रेलवे की चिंताओं को दूर करने के लिए व्यापक रणनीति बन रही है: सुरेश प्रभु 

रेलवे की चिंताओं को दूर करने के लिए व्यापक रणनीति बन रही है: सुरेश प्रभु सुरेश प्रभु, रेल मंत्री।

नई दिल्ली (भाषा)। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि उपभोक्ता संतुष्टि, लोडिंग, आधारभूत संरचना के विकास, स्टेशनों का विकास जैसी तत्कालिक चिंताओं से निपटने के लिए रेलवे व्यापक रणनीति पर काम कर रहा है।

फिक्की के एक कार्यक्रम में रेल मंत्री ने कहा, ‘‘रेलवे में ढांचागत बदलाव की जरुरत है और यह सुधार है। निवेश की कमी के कारण यह प्रभावित हो रहा है। लेकिन हमारी तात्कालिक चिंताएं उपभोक्ता संतुष्टि, लोडिंग, आधारभूत संरचना और स्टेशनों का विकास आदि हैं।'' रेलवे की ओर से शुरु किये गए सुधारों का जिक्र करते हुए प्रभु ने कहा कि कार्यक्रम का विषय उच्च विकास बनाये रखना है। सुधार एक सतत प्रक्रिया है। लेकिन जब तक आप लक्ष्यों को चुस्त दुरुस्त नहीं बनाते तब तक आप सफल नहीं होंगे।

महत्वाकांक्षी स्टेशन पुनर्विकास योजना के बारे में उन्होंने कहा, ‘‘हमें स्टेशनों की पुनर्विकास योजना के लिए कई मॉडल लाने होंगे। जहां हबीबगंज स्टेशन पीपीपी मॉडल पर आधारित हैं, भुवनेश्वर स्टेशन का विकास राज्य सरकार के साथ किया जा रहा है जबकि गांधीनगर स्टेशन का पुनर्विकास केंद्र और राज्य की हिस्सेदारी के साथ हो रही है।

रेल आधारभूत ढांचे का विकास राज्यों के साथ संयुक्त उद्यम के तहत करने का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इससे भूमि अधिग्रहण और राज्यों में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति से निपटने में मदद मिलती है। उन्होंने कहा कि हमें निवेश के लिए संसाधन तलाशने होंगे। रेलवे ने पिछले 2 वर्षो में निवेश बढ़ाये हैं।

Share it
Share it
Share it
Top