यूपी विधानसभा चुनाव से पहले मोदी का पूर्वांचल को एम्स और खाद कारखाने का तोहफा

यूपी विधानसभा चुनाव से पहले मोदी का पूर्वांचल को एम्स और खाद कारखाने का तोहफाgaonconnection

गोरखपुर। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री ने पूर्वांचल को एम्स और खाद कारखाने के रूप में दो बड़ी सौगातें दी। इस दौरान लोगों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, "26 साल बाद कारखाना शुरू हो रहा है तो इसका श्रेय आप को जाता है। अगर आप ने बीजेपी को बहुमत से न जिताया होता तो ये कारखाना बंद ही होता।" इससे पहले गोरक्षनाथ मंदिर में ब्रह्मलीन महंत अवैद्यनाथ की प्रतिमा का अनावरण किया। 

यूपी में सिर्फ विकासवाद से आएगी तरक्कीः मोदी

प्रधानमंत्री ने कहा मायावती और मुलायम सिंह का बिना नाम लिए हुए कहा कि यूपी में पर्यटन समेत कई क्षेत्रों में अपार संभावनाएं हैं। लेकिन तरक्की भाई-भतीजा और जातिवाद से नहीं विकासवाद से ही आएगी। इस दौरान में मोदी ने क्षेत्र की जनता से 2017 के लिए वोट मांगते हुए कहा कि आपने दिल्ली में दौड़ने वाली सरकार बनवाई है, उसी तरह लखनऊ में भी आपके लिए दौड़ने वाली सरकार बनवाइए।"

                                                

पूर्वांचल की जनता से मोदी ने कहा कि भारत का विकास करना है तो दो पहियों पर विकास करना होगा। एक पहिया पश्चिमी भारत का और दूसरा पूर्वी भारत का पहिया। दोनों पहियों को मजबूत करना होगा तभी विकास होगा। एक भी कमजोर रहा तो विकास नहीं हो पाएगा। पीएम मोदी ने कहा कि पूर्वी भारत का पहिया मजबूत हो, इसमें पूरी ताकत लगा रहा हूं।

उन्होंने आगे कहा कि पूर्वी भारत में ही सबसे पहले दूसरी हरित क्रांति की जरूरत है। दिल्ली में बैठी सरकार विदेशों से उर्वरक खाद मंगवाती थी। यहां की जरूरतें पूरी नहीं हो रही थी। यहां के कारखाने बंद थे। पूर्वी भारत के किसानों के साथ अन्याय हो रहा है। बतौर गुजरात के सीएम मैं लगातार केंद्र से किसानों के लिए यूरिया की मांग करता रहा था, लेकिन हमेशा यूरिया की कमी की बात कही जाती रही। लेकिन अब केंद्र में एनडीए की सरकार के दौरान देश में ही यूरिया का उत्पादन इतना किया जा रहा है कि किसी राज्य को यूरिया मांगने की जरूरत ही नहीं पड़ रही है। उर्वरक संयंत्र के पुनरद्धार से 4,000 लोगों को रोजगार मिलेगा और उत्तर प्रदेश में किसानों को पर्याप्त मात्रा में उर्वरकों की आपूर्ति सुनिश्चित होगी।

नीम कोटिंग यूरिया से रुकेगी कालाबाज़ारीः प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री ने कहा देश में अब यूरिया की कोई कमी नहीं है। ये प्लांट चालू हुआ तो हम कई गुना ज्यादा उत्पादन कर सकेंगे। यूरिया का खेती के अलावा कहीं इस्तेमाल न हो, उसकी कालाबाजारी बंद हो इसलिए नीम की कोटिंग शुरू कराई, जिसके परिणाम मिले हैं।

                                         

कीमतें कम करने की विपक्ष नहीं करता चर्चाः पीएम

मोदी ने कहा कि देश में महंगाई की चर्चा काफी होती है। लेकिन क्या पिछले 25-30 सालों में आपने सुना है कि कभी खाद के दाम कम हुए हैं, देश में पहली बार दिल्ली में बनी सरकार ने खाद की कीमतें कम की हैं। यह सब भ्रष्टाचार को कम करने के प्रयासों के कारण संभव हुआ है। डीएपी खाद में प्रति टन 2500 रुपये कीमत कम की गई है। किसान को हर बोरी पर 125 रुपये कम देना पड़ता है। एमओपी में प्रति टन 5000 रुपये दाम कम किए गए हैं। इस सरकार के कदमों से किसानों का खाद पर खर्चा 50 फीसदी के करीब कम होगा।

कई कंपनियों ने मिलकर बनाया संयुक्त उपक्रम

यहां फर्टिलाइजर कार्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (एफसीआईएल) का संयंत्र 1990 के दशक से बेकार पडा है। इसका पुनरद्धार 6,000 करोड रपए की अनुमानित लागत से सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों की एक विशेष उद्देश्यीय इकाई के जरिए किया जाएगा। इस विशेष उद्देशीय निकाय के लिये एनटीपीसी, कोल इंडिया और इंडियन ऑयल कार्पोरेशन लिमिटेड ने एक संयुक्त उद्यम बनाया है। उर्वरक कारखाने के पुनरद्धार के लिये जल्दी ही निविदा जारी की जाएगी ताकि ठेकेदार को चुना जा सके। देश का यूरिया उत्पादन वित्त वर्ष 2016-17 में बढकर 2.5 करोड टन तक पहुंचने का अनुमान है जो कि 3.2 करोड टन की सालाना मांग से अभी भी कमतर है। शेष मांग आयात के जरिए पूरी की जाएगी। 

कलराज, नड्डा, अनंत कुमार और योगी आदित्यनाथ समेत कई दिग्गज नेता रहे मौजूद

समारोह में स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उपक्रम कलराज मिश्रा, उर्वरक मंत्री अनंत कुमार, बिजली तथा कोयला राज्य मंत्री पीयूष गोयल, उत्तर प्रदेश के गवर्नर राम नाईक और भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ समेत कई बड़े नेता मौजूद थे।

Tags:    India 
Share it
Share it
Share it
Top