भारतीय रेल: गार्ड की जगह लेगा ये उपकरण, रखेगा पूरी ट्रेन पर नजर

भारतीय रेल: गार्ड की जगह लेगा ये उपकरण, रखेगा पूरी ट्रेन पर नजररेलवे अब बिना गार्ड की ट्रेन चलाएगा।

लखनऊ। बिना गार्ड की ट्रेन ये शायद कभी सोचा भी नहीं होगा आपने? लेकिन ये सच होने वाला है। रेलवे अब बिना गार्ड की ट्रेन चलाएगा। इसके लिये रेलवे एक नई तरह की तकनीक का इस्तेमाल करेगा। पहले चरण में ये तकनीक 1000 माल गाड़ियों में चलाई जाएंगी। इसके लिए रेलवे ने एक ग्‍लोबल टेंडर जारी किया है। टेंडर 14 फरवरी 2018 को खुलेगा। रेलवे अधिकारियों का कहना है कि अगले साल यह तकनीक माल गाड़ी में लगनी शुरू हो जाएगी।

एक गार्ड की तरह ही नजर रखेगा ये उपकरण

इस तकनीक को एंड टू ट्रेन एलिमेटरी (ईओटीटी) नाम दिया गया है। ईओटीटी नाम का यह उपकरण ट्रेन के अंतिम छोर पर स्थित गार्ड यान (ब्रेक यान) में ही लगाया जाएगा। उपकरण एक कम्यूनिकेशन सिस्टम के तहत काम करेगा, जो माल गाड़ी के आगे इंजन से लगाए गए अंतिम छोर के डिब्बे तक जुड़ा रहेगा। पूरी ट्रेन की एक-एक पल की गतिविधि उपकरण में दर्ज होती रहेगी और उसी के अनुसार वह काम करेगा।

ग्रीन सिग्‍नल से चलेगी ट्रेन

प्लेटफार्म से माल गाड़ी के रवाना होने से पहले ईओटीटी ब्रेक पाइप प्रेशर आदि को चेक करेगा और उसके बाद लोको पायलटों को ग्रीन सिग्नल देगा। आगे सिग्नल मिलने के बाद संतुष्ट होने पर लोको पायलट माल गाड़ी को शुरू कर देंगे। इसके बाद उपकरण लगातार लोको पायलट और कंट्रोल के संपर्क में रहेगा। सूचनाओं का आदान-प्रदान करने के साथ ही सेफ्टी की भी निगरानी करेगा। ये उपकरण समय- समय पर ब्रेक पाइप प्रेशर को चेक करता रहेगा। समय पर प्रेशर का भी उपयोग करता रहेगा।

खतरे की देगा जानकारी

ईओटीटी विशेष परिस्थिति में या ट्रेन के दो भाग में बंट जाने पर लोको पायलट और कंट्रोल को सूचित करेगा। यानी पूरी तरह गार्ड की भूमिका निभाएगा। सिस्टम की सफलता के बाद आने वाले दिनों में भारतीय रेल की सभी माल गाड़ी में यह उपकरण लगा दिए जाएंगे।

सवारी ट्रेनों में भी होगा परीक्षण

रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि अगर अगर माल गाड़ी में ईओटीटी तकनीक पूरी तरह सफल रहती है तो इसे बाद में सवारी ट्रेनों में भी शुरू किया जाएगा।

First Published: 2017-12-06 10:19:50.0

Share it
Share it
Share it
Top