क्षमता से ज्यादा आलू रखने से हुआ कानपुर के कोल्ड स्टोरेज में धमाका ?

क्षमता से ज्यादा आलू रखने से हुआ कानपुर के कोल्ड स्टोरेज में  धमाका ?कोल्ड स्टोरेज में धमाके के बाद घायल मजदूरों को बाहर निकालते लोग। 

राजीव शुक्ला, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

कानपुर। कोल्ड स्टोरेज बिल्डिंग में हादसे के बाद राहत और बचाव कार्य युद्ध स्तर पर जारी है। बिल्डिंग के मलबे में दबे मजदूरों और कर्मचारियों को बाहर निकालने के लिए सेना की मदद ली गई है। वहीं आमोनिया गैस के रिसाव को देखते हुए पास के कई गांव खाली कराया गया है। बताया जा रहा है ज्यादा आलू स्टोरेज के चलते ये हादसा हुआ है।

कानपुर में कोल्ड स्टोरेज बिल्डिंग गिरी, आलू ढो रहे 40 से ज्यादा मजदूरों के दबे होने की आशंका

कानपुर के शिवराजपुर इलाके के कटियार कोल्ड स्टोरेज में बुधवार की दोपहर धमाके के साथ बिल्डिंग की छत ढह गई। बिल्डिंग काफी बड़ी थी और उसके नीचे सैकड़ों मजदूर काम कर रहे थे। हादसे के बाद चारों तरफ चीख पुकार मच गई। जानकारी के मुताबिक मलबे में 100 मजदूर दबे हो सकते हैं। जिलाधिकारी कानपुर ने एक मजदूर की मौत की पुष्टि की है। जबकि एक दर्जन से ज्यादा घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया है। बताया जा रहा है, बिल्डिंग का एक हिस्सा कुछ देर पहले और गिर गया है। मलबे में दबे मजूदरों में आलू रखऩे वाले पल्लेदार सबसे ज्यादा हैं, जो बिहार के बताए जा रहे हैं। जबकि कुछ किसान और मजदूर कन्नौज और फरुर्खाबाद के भी हैं।

कानपुर जिला मुख्यालस से 33 किलोमीटर पश्चिम दिशा में मणिपालपुर के कटियार कोल्ड स्टोरेज में इस बार आलू रखने के लिए दो नए चैंबर बनाए गए थे। कोल्ड स्टोरेज में आलू रखने का काम जारी था, इसी दौरान अमोनिया गैस का रिसाव शुरु हो गया, इससे पहले मजदूर कुछ समझते और बाहर निकलते अमोनिया गैस के सिलेंडर फटने से तेज आवाज़ में धमाका हुआ और बिल्डिंग की छत भरभराकर गिर गई।

कानपुर के कोल्ड स्टोरेज में हादसे के बाद राहत और बचाव कार्य जारी।

घटना की जानकारी लगते ही जिलाधिकारी और एसएसपी मौके पर पहुंच गए हैं। दमकल और अन्य बचाव के वाहन और लोग भी पहुंचे लेकिन अंदर से आमोनिया गैस के लगातार रिसाव के चलते लोगों को बचाव कार्य में परेशानी हुई। शुरुआत में स्थानीय लोग और दमकल कर्मचारियों ने मिलकर राहत और बचाव अभियान चलाया लेकिन बाद में सेना को लगाया गया।

गैस रिसाव के चलते आसपास के लोगों की आंखों में चलन होने लगी थी, पास जाने वाले लोगों को सांस लेने में भी दिक्कत हो रही थी।

बताया जा रहा है इसी के चलते पड़ोस के गांव से लोगों को गांव खाली कर दूर जाने की हिदायत दी गई है। मजदूरों की संख्या को देखते हुए हैलट में अलर्ट किया गया है। बताया जा रहा है आलू की बंपर पैदावार के चलते स्टोरेज मालिक ने क्षमता से अधिक आलू रख लिए थे, जिसके चलते ये हादसा हुआ है। बताया जा रहा आलू की पैदावार और कम रेट के चलते स्टोर मालिकों पर ज्यादा से ज्यादा आलू रखऩे के लिए किसान भी दबाव डाल रहे हैं।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top