यहां बेटियों के नाम से हाती है घरों की पहचान

यहां बेटियों के नाम से हाती है घरों की पहचानgaonconnection

रायपुर (भाषा)। छत्तीसगढ़ में बालोद जिले के आधा दर्जन से भी अधिक गाँवों में घर के बाहर पालक या मुखिया की नहीं, बल्कि बेटी के नाम की तख्ती (नेम प्लेट) लगी है, क्योंकि अब बेटियां के नाम से घर की पहचान हो रही है। जिले के भरदाकला गाँव से बेटी को पहचान दिलाने की यह मुहिम शुरू हुई और हर ब्लॉक के शासकीय कन्या स्कूलों के माध्यम से कई गाँव में फैल गई। 

बेटियों के पालकों को इसके लिए जागरूक करने के लिए बालोद कलेक्टर द्वारा सामाजिक संस्था के माध्यम से 'प्रेरणा उड़ान एक नई सोच' अभियान चलाया जा रहा है। बेटियों को शिक्षा ही नहीं, हर क्षेत्र में आगे बढ़ाने, उन्हें प्रोत्साहित करने की मंशा से बालोद में पखवाड़े भर पहले प्रेरणा अभियान की शुरुआत भरदाकला से की गई। इसमें पालकों को शामिल किया गया और उनसे सुझाव भी लिया गया। घर की पहचान बेटी से हो, इसके लिए पालक भी राजी हो गए। इसके बाद यह अभियान जिले के हर ब्लॉक के कन्या स्कूलों में चलाया जा रहा है।

कलेक्टर बालोद के राजेश सिंह राणा ने बताया कि 'प्रेरणा उड़ान एक नई सोच' अभियान बेटियों पर केन्द्रित है। लोगों को बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के लिए प्रेरित करने के लिए ऐसा किया जा रहा है। बालोद के कई  गाँवों में विभिन्न आयु वर्ग की करीब 2,700 लडकियों के नाम की पट्टियां उनके घरों के बाहर लगाई गई हैं। इसमें जहां नेम प्लेट लगवाकर हर घर की पहचान बेटियों से होगी, वहीं स्कूलों में कार्यशाला आयोजित कर बेटियों को शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा की दिशा में जागरूक किया जाएगा। 

इन गाँवों में चल रहा अभियान

भरदाकला, डौंडी, कांदुल, दल्लीराजहरा सहित आसपास के गाँवों में चल रहे इस अभियान के बाद बेटियों के साथ उनके परिजन भी उत्साहित हैं। बेटियों के घरों के सामने उनकी नेम प्लेट लगाने का काम भी शुरू कर दिया गया है। अब तक 500 से अधिक घरों के सामने बेटियों के नाम की नेम प्लेट लग चुकी है।

पालक स्वयं आ रहे सामने

इस अभियान के तहत बेटियों को शिक्षा स्वास्थ्य और सुरक्षा के क्षेत्र में जागरूक किया जाना प्रमुख उद्देश्य है। कलेक्टर राजेश राणा ने इस काम में पर्यावरण मित्र बीरेद्र सिंह व अनीता उइके के अलावा महिला अफसर भी सहभागिता निभा रही हैं ताकि उनसे लड़कियां प्रेरित हों। पालक भी अब स्वयं सामने आ रहे हैं।

पर्यावरण संरक्षण का भी संदेश

बालोद के कलेक्टर राजेश सिंह राणा ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण का संदेश देने के लिए नेमप्लेट को हरे रंग से रंगा गया है और इस पर सफेद पेंट से नाम लिखे गए हैं।

अभियान में यह भी

प्रेरणा अभियान के तहत बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम कांदुल स्कूल में हुआ। कलेक्टर राजेश सिंह राणा ने छात्राओं को उनके कॅरियर के लिए मार्गदर्शन दिया। इसमें सीईओ पद्मनी साहू भी मौजूद रहीं। विवेकानंद स्कूल डौंडी में आयोजन के बाद छात्राओं ने नेम प्लेट अपने घर के बाहर लगवाए।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top