यूपी सरकार से मिल रहा फिल्म निर्माण को बढ़ावा

यूपी सरकार से मिल रहा फिल्म निर्माण को बढ़ावाGaon Connection

समय था जब बॉलीवुड के ज्यादातर फिल्ममेकर अपनी फिल्मों की शूटिंग के लिए किसी फॉरेन लोकेशन को ढूंढ़ते थे। अपर मिडिल क्लास कहानियों के बीच छोटे तबके की कहानियां कहीं दबी रह जाती थीं। हालांकि इस बीच कुछ फिल्ममेकर ऐसे भी रहे जिन्होंने उत्तर प्रदेश को बड़े पर्दे पर दिखाने का साहस किया। उनकी फिल्में चली भी और दर्शकों ने इसे बेहद पसंद भी किया। इनमें निर्देशक आनंद एल राय, अनुराग कश्यप, सुधीर मिश्रा और मुजफ्फर अली की फिल्में शामिल रहीं। इसके 2013 में जब अखिलेश सरकार ने प्रदेश में फिल्म शूटिंग करने वालों को ढाई करो़ड़ रुपए सब्सिडी देने की स्कीम निकाली तबसे कई निर्माता-निर्देशकों को लिए यूपी फेवरिट स्पॉट बन गया है।

कलाकारों को घर पर रहकर मिलता है काम

दिल्ली में पिछले दिनों हुए जेएनयू कांड को लेकर अभिनेता सतेंद्र यादव फिल्म ‘हीरो भइया’ बनाने जा रहे हैं। गौरतलब है कि सतेंद्र यादव इससे पहले फिल्म ‘जिला कन्नौज’ में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की भूमिका निभाकर काफी मशहूर हो चुके हैं। सतेंद्र यादव का कहना है कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का यूपी में फिल्म निर्माण में सहयोग दिए जाने के लिए बहुत-बहुत शुक्रगुजार हूं। इस क्षेत्र में यूपी सरकार की फिल्मबंधु योजना से न सिर्फ फिल्म निर्माताओं को बल्कि यूपी के कलाकारों को भी काफी बढ़ावा मिला है। अभी तक जहां यूपी के कलाकार, फोटो आर्टिस्ट, टेक्नीशियन आदि को बाहर जाकर काम खोजना पड़ता था। पर अब उन्हें अपने ही घर में रहकर मनपसंद क्षेत्र में काम करने का मौका मिल रहा है। एक ओर जहां यूपी में फिल्म निर्माण पर ढाई करोड़ की सब्सिडी दी जा रही है वहीं यूपी के कलाकारों को फिल्म में लेने पर पच्चीस लाख अतिरिक्त लाभ दिया जा रहा है। इसी प्रकार फिल्मबंधु योजना के अंतर्गत कई अन्य लाभकारी सुविधाएं दी जा रही हैं। जिसके चलते यहां फिल्मों के निर्माण में तेजी से इजाफा हो रहा है।

बड़े एक्टर्स भी नजर आ रहे हैं फिल्मों में

सुराग अक्लू फिल्म बना चुके फिल्म निर्माता राजेश्वर पांडे ने बताया कि अब छोटे बैनर तले फिल्मों का निर्माण करने वाले फिल्म निर्माताओं को अब कम बजट में भी काम करने का काफी अच्छा मौका मिल रहा है। सरकार के सहयोग की वजह से अब प्रदेश पुलिस से लेकर, एलडीए, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड वगैरह सभी की ओर से फिल्म यूनिट को काफी सहयोग दिया जाता है। साथ ही फंडिंग वगैरह की समस्या में सब्सिडी से छोटे फिल्म निर्माताओं को इससे काफी मदद मिल रही है।

उन्होंने बताया कि इस फिल्म के करीब मई माह तक पर्दे पर उतरने के बाद जल्द ही यूपी में दूसरी फिल्म का निर्माण करेंगे। प्रदेश में ही एक फिल्म ‘ये इश्क नहीं आसां’ बना चुके फिल्म निर्माता सैय्यद रुश्ती हसन बताते हैं कि वर्तमान में यूपी सरकार से फिल्म की शूटिंग को लेकर मिले सहयोग से फिल्म निर्माताओं के अलावा कलाकारों को भी काम करने का मौका मिल रहा है। इसी सहयोग के चलते अपनी दूसरी फिल्म हया की शूटिंग मई माह के आखिर में आरंभ करने जा रहा हूं। फिल्म में मुख्य अभिनेत्री के रूप में काम करने के लिए जानी-मानी फिल्म अभिनेत्री रेखा को प्रस्ताव भेजा जा चुका है।

इसी तरह राजधानी में जल्द ही शूट होने वाली फिल्म खामोश हसरतें के असिस्टेंट डायरेक्टर विक्रम सिंह बताते हैं कि अखिलेश सरकार ने जब से फिल्मबंधु योजना शुरू की है हम लोगों को अब यूपी में काम करना बहुत अच्छा लगा रहा है।

तकनीकी सुविधाएं बढ़ाने की जरूरत 

फिल्म निर्माता सैय्यद रुश्ती ने बताते हैं कि यूपी सरकार जहां फिल्मों के निर्माण संबंधित कई प्रकार की सुविधाएं दे रही है वहीं, तकनीकी पक्ष से भी इसे मजबूत करने की जरूरत है। हम लोगों को फिल्मों की शूटिंग के दौरान प्रयोग होने वाले कैमरे, लाइट, ट्राली वगैरह ऐसी नाजुक व भारी वस्तुओं को मुंबई से लाने में काफी खर्च करना पड़ता है। इस प्रकार की सुविधाओं से लैस एक इंडस्ट्री अगर यहां बन जाती है तो इस क्षेत्र से जुड़े लोगों को रोजगार का अवसर भी प्राप्त होगा।

रिपोर्टर - ज्योत्सना सिंह

Tags:    India 
Share it
Top