जादू के जरिए रेप के खिलाफ दे रहे संदेश, कुछ ऐसी है इन लड़कों की कहानी

अनुभव और आशीष मोटर साइकिल से गाँव और शहर में जाते हैं और जादू के माध्यम से लोगों को बलात्कार और बाल यौन शोषण के खिलाफ आवाज़ उठाने के लिए प्रेरित करते हैं।

Shefali Mani TripathiShefali Mani Tripathi   17 Oct 2018 5:54 AM GMT

लखनऊ। आए दिन बलात्कार की घटनाएं सुनने में आती हैं, ऐसे में कुछ लोगों ने इसके खिलाफ आवाज़ उठाने की सोची और ये अब शहर और गांवों में घूमकर-घूमकर लोगों को जागरूक कर रहे हैं।

मुंबई के रहने वाले दो युवा अनुभव और आशीष मोटर साइकिल से गाँव और शहर में जाते हैं जहां वे जादू के माध्यम से लोगों को बलात्कार और बाल यौन शोषण के खिलाफ आवाज़ उठाने के लिए प्रेरित करते हैं। उन्होंने अपने इस अभियान का नाम '21वीं सदी का भारत, NO RAPE चुप्पी तोड़ो' रखा है।


अनुभव ने अपने इस अभियान के बारे में कहा, "हर रोज समाचार में रेप की घटनाओं को देखकर हमने इस पर कुछ करने का सोचा और इसके बाद इस अभियान की शुरुआत की। इसके तहत हम उत्तर प्रदेश के 75 जिलों में जाकर लोगों को जागरूक करेंगे।"

यह भी पढ़ें : दो साल तक रेप किया, उंगलियां काट दी, लेकिन अब सही धाराएं न लगाने का आरोप

अनुभव कहते हैं, "जादू एक ऐसी चीज है, जिसकी तरफ लोग आसानी से आकर्षित होते हैं। इसलिए हम लोगों को जादू के माध्यम से ही बलात्कार के खिलाफ आवाज़ उठाने के लिए प्रेरित करते हैं। इस सफ़र की शुरूआत हमने सहारनपुर से की और बाकि के जिलों की यात्रा हमने मोटर साइकिल से तय की। 5500 किलोमीटर का सफ़र तय कर आज हम लखनऊ पहुंचे हैं और यह हमारा 60वां जिला है।"

इनकी मंडली के दूसरे सदस्य आशीष ने गाँव कनेक्शन से बातचीत के दौरान बताया, "मुंबई में हुए एक नाटक "बचाव" जो की कठुआ केस पर आधारित था और उसे एक लड़की ने किया था। उसे देखने के बाद मैंने सोचा कि क्यों न मैं भी ऐसा ही कुछ कर लोगों तक अपनी बात पहुंचाऊं। अब तक हमने सड़कों पर कम से कम 70 से ज्यादा रोड शो किए हैं। हमारा मकसद केवल इतना ही है कि हम लोगों को ये बात समझा पाएं कि बलात्कार करना कितना बड़ा जुर्म है। हमारे अभियान का सबसे बड़ा उद्देश्य भारत को बलात्कार मुक्त देश बनाने का है।''

यह भी पढ़ें : इन देशों में दी जाती है की रेप की ऐसी सजा, सुनकर कांप उठेगी रूह

नेशनल क्राइम रिपोर्ट 2014 के मुताबिक देश में हर एक घंटे में 4 बलात्कार होते हैं। मतलब हर 14 मिनट में एक बलात्कार के मामले सामने आए हैं। 2014 में हमारे देश में कुल 36975 रेप के मामले सामने आए हैं। नेशनल क्राइम रिपोर्ट 2016 की रिपोर्ट के मुताबिक मध्य प्रदेश में सबसे ज्यादा बलात्कार के मामले सामने आये हैं। मध्य प्रदेश में बलात्कार के 4882 मामले सामने आए हैं। वहीं, उत्तर प्रदेश में 4816 मामले दर्ज़ किये गए हैं। इस तरह से 4189 बलात्कार के रिपोर्ट के साथ महाराष्ट्र तीसरे नंबर पर है। रिपोर्ट में यह बात भी सामने आई है कि भारत में बलात्कार के मामलों में 2015 की तुलना में 2016 में 12.4 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

सोर्स : नेशनल क्राइम रिपोर्ट सोर्स : नेशनल क्राइम रिपोर्ट

आशीष आगे कहते हैं, "उत्तर प्रदेश के बाद हम पूरे देश में यह कार्यक्रम करना चाहते हैं और देश के हर युवा और हर वर्ग के लोगों को यह बताना चाहते हैं। बलात्कार बहुत बड़ा अपराध है। भारत का हर नागरिक अपनी सोच को इस तरह से बदले कि उसे खुद से इस बात का एहसास हो कि वह किसी के भी साथ जबरदस्ती न करें। सबसे जरूरी बात है कि जो लोग इन अपराधों को बर्दाश्त करते हैं वो कम से कम इसके खिलाफ़ अपनी आवाज़ उठाएं और अपने साथ होने वाले अपराधों के विरुद्ध लड़ाई लड़ें।"

यह भी पढ़ें : फर्जी बाबाओं की लिस्ट में गंभीर आरोपों से घिरे इन बाबाओं का नाम क्यों नहीं है ?

देश में आज कल चल रहे मीटू के बारे में अनुभव ने कहा, "मीटू हमारे देश की एक अच्छी पहल है। देर से ही सही लेकिन कम से कम लोग अपने खिलाफ़ हुए अत्याचारों के खिलाफ आवाज तो उठा रहे है। इससे वो लोग तो डर ही रहें है जिन्होंने अपराध किया है बल्कि आगे वो लोग भी डरेंगे जो आगे ऐसे अपराध करने का सोचते हैं।"

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top