यूपीएसएसएससी का गठन, 40,000 युवाओं की पहली विजय

Kushal MishraKushal Mishra   22 Jan 2018 3:55 PM GMT

यूपीएसएसएससी का गठन, 40,000 युवाओं की पहली विजयमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ। फोटो साभार: इंटरनेट

लखनऊ। आखिरकार 10 महीने से अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के गठन का इंतजार कर रहे उत्तर प्रदेश के 40,000 युवाओं के लिए बसंत पंचमी का दिन खुशी की सौगात लेकर आया। योगी सरकार ने सोमवार को यूपीएसएसएससी का गठन कर दिया और चंद्रभूषण पालीवाल को आयोग का अध्यक्ष बनाया।

17 दिन पहले रोक दी थी भर्ती प्रक्रिया

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले के संदीप सिंह (24 वर्ष) ने भी पिछली सपा सरकार के दौरान यूपीएसएसएससी की ओर से निकली भर्तियों में सहायक लेखाकार पद के लिए आवेदन किया था, मगर अंतिम परिणाम आने के सिर्फ 17 दिन पहले ही नई सरकार ने भर्ती प्रक्रिया को रोक दिया गया था।

यह भी पढ़े: ‘साहब… 40 हजार छात्रों का सवाल है, अब नौकरी दो या इच्छामृत्यु’

बस सरकार जल्द नोटिफिकेशन जारी करे

लंबे समय के इंतजार के बाद आयोग के गठन होने पर संदीप सिंह गाँव कनेक्शन से बातचीत पर फोन पर बताते हैं, “बसंत पंचमी का दिन हम युवाओं के लिए खुशहाली लेकर आया है। कम से कम सरकार ने हमारी मांगों को मानते हुए आयोग का गठन कर दिया। अब हमें सरकार से उम्मीद है कि सरकार जल्द ही नोटिफिकेशन जारी कर रुकी हुई भर्ती प्रक्रिया को शुरू कराए, अब हमें सिर्फ नौकरी मिलने का इंतजार है।“

सोशल मीडिया पर छेड़ रखी थी बेरोजगारों ने जंग

यह भी पढ़े: आखिर ट्विटर पर क्यों छिड़ी है बेरोजगारों की जंग ?

आयोग के गठन की खबर बेरोजगार युवाओं को मिलते ही उनमें खुशी की लहर दौड़ पड़ी। पिछले 10 महीनों से सभी युवा एकजुट होकर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म टविटर के जरिए ‘ #UPSSSC_नौकरी_दो_या_इच्छामृत्यु ’ समेत कई टैग बनाकर मंत्रियों और अधिकारियों को लगातार ट्वीट कर आयोग का गठन करने और भर्ती प्रक्रिया को शुरू करने की लगातार मांग कर रहे थे। इतना ही नहीं, अपनी मांगों को लेकर ये सभी युवा कई शहरों में लगातार प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ आवाज उठाते रहे, मगर अब आयोग के गठन से इन सभी युवाओं में उम्मीद की किरण जगी है।

हाल में इलाहाबाद में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से न मिलने देने पर प्रदर्शन कर रहे यूपीएसएसएससी के छात्रों को पुलिस ने लिया था हिरासत में।

हम लोग बिल्कुल टूट चुके थे

बाराबंकी से एक और युवा नीरज मिश्रा (25 वर्ष) बताते हैं, “हम लोग बिल्कुल टूट चुके थे 10 महीनों से इंतजार करते-करते, क्योंकि हमारी भर्ती प्रक्रिया को वहां पर रोक दिया गया था, जब सारी प्रक्रिया पूरी हो चुकी थी और शायद हमको नौकरी मिलने ही वाली थी।“ नीरज आगे कहते हैं, “हम सरकार को बहुत धन्यवाद देते हैं कि उन्होंने हम बेरोजगारों की आवाज सुनी। मगर अभी हमारा इंतजार बाकी है क्योंकि बस अब सरकार जल्द से जल्द भर्ती प्रक्रिया को पूरा कराए ताकि हम लोगों को नौकरी मिल सके।“

आखिर हमारी आवाज को सुना

वहीं उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से एक और छात्र रजत शर्मा बताते हैं, “सरकार से हमें लगातार आश्वासन मिल रहे थे, मगर न तो आयोग का गठन किया जा रहा था, और न ही भर्ती प्रक्रिया को शुरू किया जा रहा है। देर से ही सही, मगर सरकार ने हमारी आवाज को सुना है, अब सरकार से दरख्वास्त करते हैं कि हमारी भर्ती प्रक्रिया को जल्द से जल्द पूरा कराए।“

यह भी पढ़े: खुशखबरी, इस साल नौकरियां और वेतन दरें बढ़ने की उम्मीद

चंद्रभूषण पालीवाल बने अध्यक्ष

मुख्यमंत्री के निर्देश पर मुख्य सचिव राजीव कुमार ने सोमवार को अधीनस्थ सेवा चयन आयोग का गठन किया है। चन्द्रभूषण पालीवाल को इसका अध्यक्ष बनाया गया है। वहीं, हृदय नारायण राव, डॉ. सीमा रानी, डॉ. ओंकार प्रसाद मिश्र, अरुण कुमार सिन्हा और डॉ. अशोक कुमार अग्रवाल को सदस्य नियुक्त किया गया है। अधीनस्थ सेवा चयन आयोग, उत्तर प्रदेश में विभिन्न राज्य स्तरीय सरकारी पदों पर भर्ती के लिए परीक्षाएं आयोजित कराता है।

टविटर पर इस तरह कहा, शुक्रिया

यह भी पढ़ें: वाह ! विदेश मंत्रालय की नौकरी छोड़कर बिहार के सैकड़ों युवाओं को दिलाई सरकारी नौकरी

भाषाओं में छिपा है कमाई का जरिया

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top