यौन पर्यटन और बाल पोर्नोग्राफी बच्चों के लिए बड़ा खतरा: राजनाथ

यौन पर्यटन और बाल पोर्नोग्राफी बच्चों के लिए बड़ा खतरा: राजनाथgaonconnection, यौन पर्यटन और बाल पोर्नोग्राफी बच्चों के लिए बड़ा खतरा: राजनाथ

नई दिल्ली (भाषा)। मानव तस्करी को एक बड़ी चुनौती बताते हुए केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने बुद्धवार को कहा कि यौन पर्यटन और बाल पार्नोग्राफी समेत अन्य मुद्दे बच्चों के लिए बड़ी चुनौती के तौर पर उभरे हैं।

बच्चों के खिलाफ हिंसा समाप्त करने के लिए दक्षिण एशियाई पहल (एसएआईईवीएसी) की चतुर्थ मंत्रिस्तरीय बैठक को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि बच्चों की सुरक्षा सबकी जिम्मेदारी है और इसलिए जितने भी संभव पक्ष हैं, जैसे: माता-पिता, शिक्षक, बच्चे और समुदाय उन सबको मिलकर काम करना चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘‘मानव तस्करी हम सबके लिए एक अन्य बडी चुनौती है। सूचना प्रौद्योगिकी तक बढ़ती पहुंच और हमारी वैश्वीकृत अर्थव्यवस्था की बदलती प्रकृति के मद्देनजर बच्चों के लिए नए खतरे उभर रहे हैं जिसमें यौन पर्यटन, बाल पोर्नोग्राफी, बच्चों को ऑनलाइन खतरा शामिल है।''

गृह मंत्री ने कहा कि साथ ही तेजी से हो रहे जलवायु परिवर्तन, आपदा और संघर्ष के कारण बडी संख्या में बच्चे प्रतिकूल तरीके से प्रभावित हो रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘हम तेजी से महसूस कर रहे हैं कि हम बच्चों की रक्षा करने के लिए खुद को प्रतिबद्ध नहीं कर सकते हैं जब तक कि हम उन्हें और उनके परिवारों को अति महत्वपूर्ण सामाजिक सुरक्षा नेटवर्क प्रदान नहीं करते। सबसे बडी चुनौती ऐसे बच्चों और उनके परिवार की पहचान करने की है जो संवेदनशील हैं और उनतक कैसे पहुंचा जाए।''     

सिंह ने कहा कि भारत में सरकार आधार से जोड़कर सामाजिक सुरक्षा के दायरे में बच्चों समेत सभी नागरिकों के लिए सुरक्षित वातावरण सुनिश्चित करने का प्रयास कर रही है। आधार-विशिष्ट पहचान पत्र उन्हें बिना किसी बाधा के उनका हक हासिल करने में सक्षम बनाएगा।

उन्होंने कहा, ‘‘हमने बच्चों को ट्रैक करने के लिए एक राष्ट्रीय पोर्टल स्थापित किया है, जिसपर गुमशुदा बच्चों पर न सिर्फ डाटा है बल्कि ‘बरामद' बच्चों की प्रगति की निगरानी के लिए लाइव डाटाबेस भी है जो विभिन्न बाल देखभाल संस्थानों में विभिन्न सेवाएं इस्तेमाल कर रहे हैं।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top