पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा के पार से हुई गोलीबारी के बारे में पी-5 देशों को बताया

पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा के पार से हुई गोलीबारी के बारे में पी-5 देशों को बतायाएजाज अहमद चौधरी, विदेश सचिव, पाकिस्तान

इस्लामाबाद (भाषा)। पाकिस्तान ने शनिवार को कहा कि उसने ‘पी-5' देशों (अमेरिका, चीन, रुस, ब्रिटेन और फ्रांस) के राजदूतों को नियंत्रण रेखा पर भारत द्वारा बिना उकसावे की गयी फायरिंग के बारे में बताया और इन देशों से इस क्षेत्र में शांति और सुरक्षा सुनिश्चित करने में अपनी भूमिका निभाने की अपील की।

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि विदेश सचिव एजाज अहमद चौधरी ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्यों के राजदूतों को ‘नियंत्रण रेखा पर लक्षित हमले करने के मामूली भारतीय दावे' के बारे में बताया। विदेश सचिव के साथ सैन्य संचालन महानिदेशक (DGMO) भी थे। बयान के अनुसार DGMO ने नियंत्रण रेखा पर मौजूद स्थिति के बारे में विस्तार से बताया और ‘लक्षित हमले' के भारतीय दावे को पूरी तरह खारिज कर दिया।

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने दावा किया कि वास्तव में 28-29 सितंबर की दरम्यानी रात भारतीय बलों ने नियंत्रण रेखा पर बिना उकसावे के कई बार फायरिंग की जिससे दो पाकिस्तानी सैनिकों की मौत हो गयी। बयान में कहा गया है, ‘‘पाकिस्तान के सशस्त्र बलों ने भारत द्वारा संघर्षविराम उल्लंघन का करारा जवाब दिया। उन्होंने नियंत्रण रेखा पर सैनिकों की स्थितियों और पहले से मौजूद घुसपैठ निरोधक प्रणाली के बारे में विस्तार से बताया।'' DGMO ने दूतों को नियंत्रण रेखा बाड़ों, कंटीले तारों, प्रकाश व्यवस्था, सीमा चौकियों, बंकरों आदि के बारे में जानकारी दी और कहा किया कि ऐसे में घुसपैठ नहीं होती।

बयान में कहा गया है, ‘‘उन्होंने (विदेश सचिव ने) खासकर पिछले कुछ दिनों में भारतीय आक्रमकता और युद्धोन्माद पर गंभीर चिंता प्रकट की, ऐसी स्थिति भारतीय प्रधानमंत्री के सार्वजनिक बयानों में नजर आती है।'' विदेश सचिव ने राजदूतों से कहा कि पाकिस्तान खुद ही ‘राजकीय आतंकवाद समेत आतंकवाद का शिकार रहा है। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्यों से इस क्षेत्र में शांति और सुरक्षा सुनिश्चित करने में अपनी भूमिका निभाने का आह्वान किया।

Share it
Top