अब प्राइवेट होंगे बस्ती, गोरखपुर मंडल के पर्यटन आवास

अब प्राइवेट होंगे बस्ती, गोरखपुर मंडल के पर्यटन आवासगाँव कनेक्शन

बस्ती। उत्तर प्रदेश के जिलों में पर्यटन आवास की हालत किसी से छुपी नहीं है, अधिकतर जिलों में पर्यटन आवास की स्थिति बदहाल है। इसी को देखते हुए पर्यटन विभाग ने पर्यटन आवासों को प्राइवेट सेक्टर में लीज पर देने का मन बनाया है। सब कुछ ठीक रहा तो इस साल बस्ती और गोरखपुर मंडल के पर्यटक आवास गुलजार हो जाएंगे। 

वर्षो पहले बनाए गए यह टूरिस्ट बंगले देखरेख के अभाव में संचालित नहीं हो पा रहे हैं। इसी के साथ ही देवरिया, कपिलवस्तु और सोनौली सहित प्रदेश के 37 पर्यटक आवासों को लीज पर देने की तैयारी शुरू हो गई है। यह कार्य पूरा होने पर बौद्ध परिपथ के पर्यटकों को काफी सहूलियत हो जाएगी। यह इलाका बौद्ध सर्किट होने के चलते पर्यटक बस्ती अथवा गोरखपुर में ही रूकना पसंद करते हैं। यहां से सांची, कौशांबी, सारनाथ, लुंबिनी, बौद्धगया और राजगीर आने-जाने में आसानी होती है। 

बस्ती के रहने वाले राकेश शुक्ला (55 वर्ष) बताते हैं, ''पर्यटकों की बढ़ती आवाजाही को देखते हुए बस्ती में हाइवे किनारे 80 के दशक में खूबसूरत बंगला बनाया गया था, फोरलेन बनने के बाद यह आवास बड़े वन ओवरब्रिज के नीचे आ गया। एक करोड़ की लागत से बना यह अत्याधुनिक पर्यटक आवास गृह महज शोपीस बन कर रह गया है। इसके खुलने का इंतजार यहां के लोग लंबे समय से कर रहे हैं, पर इस ओर न तो जनप्रतिनिधियों ने ध्यान दिया और न ही अफसरों ने इसकी खोज खबर ली। हालात यह है कि यहां आवास में लगी खिड़कियां गायब हो गई है। दरवाजे टूट गए हैं, बिल्डिग़ जर्जर हो गई है।" 

गोरखपुर जिले के रहने वाले उमेश (60 वर्ष) ने बताया, ''गोरखपुर में सस्ता और बढिय़ा रहने व खाने की सुविधा मुहैया कराने को रामगढ़ ताल में पर्यटन विभाग का बंगला 1984 में बनाया गया। हालांकि यह पर्यटकों के लिए यह कभी नहीं खुला। अब तो यह बदरंग हो गया है। इसे चलाने के लिए कई बार प्रयास हुआ लेकिन बात नहीं आगे बढ़ पाई।" 

ऐसी ही हालत देवरिया और कपिलवस्तु की है, यहां बना पर्यटक आवास भी बंद है। सोनौली के राही टूरिस्ट बंगला की आंतरिक व्यवस्था इतनी बिगड़ गई है कि वहां पर्यटक जाने से कतराने लगे हैं।

क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी आरके रावत ने बताया, ''पहले चरण में 37 पर्यटक गृहों को लीज पर देकर चलाने में आ रही कानूनी बाधाओं को दूर कर दिया गया है। यह आवास तीस साल के लिए दिए जाएंगे। इनको सजाने संवारने से लेकर बेहतर ढंग से संचालित करने की जिम्मेदारी अनुबंध करने वालों की होगी।" 

चार तक मांगी निविदा

पर्यटन विभाग ने गोरखपुर और बस्ती मंडल के पर्यटक आवासों को लीज पर देने के लिए निविदा आमंत्रित की है। चार फरवरी इसके लिए अंतिम तारीख है। 

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top