Virendra Singh

Virendra Singh

Swayam Desk स्वयं कम्यूनिटी जर्नलिस्ट, बाराबंकी


  • यूपी: बैंक का कर्ज न चुका पाने के सदमे में एक किसान की मौत

    बैंक का कर्ज न चुका पाने से परेशान एक किसान की हृदयाघात से मौत हो गई। बैंक द्वारा मिली नोटिस से किसान काफी परेशान था। अपनी समस्या ने निजात पाने के चक्कर में मृतक किसान बैंक में कर्मचारियों से मुलाकात करने गया शाम को घर आने के बाद किसान की हृदयाघात से मौत हो गई।मामला बाराबंकी जिले के थाना मोहम्मदपुर...

  • हिन्दू और मुस्लिम मिलकर कर उड़ाते हैं गुलाल , जब निकलती है होरिहारों की बारात

    बेलहरा (बाराबंकी)। वैसे तो देश भर में कई इलाकों की होली बहुत खास होती है। उत्तर प्रदेश में ब्रज से लेकर बुंदेलखंड तक होली का अपना मजा है, तो बाराबंकी में भी देवां शरीफ की होली खेलने के लिए सैकड़ों लोग पहुंचते हैं, यहां हाजी वारिश अली शाह की दरगाह पर सौहार्द का रंग उड़ता है। बाराबंकी के ही बेलहरा...

  • सहफसली खेती बन रही इन किसानों को लिए मुनाफे की खेती 

    जैसे-जैसे खेती योग्य जमीन का दायरा सिमटता जा रहा है ऐसे में बाराबंकी के किसानों ने सहफसली खेती को प्राथमिकता देना शुरू कर दिया है और अब कई तरह की सह फसली खेती कर मुनाफा कमा रहे हैं।बाराबंकी जिले के अधिकतर ब्लॉकों में इस समय लहसुन के साथ हरी मिर्च की खेती बड़े पैमाने पर की जा रही है। जिला उद्यान...

  • पढ़ें कैसे लो-टनल व मल्चिंग तकनीक से सिंचाई का खर्च बचा रहे हैं किसान 

    धान-गेहूं और मोटे अनाजों की परंपरागत खेती के दायरे से बाहर निकलकर आधुनिक पद्धति को अपनाते हुए तराई क्षेत्र के किसानों ने भी खेती को फायदे का सौदा साबित कर रहे हैं।जिला मुख्यालय से 38 किलोमीटर उत्तर दिशा फतेहपुर ब्लॉक क्षेत्र के तराई अंचल के गंगापुर गाँव के किसान अश्वनी वर्मा (40 वर्ष) आधुनिक पद्धति...

  • मेंथा की नर्सरी का सही समय, नर्सरी लगाते समय करें बीजोपचार

    बाराबंकी। मेंथा की खेती करने वाले किसानों के लिए ये सही समय है, इस समय किसान मेंथा की खेती की शुरुआत कर सकते हैं।बाराबंकी के किसान रमेश चन्द्र मौर्य (60 वर्ष) कहते हैं, "अगेती मेथा की खेती करने वाले किसान जनवरी माह के प्रारंभ से ही मेथा की नर्सरी करना चालू कर देते हैं नर्सरी ठंड अधिक होने के कारण...

  • पान की खेती से किसानों का हो रहा मोहभंग, नई पीढ़ी नहीं करना चाहती खेती 

    वीरेन्द्र सिंह/राम गोपाल वर्मा, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्टरामसनेहीघाट (बाराबंकी)। एक समय था जब यहां के ज्यादातर किसान पान की खेती किया करते थे, लेकिन अब एक दो किसान ही पान की खेती करते हैं, जिसका मुख्य कारण पान का सही मूल्य न मिल पाना।जिलामुख्यालय से 32 किलोमीटर की रेहरिया गाँव विकास खन्ड बनीकोडर मे...

  • जल्द ही घर से ही मंडी चुन सकेंगे किसान : यूपी कृषि मंत्री

    बाराबंकी। जिले के फतेहपुर में एक किसान गोष्ठी का आयोजन किया गया। किसान गोष्ठी के दौरान “भगवद्गीता और संघ” नामक लघु पुस्तिका का विमोचन कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने किया।ये भी पढ़ें- भारत में काले टमाटर की दस्तक, आप भी कर सकते हैं इसकी खेतीउत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही ने कहा,...

  • मेंथा आॅयल के दाम बढ़ने से जड़ भी हुई महंगी, अगले महीने से होगी बुवाई

    इस बार मेंथा की कीमतों में जबर्दस्त उछाल आया, जिससे किसानों को अच्छा दाम मिला, इस बार मेंथा की खेती का रकबा भी बढ़ने की उम्मीद है।प्रदेश में अकेले बाराबंकी 33 प्रतिशत मेंथा आयल का उत्पादन करके पहला स्थान रखने वाला बाराबंकी मेथा की जड़ की खेती के लिए भी जाना जाता है। यहां से मेथा की जड़ का व्यापार...

Share it
Share it
Share it
Top