बाराबंकी में अखिलेश और मायावती की संयुक्त चुनावी रैली- 'मोदी सरकार ने वादें पूरे नहीं किए'

बाराबंकी-फैजाबाद सीमा पर दरियाबाद विधानसभा क्षेत्र के बड़ेला चौराहे पर आयोजित गठबंधन की इस चुनावी जनसभा में अखिलेश यादव और मायावती ने कांग्रेस और बीजेपी दोनों पर जमकर निशाना साधा।

बाराबंकी में अखिलेश और मायावती की संयुक्त चुनावी रैली-

- श्रवण कुमार

बाराबंकी। बाराबंकी जिले में बसपा प्रमुख मायावती और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने गठबंधन प्रत्याशियों के लिए संयुक्त रैली की, जिसमें उन्होंने बाराबंकी से गठबंधन प्रत्याशी रामसागर रावत एवं फैजाबाद से गठबंधन प्रत्याशी आनंद सेन के समर्थन में वोट मांगा। बसपा पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी ने रोजी-रोटी के लिए युवाओं को परेशान किया है। तमाम बेरोजगार युवा रोजी-रोटी की तलाश में दिल्ली जैसे बड़े शहरों में चले गए। कांग्रेस पार्टी के लोग कहते हैं कि बाबा साहब को हम मानते हैं। फिर भी चुनाव के दौरान कांग्रेस पार्टी ने सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग किया और बाबा साहब भीमराव को हराया था।

वहीं बीजेपी पर निशाना साधते हुए मायावती ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने पिछले लोकसभा चुनाव में कमजोर और गरीब लोगों के लिए प्रलोभन भरे वादे किए थे। लेकिन आज तक वह पूरे नहीं हो पाए। कांग्रेस और बीजेपी प्राइवेट सेक्टरों और पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने का काम करती है। मायावती ने गठबंधन के प्रत्याशियों को भारी मतों से जीत दिलाने के साथ ही जनता से मतदान वाले दिन हर हाल में वोट डालने की अपील की।

वहीं समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि बड़ी पार्टी के बड़े नेता बाराबंकी आ चुके हैं। लेकिन इन नेताओं ने बाराबंकी और फैजाबाद वालों का एक कार्य पूरा नहीं किया सिर्फ नारे ही लगाते रहे। हमारे दो दल मिल जाने से विपक्ष कह रहा महामिलावट है। अगर हमारा दो दलों का गठबंधन है उनका 38 दलों का गठबंधन महामिलावटी नहीं है।

उन्होंने कहा, "यह गठबंधन समाज को नई दिशा देने जा रहा है। जैसे ही चार चरणों का चुनाव संपन्न हुआ है वैसे ही तापमान बढ़ गया है। अब पांचवें चरण में आपकी बारी है। नोटबंदी के कारण तमाम लोग नौकरी से निकाल दिए गए। किसानों के लिए दी जा रही खाद की बोरियों से 5 किलो खाद चोरी की जा रही है। चौकीदार की चौकी छीनने की तैयारी हम लोग कर चुके हैं। गठबंधन के बाद देश का नया रास्ता खुल रहा है। देश एक नए रास्ते पर चलेगा क्योंकि देश को नया भारत बनाना है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top