India’s Biggest

Rural Media Platform

बदलता इंडिया

खेत में काम करने वाली महिलाएं भी बनेंगी वर्किंग वुमन, सरकार हर साल 15 अक्टूबर को मनाएगी महिला किसान दिवस

हम जब भी कभी कामकाजी महिलाओं की बात करते हैं तो हमारे मन में टैंपो, बसों में, कारों में और ट्रेनों में हररोज़ दफ्तर जाने वाली महिलाओं की छवि अपने आप बन जाती है। लेकिन हम यह नहीं जानते हैं कि देश में हर रोज़ खेतों में करोड़ों की संख्या में महिला किसान काम करती हैं।

जल्लीकट्टू ने तमिलनाडु के व्यापारियों में जगाया देश प्रेम, अब नहीं बेचेंगे विदेशी कोल्ड ड्रिंक 

तमिलनाडु में व्यापारियों के एक अग्रणी तबके ने पहली मार्च से बहुराष्ट्रीय कंपनियों के सॉफ्ट ड्रिंक के बहिष्कार का ऐलान किया है।

गणतंत्र दिवस पर इस किसान को सलाम: गोदामों में अब नहीं सड़ेगा अनाज, उत्तराखंड के किसान ने बनाया एक खास यंत्र

गणतंत्र दिवस पर इस किसान को सलाम-भारत में एक साल में इतना अनाज बर्बाद होता है, उतना ब्रिटेन उगा भी नहीं पाता। भारत में हर साल 67 लाख टन यानी करीब 92 हजार करोड़ रुपये का गेहूं-चावल बर्बाद हो जाता है, लेकिन उत्तराखंड के इस किसान ने उपाय खोज लिया है। ऐसे किसान देश के वीर सैनिकों से कम नहीं हैं। 

महाराष्ट्र का ये किसान उगाता है 19 फीट का गन्ना, एक एकड़ में 1000 कुंटल की पैदावार

एक गन्ने की लंबाई 19 फीट, सुनकर थोड़ी हैरानी हुई न, लेकिन ये एकदम सच है। महाराष्ट्र के सुरेश कबाडे के खेतों में ऐसे ही गन्ने होते हैं। वो एक एकड़ में 1000 कुंटल गन्ने की पैदावार भी लेते हैं। नौवीं पास सुरेश खेती से सालाना करोड़ों रुपये की कमाई भी करते हैं।

किसान का खत: महाराष्ट्र के किसान ने बताया कैसे वो एक एकड़ में उगाते हैं 1000 कुंटल गन्ना

महाराष्ट्र के सांगली में रहने वाले सुरेश कबाडे प्रति एकड़ 1000 कंटल गन्ना उगाते हैं। गांव कनेक्शन में खबर प्रकाशित होने पर हजारों किसान ये जानना चाहते थे, कि सुरेश कबाडे ने ये मुकाम कैसे हासिल किया। इसलिए उन्होंने किसानों को एक खत लिखकर अपनी पूरी विधि और तकनीकी समझाई है।

सर्वोदय योजना : मुक्त कराए गए बालश्रमिकों को गोद लेकर ज़िंदगी संवार रहे सरकारी अफसर 

गोंडा। बालश्रमिकों को मुक्त कराकर फाइल बंद कर देने वाले अफसरों के लिए यह ख़बर एक नजीर है।

देश के चीनी उद्योग में जान फूंक सकती है उत्तर प्रदेश की ये पहल

भारत में चीनी मिल का मतलब सिर्फ चीनी बनाने से है, लेकिन विदेशों में एथनाल से लेकर बिजली और कई मेडिशनल प्रोडक्ट बनाए जा रहे हैं। फिनलैंड और ब्राजील की तर्ज पर उत्तर प्रदेश में ये कवायद शुरु करने की तैयारी है, जो देश की चीनी उद्योग में बड़ा बदलाव ला सकता है।

नोट बंदी से दिक्कत कुछ दिनों की, फायदा लंबे समय का, छोटे कारोबारी होंगे मज़बूत

असंगठित क्षेत्र पर जब नकारात्मक असर पड़ रहा हो तो टेक्नोलॉजी और फाइनेंशियल सर्विस के क्षेत्रों में चढ़ान देखने को मिल रहा है जो क्षणिक है।