गेमिंग में बढ़ती करियर की संभावनाएं, ऐसे बनाएं अपना करियर

गेमिंग में बढ़ती करियर की संभावनाएं, ऐसे बनाएं अपना करियरमोबाइल गेमिंग का ग्लोबल मार्केट तेजी से बढ़ रहा है।

लखनऊ। अपने बचपन में हमने भी वीडियो गेम, कंम्प्यूटर गेम पर घंटों समय बिताया है। अगर आपकी दिलचस्पी अभी भी इसमें हैं तो ये करियर के लिए भी बेहतर विकल्प हो सकता है। हाल के वर्षों में इंडोर गेम्स यानी वीडियो, कम्प्यूटर और मोबाइल गेम्स का बाजार कई गुना बढ़ गया है।

जिस रफ्तार से यह सेक्टर बढ़ रहा है, उससे गेम डेवॅलपर्स की मांग में जबरदस्त इजाफा हुआ है। इस क्षेत्र में करियर की संभावनाओं के बारे में बता रहे हैं दिल्ली के ताली क्रिएटिव गेमिंग कंपनी के ग्राफिक डिजाइनर प्रसून श्रीवास्तव-

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

गेमिंग बाजार

मोबाइल गेमिंग का ग्लोबल मार्केट तेजी से बढ़ रहा है। सेल्युलर ऑपरेटर्स की बढ़ती संख्या की वजह से भारत में भी गेम्स डेवॅलपर्स की मांग बढ़ी है। आज मॉइक्रोसॉफ्ट भी का एक्स-बॉक्स, सोनी का प्लेस्टेशन-2, नाइनटेंडो का गेम क्लब, इंटरनेट आधारित गेम साइट्स आदि का जबरदस्त क्रेज बना हुआ है। लेकिन गेम वर्ल्ड अपना रंग हर समय बदलता रहता है। इसलिए भी गेम डेवॅलपर्स के लिए जॉब की संभावनाएं हमेशा बनी रहती हैं।

शैक्षणिक योग्यता

इस फील्ड में करियर बनाने की चाह रखनेवालों के लिए ग्रैज्युएट होना ज़रूरी है। इसके बाद ही आप आगे की पढ़ाई के लिए आवेदन भर सकते हैं।

रोजगार की संभावनाएं

इस समय रोजगार के लिहाज से यह सेक्टर आपके लिए बेहतर साबित हो सकता है, क्योंकि कई गेमिंग कंपनियां भारत में अपना सेटअॅप तैयार करवा रही हैं। स्किल्ड लोगों की कमी के कारण कंपनी अपने विस्तार की योजना पूरा कर पाने में भी कहीं न कहीं असमर्थ महसूस कर रही है। वैसे, जावा, सी, सी++, जे2एमई, ब्लैकबेरी, 2डी गेम डेवॅलपर्स, 3डी डेवॅलपमेंट के जानकारों के लिए संभावनाएं हैं। यहां आप गेम डिजाइनर, सीनियर लेवॅल डिजाइनर, डिजाइनर, लीड एनिमेटर, यूजर इंटरफेस आर्टिस्ट, एनवायरमेंट आर्टिस्ट, गेम प्रोग्रामिंग इंजीनियर, ऑडियो इंजीनियर, ग्राफिक प्रोग्रामर और नेटवर्क प्रोग्रामर के रूप में कार्य कर सकते हैं।

कम्प्यूटर गेम प्रोड्यूसर

इसके लिए डिजाइनिंग की जानकारी के अलावा, थ्री डी मॉडेलिंग और टू डी सॉफ्टवेयर का नॉलेज होना जरूरी है। वहीं ऑडियो इंजीनियर के लिए सी++, साउंड इंजीनियरिंग के अलावा, अन्य लैंग्वेज की जानकारी आवश्यक है। वीडियो गेम प्रोड्यूसर का कार्य पूरे प्रोडक्शन की प्रक्रिया पर नजर रखना होता है। इस तरह के इंजीनियर डिजाइन, आर्ट, क्वालिटी कंट्रोल आदि टीम से साथ मिल कर काम करते हैं।

गेम डिजानइर

इनका कार्य गेम डिजाइनिंग के साथ गेम को फनी रूप भी देना होता है। साथ ही, ये गेम राइटिंग और डायग्राम भी तैयार करते हैं। लीड डिजाइनर पर पूरे डिजाइनिंग विजन, कॉन्सेप्ट, पॅ्रजन्टेशन, इंप्लिमेंटेशन आदि की जिम्मेदारी होती है। लेकिन इसके लिए टेक्नोलॉजी की जानकारी होने के साथ-साथ आर्टिस्टीक विजन बेहद जरूरी है।

लीड एनिमेटर

लीड एनिमेटर आमतौर पर लीड प्रोग्रामर और सीनियर आर्टिस्ट के साथ गेम के करेक्टर के हर पहलू पर काम करते हैं। यदि आप एनिमेटर के रूप में काम करना चाहते हैं, तो टू डी कॉन्सेप्ट आर्ट के माध्यम से थ्री डी मॉडल्स और टू डी टैक्सचर मैप को तैयार करने की योग्यता होनी चाहिए।

ऑडियो प्रोग्रामर

इस तरह के प्रोग्रामर पर गेम के लिए ऑडियो तैयार करने के अलावा, ये साउंड इंजीनियर से साथ मिल कर काम करते हैं। वैसे यह फील्ड कम्प्यूटर इंजीनियर के लिए बेहतरीन माना जाता है। ऑडियो प्रोग्रामर को गेम में स्पेशल इफेक्ट्ïस के इस्तेमाल के लिए साउंड सिंथेसिस के बारे में जानना आवश्यक है।

ग्राफिक प्रोग्रामर

गेम को डेवॅलप करने में ग्राफिक प्रोग्रामर टेक्निकल सपोर्ट प्रदान करता है। लेकिन इसके लिए ग्राफिक प्रोग्रामर को सी, सी++, डायरेक्ट एक्स, ओपन जीएल, विंडो प्रोग्रामिंग, थ्री डी पैकेज आदि के बारे मालूम होना चाहिए।

वेतन

इस हाइटेक गेम वर्ल्ड में शुरुआती दौर में ही आपकी सैलॅरी 2 से 2.5 लाख रुपए सालाना हो सकती है। यदि आप इस क्षेत्र से भलीभांति अवगत हैं, यानी आप थ्री डी गेम डेवॅलपमेंट के जानकार है, तो सालाना सैलॅरी 3 से 4 लाख रुपए हो सकती है।

टॉप गेम डेवॅलपर्स

  • डिजिटल चॉकोलेट, बेंगलूर।
  • इंडिया गेम्स, मुम्बई।
  • जंप गेम्स, मुम्बई।
  • जैपेक, मुम्बई।
  • इलेक्ट्रॉनिक ऑटर्स, हैदराबाद।
  • गेमलॉफ्ट, हैदराबाद।
  • मोबाइल टू विन, मुम्बई।

Share it
Top