Real all agriculture, rural news in hindi from all across villages and towns of india

संवाद
अटल बिहारी वाजपेयी: कवि की आत्मा और पत्रकार की जिज्ञासा वाला सौम्य राष्ट्रवादी
2018-08-17 08:23:54.0

मयंक छायाअटल बिहारी वाजेपयी आजीवन भारतीय सभ्यता और उसकी प्रबुद्ध बहुलवादी परंपरा के वाहक रहे हैं। वाजपेयी स्वतंत्रता से पूर्व और उसके बाद लंबे समय तक देश के राजनीतिक क्षितिज पर चमकते रहे पर अपने...

Read More
छत्तीसगढ़: अब गाय के गोबर से बनी ईको फ्रेंडली लकड़ियों से होगा रायपुर में अंतिम संस्कार

छत्तीसगढ़: अब गाय के गोबर से बनी ईको फ्रेंडली लकड़ियों से होगा रायपुर में अंतिम संस्कार

अंतिम संस्कार के दौरान लकड़ियों का इस्तेमाल रोकने के लिए रायपुर नगर निगम ने एक अनोखा तरीका खोज निकाला है। यहां गाय के गोबर का इस्तेमाल करके ईको फ्रेंडली लकड़ियां बनाई जा रही हैं।लकड़ियां बनाने वाली...

My Daughter, My Identity: Tribal village in Jharkhand shows how it empower its girls

My Daughter, My Identity: Tribal village in Jharkhand shows how it empower its girls

Jamshedpur, Jharkhand. Holding her six-year-old daughter in her arms, the proud mother gazes as the nameplate on the door and smiles. The reason for her smile – the nameplate reads Roopa and Lakhimni...

सब्जी मसालों में ग्रामीण महिलाएं लगा रहीं हैं देसी तड़का...

सब्जी मसालों में ग्रामीण महिलाएं लगा रहीं हैं देसी तड़का...

गांव की चीजें शुद्ध होती हैं, इसमें कोई दो राय नहीं। खासकर जंगली और पहाड़ी इलाकों की फसलें और जड़ी बूटियां बेहद असरदार मानी गई हैं। नेपाल की तराई में उगने वाली हल्दी, धनिया और दूसरी फसलों से आदिवासी...

एक गांव ऐसा, जहां कुछ भी छू नहीं सकते आप

एक गांव ऐसा, जहां कुछ भी छू नहीं सकते आप

हिमाचल प्रदेश के कुल्लू क्षेत्र एक गांव है मलाणा, ये इतना खूबसूरत और अद्भुत है कि लोग यहां खिंचे चले आते हैं... लेकिन यहां घूमने की एक शर्त भी है.. यहां खरीददारी करने का नियम भी बहुत अजीब है, पढ़िए...

कहती थीं न अम्मा! हाय हर चीज़ की बुरी

"कहती थीं न अम्मा! हाय हर चीज़ की बुरी"

नमस्ते साथियों, गांव कनेक्शन मेरा बहुत पुराना है। सच कहें तो भीतर मेरे एक गांव की लड़की आज भी रहती है। जिसने बैलगाड़ी में से खींच कर गन्ने चुराए हैं। मैं याद करती हूं वो दिन जब गांव में घर ज्यादा...

पारी नेटवर्क का विशेष लेख : 2,000 घंटे के लिए गन्ना कटाई

पारी नेटवर्क का विशेष लेख : 2,000 घंटे के लिए गन्ना कटाई

पार्थ एम.एन / PARIपांच महीने से अधिक समय तक, स्वास्थ्य जोखिम, कम मजदूरी और अपने बच्चों की शिक्षा के नुकसान के बावजूद उमेश केदार एक हंसिया उठाते हैं, आगे झुकते हैं और गन्ने को जड़ से छीलने लगते हैं।...

Share it
Share it
Share it
Top