किसान आंदोलन की आग में सुलगता मन्दसौर 

Mithilesh DharMithilesh Dhar   8 Jun 2017 11:58 PM GMT

किसान आंदोलन की आग में सुलगता मन्दसौर प्रतीकात्मक फ़ोटो (साभार -नेट)

नीमच। मंदसौर में सुरक्षा बलों की बड़ी कार्रवाई में 6 किसानो के मरने के बाद मंदसौर सहित आसपास के जिलों में तनाव का माहौल व्याप्त है। मध्य प्रदेश में मंदसौर जाने वाले सभी रास्ते लगभग बंद हैं। ट्रेन और बस सेवाएं बाधित हैं। आज दोपहर मंदसौर में रेल की पटरियां उखाड़ दी गयीं। जो ट्रेनें खड़ी थी उसे वापस भेज दिया गया। ऐसे में हालात सुधरने की बजाय बिगड़ते जा रहे हैं।

गाँव कनेक्शन की ग्राउंड जीरो रिपोर्ट में हमारे संवाददाता मिथलेश दुबे के साथ उनके कैमरा सहयोगी विनय मोदी ने नीमच से हमें ये पूरी जानकारी मुहैया कराई है।


जब हम नीमच पहुंचें तो लोगों ने हमें बताया कि आज राहुल गांधी के साथ आये कुछ नेताओं को किसानों ने राजनीति करने के आरोप बंधक बना लिया है। हालाँकि अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है। ताजा जानकारी के अनुसार नीमच, रतलाम और मंदसौर के कलेक्टर बदले भी गये हैं।

किसानों से मिलने पहुँचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी (फ़ोटो साभार -नेट )

इससे पहले बुधवार को सुबह किसानों ने बरखेड़ापंत (रोड) जाम कर दिया था और किसानों को समझाने पहुंचे कलेक्टर स्वतंत्र कुमार के कपड़े फाड़ दिए थे।

कलेक्टर स्वतंत्र कुमार (फ़ोटो साभार -नेट )

जिला मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर बरखेड़ापंत में हालात सबसे ज्यादा बिगड़े हैं। वहां प्रदर्शनकारियों ने रेलवे लाइन की पटरियों को क्षतिग्रस्त कर दिया है। किसानों का गुस्सा देखते हुए राजस्थान मल्हारगढ़ के लिए जाने वाली सभी ट्रेनों को रास्ते में ही रोक दिया गया है और उसे वापस मंदसौर स्टेशन ले जाया जा रहा है।

यात्रियों की सुरक्षा के लिए एसएएफ की एक बटालियन घटनास्थल पहुंच गई है। लेकिन, किसान अब तक पटरियों पर अड़े हुए है। नीमच में हरदा के रास्ते भोपाल, मंदसौर और राजस्थान के यात्री भी फंसे हुए हैं।

ये भी पढ़ें- सिमकार्ड और गर्ल फ्रेंड ने बिगाड़ा भीम आर्मी के मुखिया का कनेक्शन, पहुंचा जेल

राजस्थान के भिलवाड़ा चितौड़ से मंदसौर जाने वाले सभी सरकारी और प्राइवेट वाहन की सुविधायें बंद है, भय के कारण बसें नीमंच से आगे नहीं बढ़ रही है। नीमच से पहले चित्तौड़ से आगे ट्रांसपोर्ट की सुविधा बिलकुल बंद है। चितौड़गढ़ में कल स्थानीय किसान संगठनों ने बंद का ऐलान भी किया है। मध्य प्रदेश के मंदसौर की हिंसा की लपटें अन्य राज्यों में भी आती दिख रही हैं। उत्तर प्रदेश के झाँसी में जहाँ किसानों के समर्थन में सुगबुगाहट दिखी तो वहीँ राजस्थान के चितौड़गढ़ में कल बंद का एलान किया गया है। राजस्थान का ये जिला मध्य प्रदेश के नीमच से सटा हुआ है।

ये भी पढ़ें- जिस भीम आर्मी का चीफ चंद्रशेखर आज गिरफ्तार हुआ है वो दलितों की आवाज़ है या कुछ और ?

वहीं यहाँ से मध्य प्रदेश जाने के लिए यातायात व्यवस्था पूरी तरह ठप है। मंदसौर में आज ट्रेन की पटरियां उखाड़ दी गयी हैं। जिस कारण उस रुट की सभी गाड़ियां रद्द हैं। जबकि प्राइवेट और सरकारी बसों की सेवाएं बंद कर दी गयी हैं। चितौड़गढ़ बस स्टॉप से आज सैकड़ों यात्री निराश होकर लौट चुके हैं। वहीं इस समय कुछ यात्री जो दूर से आये हैं, वे कल तक अपने गंतव्यय तक पहुंचने की उम्मीद कर रहे हैं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इस मसले पर जब हमने स्टेशन इंचार्ज खुमान सिंह जाला से बात की तो उन्होंने बताया कि बस सेवा दोबारा कब शुरू होगी, इसकी कोई जानकारी नहीं है। वहां हालात ख़राब हैं, इसलिए अभी कुछ कह नहीं सकते।

स्टेशन इंचार्ज खुमान सिंह जाला (फ़ोटो -विनय मोदी )

स्टेशन पर सुबह से इंतजार कर रहे यात्रि प्रह्लाद शुखवार, घनश्याम शर्मा और राजेंद्र जाट ने बताया कि उन्हें लगा कि स्थिति अब सामान्य है, लेकिन अब स्थिति पहले से ख़राब है।

प्रह्लाद शुखवार ने हमें बताया कि वे अपने बिज़नस के काम से नीमच जा रहे थे। लेकिन अभी कोई सूचना भी नहीं है कि बस कब चलेगी।

बस स्टॉप प्रह्लाद शुखवार(हरी शर्ट में), घनश्याम शर्मा (सफ़ेद शर्ट में)(फ़ोटो- विनय मोदी )

वहीँ भीलवाड़ा निवासी घनश्याम वर्मा ने बताया कि पहले वो रेलवे स्टेशन गये, जहाँ से उन्हें ट्रेन न चलने की बात पता चली। जब बस स्टॉप आया तो पता चला कि बस सेवाएं भी बंद हैं। घनश्याम मंदसौर जा रहे थे। वे अब यहीं बस स्टॉप पर सुबह होने तक का इंतजार करेंगे।

वहीं एक युवा राजेंद्र जाट, निवासी कपासन, ने बताया कि वे मंदसौर में पढ़ते हैं। वहां वे अपने कॉलेज टीसी निकालने के काम से जा रहे थे। घर दूर होने का कारण अब वो वापस अपने घर भी नहीं जा सकते।

राजेंद्र जाट (फ़ोटो -विनय मोदी )

शाजापुर में भी हिंसा भड़क गई है। पिपलिया गोपाल गांव में पथराव के दौरान एसडीएम राजेश यादव और दो जवान घायल हुए हैं। मंदसौर में किसान आंदोलन से निपटने में सामने आई एडमिनिस्ट्रेशन की खामी के चलते राज्य सरकार ने मंदसौर के साथ-साथ नीमच और रतलाम के कलेक्टर का भी ट्रांसफर कर दिया है।

मंदसौर कलेक्टर स्वतंत्र कुमार सिंह को डिप्टी सेक्रेटरी के रूप में भोपाल भेजा गया है। उनकी जगह शिवपुरी कलेक्टर ओमप्रकाश श्रीवास्तव को मंदसौर का कलेक्टर बनाया गया है। वहीं सागर के निगम कमिश्नर कौशलेन्द्र सिंह नीमच के नए कलेक्टर होंगे, जब कि तन्वी सुन्द्रियाल को रतलाम कलेक्टर बनाया गया है। तरुण राठी को शिवपुरी कलेक्टर बनाया गया है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.