छोटे शाह जियारत मदरसा में बुनियादी सुविधाओं का भी अभाव

छोटे शाह जियारत  मदरसा में बुनियादी सुविधाओं का  भी अभावछोटे शाह जियारत मदरसा में सुविधाओं के अभाव को लेकर शिकायत करते समाज के लोग।

अमित शर्मा, कम्यूनिटी जर्नलिस्ट

कश्मीर। जम्मू कश्मीर की विभिन्न जियारतों में से एक प्रसिद्ध एवं ऐतिहासिक छोटे शाह जियारत मदरसा पर विकास के नाम की कोई चीज नहीं दिख रही है। पुंछ जिले की तहसील मेंढर से 8 किलोमीटर दूर यह जियारत है, जहां रोजाना सैकड़ों की संख्या में लोग आते हैं। बावजूद इसके जियारत में जो मदरसा है, वहां कोई भी सुविधा नहीं है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

यहां पढ़ने वाले बच्चों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। समाज के लोगों ने बताया कि हर जगह खस्ताहाल है। पानी की सुविधा नहीं है बच्चों को ठीक प्रकार से खाना नहीं मिल रहा है। लोगों का सवाल है कि जियारत में जो चढ़ाव होता है, उस का क्या हिसाब है, साथ ही वो पैसा कहां जाता है। यहां पर प्रशासन की ओर से भी एक स्कूल खोला जा रहा है, लकिन समाज के लोगों की यही मांग है कि अगर स्कूल में इस्लामिक शिक्षा भी दी जाती है, तो ही हम इस स्कूल का तहेदिल से स्वागत करेंगे। वहीं कुछ लोगों का कहना है कि 'हम चाहते हैं की स्कूल और मदरसा दोनों साथ चले ता की बचूं को दोनों शिक्षाएं प्रप्त हो सके।'

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top