यूपी पंचायत चुनाव : भाजपा, कांग्रेस और सपा सबके प्रत्याशी धराशाई

यूपी पंचायत चुनाव : भाजपा, कांग्रेस और सपा सबके प्रत्याशी धराशाई

लखनऊ। जिला व क्षेत्र पंचायत के चुनावों की मतगणना चल रही है, आंकड़ों ने सबको चौंका दिया है| अब तक जिन भी जिलों के परिणाम घोषित हुए हैं, वहां भाजपा, कांग्रेस और सपा जैसी पार्टीयों द्वारा समर्थित प्रत्याशी हार गए हैं|

पंचायत चुनाव के नतीजों में कांग्रेस को करारा झटका लगा है। खुद कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की संसदीय सीट अमेठी में कांग्रेस का पत्ता साफ हो गया है। कांग्रेस अमेठी की जिला पंचायत की आठों सीटें हार गई है। 

प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में बीजेपी को करारा झटका लगा है। बीजेपी ने 48 में से सिर्फ 8 सीटें जीती हैं। पीएम मोदी के गांव जयापुर से बीजेपी प्रत्याशी रिंकू सिंह जिला पंचायत चुनाव हार गए हैं।

पीलीभीत से राज्यमंत्री हाजी रियाज अहमद के दो भाई, और दामाद जिला पंचायत सदस्य का चुनाव हार गए हैं। वहीं राज्यमंत्री राजीव कुमार सिंह के भतीजे भी चुनाव हार गए हैं, सपा विधायक पूर्णमासी देहाती की पत्नी और बहू भी चुनाव हार गई हैं। कुशीनगर से राज्यमंत्री राधेश्याम सिंह के भाई घनश्याम सिंह जिला पंचायत रामकोला वार्ड संख्या 15 से चुनाव हार गए हैं।

उधर सत्तारुढ़ समाजवादी पार्टी को भी झटका लगा है। समाजवादी पार्टी के कई मंत्रियों और पार्टी नेताओं के रिश्तेदार चुनाव हार गए हैं। वाराणसी में मंत्री सुरेंद्र पटेल के भाई महेंद्र पटेल की पत्नी शकुंतला देवी बीडीसी का चुनाव हार गई हैं।

यही नहीं बूथ कैप्चरिंग के आरोपी पैकफेड के चेयरमैन तोतराम 12 उम्मीदवारों में सबसे आखिरी नंबर पर रहे। जिस सीट पर तोताराम पर बूथ कैप्चरिंग के आरोप लगे वहां उन्हें महज 28 वोट मिले।

मथुरा के 38 वार्डों में 9 पर बीजेपी, 8 पर बीएसपी, 9 पर लोकदल, 9 पर निर्दलीय और 3 पर एसपी ने कब्जा किया है। पूर्व मंत्री श्याम सुंदर शर्मा के बेटे ललित शर्मा और पत्नी सुधा शर्मा जीतीं तो पूर्व मंत्री लक्ष्मी नारायण की पत्नी ममता चौधरी और भतीजे नरदेव भी जीते हैं।

Tags:    India 
Share it
Top