यूपीनेडा बना रहा ग्रामीण युवाओं को हुनरमंद

यूपीनेडा बना रहा ग्रामीण युवाओं को हुनरमंदगाँव कनेक्शन

युवा करेंगे गाँवों के सोलर संयंत्रों की रक्षा

लखनऊ। सरकारी सोलर लाइटों व संयंत्रों को खराब होने से बचाने के लिए उत्तर प्रदेश नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा विकास एजेंसी (यूपीनेडा) ने एक नया तरीका खोज निकाला है।

गाँवों में यूपीनेडा के लगाए गए सोलर संयंत्रों के खराब हो जाने पर अब ग्रामीणों को विभागीय टेक्नीशियन का इंतज़ार नहीं करना पड़ेगा, बल्कि अब खुद ग्रामीण युवा अपने गाँव में सोलर संयंत्रों की मरम्मत कर सकेंगे।

रायबरेली जिला मुख्यालय से 33 किमी दूर उत्तर दिशा में शिवगढ़ ब्लॉक के सिंहपुर गाँव के राजेश कुमार सिंह ( 26 वर्ष) यूपीनेडा द्वारा आयोजित तीन माह की कार्यशाला में ट्रेनिंग ले रहे हैं। ट्रेनिंग में वह सोलर पैनल व सोलर कुकर की मरम्मत जैसे काम करना सीख रहे हैं। राजेश बताते हैं, ''सोलर संयंत्रों की मरम्मत की ट्रेनिंग हमें यूपीनेडा की आरटीसी कैम्प चिनहट में मिल रही है। प्रशिक्षण में पैनल की मरम्मत के अलावा सोलर कनेक्शन करना भी सिखाया जा रहा है।’’

गाँवों में बेहतर सौर ऊर्जा प्रदान करने व ग्रामीण युवाओं को इससे जोड़ कर आत्मनिर्भर बनाने के लिए यूपीनेडा हर वर्ष युवाओं को नि:शुल्क आरटीसी प्रशिक्षण दे रहा है। इस प्रशिक्षण में किसी भी ग्रामीण क्षेत्र में स्थापित आईटीआई केंद्र से डिप्लोमा पास विद्यार्थी व कोई भी डिप्लोमा धारक छात्र इस प्रशिक्षण का हिस्सा बन सकता है। ट्रेनिंग के बाद युवाओं को विभाग में मानदेय पर या निजी सोलर कंपनियों में काम दिया जाता है।

युवाओं को दी जा रही ट्रेनिंग के बारे में रायबरेली जनपद के परियोजना अधिकारी, यूपीनेडा नरेंद्र सिंह बताते हैं, ''पिछले सत्र में जनपद में कई गाँवों से ट्रेनिंग के लिए आवेदन मिल चुके हैं। ट्रेनिंग खत्म होने के बाद हमारी कोशिश रहेगी कि हम इन्हें किसी न किसी निजी सोलर कंपनी में काम दिलवा सकें।’’

अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत विभाग (नेडा) के प्रादेशिक सौर सर्वेक्षण 2013-14 के अनुसार, प्रदेश के कुल 96 हज़ार गाँवों में अभी तक 15,000 में सौर ऊर्जा पहुंचाई जा चुकी है। ऐसे में ग्रामीण स्तर पर युवाओं को सौर संयंत्रों से जुड़ी ट्रेनिंग मुहैया करवाने से न सिर्फ गाँवों में लगे सौर संयंत्रों को बेहतर देखभाल मिल सकेगी बल्कि युवाओं को कोई भी नए रोज़गार से जुडऩे के प्रति प्रोत्साहन मिल पाएगा।

सौर ऊर्जा संयंत्रों के प्रशिक्षण के वर्ष 2014 में इटावा जिले के बेरोजग़ार आईटीआई प्रशिक्षणार्थियों को यूपीनेडा प्रशीक्षण केंद्र लखनऊ भेजा गया। लखनऊ स्थित चिनहट प्रशिक्षण केंद्र पर आईटीआई उत्तीर्ण बेरोजगार युवाओं को सोलर संयंत्रों की स्थापना, मेंटीनेंस व रिपेयरिंग विषय पर प्रशिक्षण दिया गया।

प्रशिक्षण में इटावा व औरैया जि़ले के आठ समग्र गाँवों से 10 आईटीआई प्रशिक्षणार्थियों में शामिल अवधेश गुप्ता (29) ने बताया, ''ट्रेनिंग में हमें सोलर फोटोवोल्टिक पैनल सेटलमेंट व रिपेयरिंग सिखाई गई। ट्रेनिंग में हमें इतना सिखा दिया गया है कि खुद सोलर उपकरणों की जांच व उसे ठीक कर सकें।’’

ग्रामीण युवाओं को मिली ट्रेनिंग के बारे में यूपीनेडा, इटावा खंड के परियोजना अधिकारी अश्वनी कुमार शुक्ला ने बताया, '' पहले आरटीसी के तहत पूरे प्रदेश के युवाओं को एक साथ ट्रेनिंग दी जाती थी। अब इसमें कुछ बदलाव लाया गया है। अब प्रदेश के हर जिले से दो से चार युवाओं को ट्रेनिंग पर भेजा जाता है।’’

''ट्रेनिंग प्राप्त कर चुके छात्रों में से कुछ को हमने खुद विभाग में मानदेय पर रखा है और कुछ छात्र गौतम सोलर नाम की निजी कंपनी में कार्यरत हैं।’’ अश्वनी कुमार आगे बताते हैं।

Tags:    India 
Share it
Top