विकास कार्यों में ढिलाई की तो खैर नहीं

विकास कार्यों में ढिलाई की तो खैर नहींgaoconnection

लखनऊ। सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ ग्रामीणों को हर हाल में मुहैया कराने के लिए जिलाधिकारी ने लेखपालों, कोटेदारों समेत जिले की सभी आशा बहुओं के साथ कार्यशाला में हिस्सा लिया। इस दौरान इन सभी की समस्याओं को लेकर भी डीएम ने चर्चा की।

गोमती नगर एक्सटेंशन स्थित सीएमएस के सभागार में आयोजित कार्यशाला में लेखपालों, कोटेदार, प्रधान, डीएलओ, सेकेटरी, एनम, आशा बहू, वीडीओ के कार्यों में पारिदर्शिता लाने और कार्य करने के तरीकों पर विचार विमर्श किया गया। डीएम राजेशखर ने निर्देश देते हुए कहा कि गाँवों में विकास करने के लिए योजनाओं को आगे बढ़ाने के लिए प्रयास किया जाये। इसमें लापरवाही करने वाले सभी कर्मचारियों और अधिकारियों को तत्काल सस्पेंड कर दिया जाएगा।

कार्यशाला में गाँवों के विकास में जरूरत क्या है, कैसे ग्रामीण किसान, पशुपालक योजनाओं का लाभ लें, इस बात पर भी चर्चा की गई। कोटेदार संघ के अध्यक्ष आशीष सिंह ने इस दौरान कहा कि अक्सर शराब पीने वाले ग्रामीण हमारी दुकान पर आकर कहते हैं 50 रुपए दे दो, राशन रख लो।

इससे उसको पीने के पैसे मिल जाते और कोटेदार को भी लाभ मिल जाता है।  ग्रामीणों को योजना का लाभ मिले, हम इसका प्रयास करते हैं। कोटेदार को जो राशन दिया जा रहा है, उसकी सही तौल नहीं होती है। एक किलो चीनी की जगह आठ सौ ग्राम चीनी दे रहे हैं, गाँव वाले हमसे नाराज होते हैं, साथ ही राशन लाने तक का भाड़ा नहीं मिल रहा है। 

मुख्य विकास अधिकारी प्रशान्त शर्मा ने कहा कि विकास कार्य में कोई भी कमी नहीं आनी चाहिए। जो समस्या है उसे तुरन्त बताएं। मैं हर समय काम करने के लिए तैयार हूं, आप सभी अपनी समस्या हम तक जरूर बताएं। सभी गाँवों में तालाब, शौचालय, हैंडपम्प,पेंशन व राशन समय पर जरूर पहुंचे।

नहीं मिले हैण्डपम्प 

प्रधान संघ की अध्यक्षा श्वेता सिंह ने कहा कि पिछली बैठक में मुख्य विकास आधिकारी द्वारा हैंडपम्प की मांग पर स्वीकृत होने के बाद भी हैंडपम्प नहीं मिले हैं। रोड के किनारे लगे पेड़ों की डालों से वाहनों के लिए काफी समस्याएं आ रही हैं। डालों के झुक जाने के कारण वाहन स्वामियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

रोकें पेड़ों का कटान: डीएफओ

डीएफओ ने बताया कि प्रदूषण में लखनऊ 18 नम्बर पर है। बढ़ते तापमान और सूखे की समस्या से अगर निपटना है तो पेड़ों के संरक्षण और वृक्षारोपण करें। पेड़ों के कटान को रोकने का प्रयास करें। प्रधानों द्वारा लगाये गये पेड़ों का संरक्षण जरूरी है। लखनऊ में वन का प्रतिशत 4.051 प्रतिशत है। बाहर से टीमों को बुलाकर योजना बना रहे हैं। पौधशाला में 17 लाख की संख्या में पौधे एकत्र हैं। जुलाई तक 13 लाख पौधाशाला तैयार हो जाएगी। 

पुलिस अधिकारियों की शिकायत गोपनीयता से करें

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मंजिल सैनी ने कहा कि यहां प्रधान महिलाओं को देखकर खुशी हुई। गाँवों की सुरक्षा मेरे लिए जरूरी है। ग्रामीणों की समस्याओं को आधिकारियों तक जरूर लाये, जिससे उचित कार्रवाई की जा सके। अगर किसी कार्य में पुलिस का हाथ है तो उसकी शिकायत गोपनीयता से जरूर करें ताकि उन पर कार्रवाई हो सके।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top