Real all agriculture, rural news in hindi from all across villages and towns of india

संवाद
कांग्रेस ने मंदिर और धर्म की खूब राजनीति की है...
2018-11-14 05:39:04.0

आजकल अयोध्या में राम मन्दिर निर्माण का मुद्दा बहुत गरम है। जब 23 दिसम्बर 1949 की आधी रात अयोध्या की मस्जिदनुमा बिल्डिंग में अचानक घंटा घड़ियाल बजने लगे और रामलला की मूर्तियां विराजमान हो गईं और...

Read More
Reviving traditional grains

Reviving traditional grains

In Sidam Tulsiram's village in Telangana state, India, no festivity or ritual is complete without the traditionally revered jowar (sorghum) grains. Whether it is a wedding, a groundbreaking or the...

गंगा किनारे गरीब बच्चों का वो स्कूल जहां मुफ्त में फ्रेंच और संस्कृत भी सिखाई जाती है

गंगा किनारे गरीब बच्चों का वो स्कूल जहां मुफ्त में फ्रेंच और संस्कृत भी सिखाई जाती है

कानपुर। ऐसे समय में जब शिक्षा का व्यवसायीकरण हो चुका है, स्कूल आैर कोचिंग के नाम पर हजारों रुपए फीस ली जा रही है, वहीं कानपुर का एक युवा गरीब बच्चों को मुफ्त शिक्षा देकर बदलाव की अलख जगा रहा है।...

सुपर-वुमन का तो पता नहीं मगर पोस्ट-वुमन ज़रूर होती हैं: राष्ट्रीय डाक सप्ताह पर खास

'सुपर-वुमन का तो पता नहीं मगर पोस्ट-वुमन ज़रूर होती हैं': राष्ट्रीय डाक सप्ताह पर खास

लखनऊ: यूँ तो डाकघर खुलने का समय 10 बजे होता है लेकिन चिट्ठी बाँटने निकलने से पहले की तैयारी के लिए डाकिये, सुबह 8:30 बजे से ही डाकघर में मौजूद हैं। 9:30 बज चुके हैं और डाकघर का वह बड़ा सा...

Sustainable & Climate-Resilient Agriculture Model Need Morden Tools

Sustainable & Climate-Resilient Agriculture Model Need Morden Tools

Center of Excellence on Climate Change Research for Plant Protection (CoE-CCRPP), set up by the Department of Science and Technology (DST) at ICRISAT, is gearing up to support farmers for better...

आप भी जानिए कैसे होती है चकबंदी, कैसे कर सकते हैं आप शिकायत 

आप भी जानिए कैसे होती है चकबंदी, कैसे कर सकते हैं आप शिकायत 

अगर आपके गांव में चकबंदी हो रही है, या होने वाली है तो ये खबर आपके काम की है। आमतौर पर किसान चकबंदी प्रक्रिया को काफी जटिल मानते हैं। गांव में चकबंदी कैसे होती है, आइये आपको इस बारे में पूरी जानकारी...

क्या सिर्फ यादों में ही जिंदा रह जाएंगे कुएं ?

क्या सिर्फ यादों में ही जिंदा रह जाएंगे कुएं ?

लखनऊ। आज से करीब चार चार दशक पहले तक ग्रामीण इलाकों में पानी का मुख्य श्रोत कुएं हुआ करते थे। पीने के साथ-साथ सिंचाई के लिए कुएं ही साधन हुआ करते थे। वहीं हमारी संस्कृति और परंपराओं में भी कुएं की...

Share it
Top