India’s Biggest

Rural Media Platform

दुनिया

बांगरमऊ बस डिपो बना सफेद हाथी

बांगरमऊ (उन्नाव)। एक साल पहले ही बांगरमऊ में रोडवेज बस डिपो बनकर तैयार हो चुका है लेकिन अब तक यहां न तो कोई कार्यालय है और न ही कोई अधिकारी। यहां बच्चे क्रिकेट खेलते हैं। इसका खामियाजा यात्रियों को भुगतना पड़ रहा है।

चुनाव जीतने के बाद यहां के विधायक बदलू खां के अथक प्रयासों से करीब तीन वर्ष पूर्व नगर के पश्चिमी छोर पर स्थित बायपास के निकट रोडवेज बस डिपो के निर्माण का कार्य शुरू किया गया था। करीब छह माह तक तो मिट्टी के भरान का काम चलता रहा। इसके बाद लगभग चार एकड़ के भू-भाग को एक वर्ष तक बाउंड्री वॉल बनाकर घेरा गया। इस दौरान कार्यदायी संस्था लगातार यह वादा करती रही कि जून 2015 तक बस डिपो का संपूर्ण भवन बनकर तैयार हो जाएगा और रोडवेज बसों का संचालन इसी डिपो से किया जाएगा मगर निर्धारित समय से डेढ़ वर्ष अधिक का समय बीत गया और कुछ न हुआ।

आलम यह है कि बस डिपो का न तो कोई भवन बना और न ही किसी अधिकारी की तैनाती की गयी। बसों का संचालन भी शुरू नहीं हो सका है। नतीजतन, आज भी रोडवेज बसों के रुकने के लिए नगर में कोई निर्धारित स्थान नहीं है। रोडवेज के चालक-परिचालक की जहां मर्जी होती है, वहीं बस रुकती है। लंबी दूरी की यात्रा करने वाले यात्रियों को मजबूरन डग्गामार वाहनों से सफर करना पड़ रहा है। इस संबंध में पूछने पर भी कोई अधिकारी कुछ नहीं बताता है। किसी के पास कोई सूचना नहीं है कि यह बस डिपो कब यात्रियों को सुविधा दे सकेगा।