यूपी बना पसंदीदा फिल्म डेस्टिनेशन

यूपी बना पसंदीदा फिल्म डेस्टिनेशनgaon connection

जून महीने में ही एक साथ कई फिल्म यूनिट लखनऊ और अन्य इलाकों में शूट करने पहुंची। लखनऊ में जहां कुणाल खेमू व वर्तिका सिंह के साथ वीडियो अलबम ‘सांवरे’ की शूटिंग हुई वहीं राजधानी के ही ग्रामीण इलाकों में नवाजुद्दीन सिद्दीकी संग दिव्या दत्ता की ‘बाबूमोशाय बंदूकबाज’ की शूटिंग चल रही है। इसके अलावा यूपी के सूखाग्रस्त जिले बुंदेलखंड में इन दिनों फिल्म ‘तिल्ली’ की शूटिंग चल रही है। सागर शर्मा निर्देशित इस फिल्म की कहानी चूंकि सूखे से उपजे हालात के शिकार एक बच्चे तिल्ली (रिज़वान खान) के इर्द गिर्द घूमती है। 

सागर बताते हैं कि ‘तिल्ली’ बुदेलखंड और यूपी की एक अलग ही तस्वीर पूरे देश के सामने पेश करेगा। फिल्म में सूखे की विकरालता के साथ तिल्ली और उसके परिवार के बहाने इंसानी जद्दोज़हद को हमने पर्दे पर साकार करने की कोशिश की है। तिल्ली का दर्द बुंदेलखंड से निकलकर पूरे देश को झकझोरेगा। फिल्म की शूटिंग बुंदेलखंड के एक गाँव सौराठ में चल रही है। इस फिल्म में रघुवीर यादव और अतुल श्रीवास्तव के अभिनय का एक नया अवतार देखने को मिलेगा। सागर कहते हैं, ‘बुंदेलखंड के गाँव में शूट करना अपने आप में अलग अनुभव है। चूंकि फिल्म की कहानी बुंदेलखंड पर आधारित है इस लिहाज से यह बेहद सूटेबल लोकेशन है। 44- 45 डिग्री सेल्सियस की भीषण गर्मी में भी हमारी टीम इस गाँव के अलग-अलग लोकेशन पर शूट कर रही है लेकिन परेशानी किसी के चेहरे पर नहीं। लोकेशन की रियलिटी हमारी फिल्म की असली ताकत है।’

यूपी सरकार की फिल्म सब्सिडी योजना के बारे में सागर का कहना है कि फिल्म इंडस्ट्री के लोग यूपी की फिल्म नीति को लेकर बेहद उत्साहित हैं। यूपी में फिल्म बनाने पर सरकार की ओर से मिलने वाला अनुदान ऐसा प्रोत्साहन है जिसकी वजह से आने वाले समय में यहां और कई प्रोजक्ट आएंगे। मैंने खुद पंजाबी सिनेमा से हिंदी की ओर रुख किया है और मुझे यहां काम करते हुए बहुत अच्छा लग रहा है। प्रोत्साहन के रूप में जो राशि हमें मिल सकती है उससे हम एक बेहतर क्रिएटिव फिल्म बनाने का रिस्क ले सकते हैं। हमने ‘तिल्ली’ में सूखे जैसे विषय की गंभीरता के साथ फिल्म के कलात्मक स्तर और मनोरंजन का पूरा ख्याल रखा है।   

फिल्म में यूपी के कलाकारों को भी काम का मौका दिया गया है। सागर कहते हैं, ‘यहां के लोग भी बेहद अच्छे हैं। मैंने लखनऊ के पास एक गाँव राजाखेड़ा में भी एक हफ्ते तक शूटिंग की। हमें वहां के लोगों का ज़बर्दस्त सपोर्ट मिला। सितंबर के आखिर तक हम इस फिल्म को पूरा करने के लक्ष्य के साथ आगे बढ़ रहे हैं। 

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top