरी जिले के शहपुरा कस्बे में भाग लेने आए योगी ने जनसंवाद कार्यक्रम में कहा, ‘‘उत्तर प्रदेश में हमारे सामने ‘नमामि गंगे' चुनौती है।

यह प्रधानमंत्री की योजना है। मध्यप्रदेश में चल रही ‘नमामि देवी नर्मदे -सेवा यात्रा' की तर्ज पर ‘नमामि गंगे' परियोजना को चलाएंगे, ताकि गंगा को भी निर्मल, स्वच्छ एवं अविरल बनाया जा सके।'' उन्होंने कहा कि हम उत्तरप्रदेश की अन्य नदियों यमुना, गंधक, राप्ती एवं अन्य नदियों को भी नया जीवन देने के लिए इस तरह का अभियान चलाएंगे, जिस तरह से नर्मदा नदी के लिए चलाया जा रहा है।

नर्मदा नदी के संरक्षण को मूर्त रूप देने के लिए मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि चौहान ने आज दुनिया की जो आवश्कता है, उसे मूर्त रुप करके दिखा दिया है। उन्होंने कहा कि ‘नमामि देवी नर्मदे -सेवा यात्रा' देश की ही नहीं, बल्कि दुनिया की सबसे बड़ी नदी संरक्षण योजनाओं में से एक है।

योगी ने कहा, ‘‘मुझे उत्तरप्रदेश का मुख्यमंत्री बने हुए लगभग एक महीना कुछ दिन हुआ है, लेकिन उत्तरप्रदेश में हम लोगों के सामने एक चुनौती है और वह है ‘नमामि गंगे' परियोजना, जो प्रधानमंत्री मोदी की अत्यंत महत्वाकांक्षी योजना है।'' उन्होंने कहा गंगा की पवित्रता एवं अविरलता को हम कैसे बनाये रख सकते हैं, इसके लिए मोदी जी ने ‘नमामि गंगे' परियोजना के लिए 20,000 करोड़ रुपए की एक वृहद योजना तैयार की है। पिछली सरकार पर उत्तरप्रदेश में कोई कार्य नहीं करने का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री योगी ने कहा, ‘‘मेरे सामने सबसे बड़ी चुनौती थी कि आखिर किस रूप में मैं योजनाओं को मूर्त रूप दूं।

अक्सर मेरे कानों में गूंज रहा था कि शिवराज जी ने मध्यप्रदेश में ‘नमामि देवी नर्मदे-सेवा यात्रा' प्रारंभ की है और एक बार वहां जाकर देखना चाहिए कि कैसे यह कार्यक्रम हो रहा है और उसी की तर्ज पर ‘नमामि गंगे' योजना को हम आगे बढायें।'' उन्होंने कहा, ‘‘मुझे आज सौभाग्य प्राप्त हुआ है और आप सब के उत्साह को देख कर मैं अत्यंत अभिभूत हूं, क्योंकि 42 से 45 डिग्री सेल्सियस तापमान की चिलचिलाती धूप में भी इतनी बडी तादात में लोग कलश लेकर आधा किलोमीटर की यात्रा कर रहे हैं और कई स्थानों पर यह यात्रा निरंतर जारी है।''

योगी ने कहा कि सनातन धर्म में ऐसा कोई व्यक्ति नहीं होगा, जो प्रात: काल स्नान करते समय देश की सात पवित्र नदियों का स्मरण न करता हो। चाहे उसने उनके दर्शन न भी किये हों, लेकिन वह सिर पर एक लोटा जल डालते वक्त सात नदियों कृष्णा, यमुना, गंगा, गोदावरी, सिंधु, कावेरी एवं नर्मदा का स्मरण करता है. उसको लगता है कि इन सभी नदियों का पानी सिर पर गिरा करके वह अपने सभी पापों से मुक्त हो रहा है।'' उन्होंने कहा कि 15 साल पहले पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था कि यदि अगला विश्व युद्ध होगा, तो वह जल को लेकर होगा। योगी ने कहा कि कई प्राचीन सभ्यताएं नदियों के तट पर ही विकसित हुई, लेकिन हमने अपने हितों के लिए नदियों को ही नष्ट करना शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि आज प्रयाग में त्रिवेणी में गंगा-जमुना के ही दर्शन होते हैं, सरस्वती नदी के नहीं, क्योंकि यह लुप्त हो गई है।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री चौहान को योग्य एवं सक्षम नेतृत्व वाला नेता बताते हुए उन्होंने कहा कि चौहान ने मध्यप्रदेश को बीमारु प्रदेश से अग्रणी प्रदेश बनाया, कृषि उत्पादन में मध्यप्रदेश को देश का अग्रणी राज्य बनाया, सिंचाई के साधनों में प्रगति की है, सड़कें, विद्युत एवं पानी की समस्या दूर करने के साथ-साथ कई जन कल्याणकारी योजनाएं चलाई हैं।'' इस मौके पर योगी के अलावा मुख्यमंत्री चौहान, केंद्रीय मंत्री राम कृपाल यादव एवं कई साधु-संन्यासी मौजूद थे।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top