सरकार की नीतियों की वजह से डूबी किंगफिशर: माल्या

सरकार की नीतियों की वजह से डूबी किंगफिशर: माल्याहेराफेरी के आरोप लगने के बाद भारत से निकल कर लंदन में रह रहे हैं विजया माल्या ।

नई दिल्ली (भाषा)। अब विजय माल्या ने किंगफिशर एयरलाइंस के बर्बाद होने के पीछे तब की सरकारी की नीतियों को जिम्मेदार बताया है। उन्होंने कहा, "मैंने सरकार से लोन नहीं, मदद मांगी थी। सरकारी एयर इंडिया को तो उबार लिया गया, लेकिन सबसे बड़ी घरेलू एयरलाइन किंगफिशर को छोड़ दिया गया।"

माल्या ने एक के बाद एक टि्वटर पर जारी अपनी कई टिप्पणियों में कहा है कि वह किंगफिशर एयरलाइन के लिए केवल नीतियों में बदलाव चाहते थे। उन्हें कर्ज की दरकार नहीं थी। उन्होंने एयरइंडिया को सरकारी खजाने से मदद दिए जाने पर सवाल उठाया है। माल्या ने एक ट्वीट में कहा, ‘केएफए (किंगफिशर एयरलाइन) 140 डालर प्रति बैरल महंगे तेल, ऊंचे करों और रुपये के अवमूल्यन के कारण डूबी।' उन्होंने इसी संबंध में एयरलान कारोबार में प्रत्यक्ष विदेशी भागीदारी की नीति और आर्थिक मंदी का भी उल्लेख किया है। उन्होंने कहा है कि केएफसी भारत की सबसे बड़ी एयरलाइन थी और उस पर सबसे ज्यादा बुरा प्रभाव पड़ा। सरकार ने एयर इंडिया की तो मदद की पर किंगफिशर को छोड़ दिया। माल्या ने कहा कि नीतियों में बदलाव न होने से एयरलाइनों की स्थिति खराब हुई।

माल्या ने कहा कि उन्होंने ‘मदद की गुहार लगाई थी। कर्ज के लिए झोली नहीं फैलाई थी, नीतियों में बदलाव की मिन्नत की थी।' उनका दावा है कि उनकी एयरलाइन भारत की ‘सबसे बड़ी और सबसे अच्छी' एयरलाइन थी। वह डूबी तो आर्थिक और नीतिगत परिस्थितियों के कारण डूबी।

माल्या के अनुसार, मैं पूरी विनम्रता के साथ उसके कर्मचारियों और उसके हित के साथ जुड़े लोगों के प्रति हररोज खेद प्रकट करता हूं। सचमुच मेरी इच्छा थी कि सरकार मदद करे। उन्होंने कहा कि उनके शराब के कारोबार पर सरकार ने ‘बुरी तरह शिकंजा' डाल रखा था। रोजगार और संपर्क सुविधा के नाते किंगफिशर को अपना आकार छोटा करने की भी छूट नहीं दी गयी।

किंगफिशर के कर्ज के साथ जनता का पैसा डूबने के आरोप पर माल्या ने सवाल किया है, ‘‘एयर इंडिया को दिए गए सार्वजनिक कोष के बारे में क्या कहेंगे? मैंने तो निपटान का प्रस्ताव रखा था।'' कर्ज की हेराफेरी के आरोप पर उन्होंने ट्वीट में कहा, ‘धन का कैसा गबन? मैंने केएफए में 4,500 करोड़ रुपए से ज्यादा धन लगाया था।' उन्होंने ठाठबाट की आपनी शैली के बारे में कहा कि अगर मेरी जीवन-शैली विलासिता भरी थी भी तो वह किंगफिशर के पैदा होने के दो दशक पहले थी।

किंगफिशर पर लगे थे ये आरोप

- 1000 से भी ज्‍यादा पेज की चार्जशीट में सीबीआई ने किंगफिशर एयरलाइंस पर कई आरोप लगाए हैं। आरोप है कि एयरलाइन ने आईडीबीआई की तरफ से मिले 900 करोड़ रुपए के लोन में से 254 करोड़ रुपए का निजी इस्‍तेमाल किया।

- सीबीआई ने यह चार्जशीट मुंबई स्थि‍त सीबीआई कोर्ट में दाखिल की है।

- एजेंसी ने ये भी कहा कि आईडीबीआई ने कंपनी को रविवार के दिन लोन दिया था, जो कि आरबीआई के नियमों के खिलाफ है।

- इस मामले में आईडीबीआई बैंक के पूर्व चेयरमैन योगेश अग्रवाल सहित 9 लोगों को हाल में गिरफ्तार किया गया था।

- सीबीआई की मांग पर कोर्ट ने आरोपियों को सात फरवरी तक हिरासत में भेज दिया। इनकी जमानत याचिका पर 30 जनवरी को कोर्ट सुनवाई करेगी।

Share it
Top