क्लैट (कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट) दे कर बनायें वकालत में भविष्य

क्लैट-2018: इस परीक्षा में बड़ी संख्या में छात्र हर साल करते हैं आवेदन

क्लैट (कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट) दे कर बनायें वकालत में भविष्य

लखनऊ। अगर आपकी रुचि कानूनी दांव-पेंच में है और आप वकालत के क्षेत्र में कॅरियर बनाना चाहते हैं तो आप कॉमन लॉ एडमिशनटेस्ट (CLAT) दे कर इसमें अपना बेहतर भविष्य बना सकते हैं। वर्तमान में विज्ञान और वाणिज्य के छात्र भी बड़ी संख्या में क्लैट परीक्षा में लॉ को एक आकर्षक कॅरियर के रूप में देख रहे हैं। इस परीक्षा की तैयारी और संबंधित विषयों को लेकर हमने कॅरियरकाउंसलर अमित दीक्षित से खास बातचीत की।

करियर काउंसलर अमित दिक्षित

अमित दीक्षित बताते हैं, "देश में कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट हर साल अलग-अलग विधि विद्यालयों और विश्वविद्यालयों के द्वारा आयोजित किया जाता है। यह परीक्षा ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन (परास्नातक) के स्तर पर कराई जाती है। पोस्ट ग्रेजुएशनकी परीक्षा के लिए छात्र को लॉ में ही स्नातक होना चाहिए।"

यह भी पढ़ें- मैनेजमेंट में बेहतर कॅरियर के लिए करें कैट की तैयारी

परीक्षा के पात्रता के सवाल पर अमित बताते हैं, "कोई भी छात्र जिसने इण्टरमीडियट की परीक्षा पास की है वह इस परीक्षा को देसकता है। ग्रेजुएशन के लिए छात्र का इण्टरमीडियट में 45 प्रतिशत और अगर छात्र किसी केटेगरी से है तो 40 प्रतिशत होना आवश्यक है।वहीं पोस्ट ग्रेजुएशन के लिए सामान्य वर्ग के छात्र को 55 प्रतिशत और अन्य वर्ग के लिए 50 प्रतिशत अंक ग्रेजुएशन में होने चाहिए।"

परीक्षा में प्रश्न पत्र के बारे में बताते हुए अमित दिक्षित ने बताया, "ग्रेजुएशन के लिए होने वाली परीक्षा में कुल 200 प्रश्न आते हैं, जबकिपोस्ट ग्रेजुएशन में 150 प्रश्न आते हैं, जो कि वैक्लपिक होते हैं। सबसे पहले ग्रेजुएशन के दौरान आने वाले प्रश्न पत्र में पांच विषयों सेसम्बंधित प्रश्न आते हैं। अंग्रेजी/वर्बल एबीलीटी से 40 प्रश्न, क्वांटिटेटिव एप्टिट्युट (संख्यात्मक क्षमता) से 20 प्रश्न, लॉजिकलरिजनिंग (तार्किक तर्क) से 40 प्रश्न, जनरल अवेयरनेस (सामान्य ज्ञान) से 50 प्रश्न, लीगल एप्टिट्युट (कानूनी योग्यता) से 50 प्रश्नआते हैं।"

उन्होंने आगे बताया, "वहीं पोस्ट ग्रेजुएशन (परास्नातक) के दौरान कांस्टीट्युशनल लॉ (संवैधानिक कानून) से 50 प्रश्न, जुरिस्प्रुडेंस(न्यायशास्त्र) से 50 प्रश्न और अन्य लॉ विषयों से 50 प्रश्न आते हैं।"

यह भी पढ़ें- पशु चिकित्सा क्षेत्र में बनाएं कॅरियर

होती है निगेटिव मार्किंग

कॅरियर काउंसलर अमित दीक्षित बताते हैं, "परीक्षा का समय ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन दोनों में दो घंटे का होता है। परीक्षा केदौरान नेगेटिव मार्किंग भी होती है। इसमें हर सही प्रश्न पर एक नंबर मिलते हैं और गलत प्रश्न पर 0.25 नंबर काट लिए जाते हैं। परीक्षाऑनलाइन होती है इसलिए छात्र को बेसिक कंप्यूटर ज्ञान होना चाहिए।" आगे बताया, "दिसम्बर के महीने में परीक्षा का नोटिफिकेशनआ जाता है। जनवरी से मार्च के महीने में फार्म भरे जाते हैं और अप्रैल अथवा मई के महीने में परीक्षाएं निर्धारित की जाती हैं।"

संस्थाएं जहां ले सकते हैं एडमिशन

नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडियन यूनिवर्सिटी, बैंगलोर

नेशनल लॉ इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी, भोपाल

नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, जोधपुर

गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, गांधीनगर

राम मनोहर लोहिया नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, लखनऊ

राजीव गाँधी नेशनल उनिवेरासिटी ऑफ लॉ, पटियाला


Share it
Top