पिछले पांच साल में हुए रेल हादसे, जिसमें सैकड़ों लोगों की जान चली गई

पिछले पांच साल में हुए रेल हादसे, जिसमें सैकड़ों लोगों की जान चली गईपिछले पांच साल में हुए रेल हादसे

कानपुर। रविवार सुबह करीब तीन बजे मध्य प्रदेश के इंदौर से बिहार की राजधानी पटना जा रही इंदौर-पटना एक्‍सप्रेस ट्रेन (19321) की 14 बोगी कानपुर के पास पुखरायां में पटरी से उतर गई, जिसमें करीब 63 लोगों की मौत हो गई और सैकड़ों लोग घायल हो गए हैं। रेलवे अधिकारियों का कहना है कि घायलों की संख्या बढ़ने की आशंका है।

कानपुर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक जकी अहमद ने कहा कि घायलों को इलाके में स्थित अस्पतालों में ले जाया गया है। सभी अस्पतालों को अलर्ट रहने के लिए कहा गया है। 30 से ज्यादा एंबुलेंसें काम में लगा दी गई हैं। उन्होंने बताया कि 250 से ज्यादा पुलिसकर्मी राहत और बचाव अभियानों में मदद कर रहे हैं।

पिछलें पाच साल में हुए रेल हादसे

पिछले पांच साल में ऐसे कई रेल हादसे हुए हैं जिसमें सैकड़ों लोगों की जान चली गई। आइये डाले उन घटनओं पर नज़र....

28 मई 2010

पश्चिम बंगाल में रेल पटरियों में तोड़फोड़ के कारण ज्ञानेश्वरी एक्सप्रेस के 13 डिब्बे पटरियों से उतर गए थे और उनमें एक मालगाड़ी ने टक्कर मार दी थी। इस हादसे में 148 लोगों की मौत हुई थी।

19 जुलाई 2010

सियालदह जा रही उत्तरबंगा एक्सप्रेस पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में सैंथिया स्टेशन पर वनांचल एक्सप्रेस से टकरा गई थी जिसमें कम से कम 60 लोग मारे गए थे।

22 मई 2011

बिहार के मधुबनी जिले में एक मानव रहित रेलवे क्रॉसिंग पर एक पैसेंजर ट्रेन एक वाहन से टकरा गई थी। इस हादसे में वाहन में सवार 16 लोगों की मौत हो गई थी।

7 जुलाई 2011

उत्तर प्रदेश में एक मानव रहित रेलवे क्रॉसिंग पर 80 यात्रियों को लेकर जा रही एक बस के रेलगाड़ी से टकरा जाने पर कम से कम 31 लोगों की मौत हो गई थी।

22 नवंबर 2011

झारखंड के गिरिडीह में हावड़ा-देहरादून एक्सप्रेस में आग लग जाने से सात लोग जिंदा जल गए थे।

11 जनवरी 2012

दिल्ली जा रही ब्रह्मपुत्र मेल और एक मालगाड़ी के बीच टक्कर में पांच लोगों की मौत हो गई थी।

22 मई 2012

बेंगलूर जा रही हम्पी एक्सप्रेस आंध्र प्रदेश के अनंतपुर जिले में एक मालगाड़ी से टकरा गई थी। इस हादसे में कम से कम 25 लोग मारे गए थे।

31 मई 2012

हावड़ा से देहरादून जा रही दून एक्सप्रेस उत्तर प्रदेश में जौनपुर के पास पटरी से उतर गई थी। इस हादसे में कम से कम सात लोगों की मौत हो गई थी।

30 जुलाई 2012

दिल्ली से चेन्नई जा रही तमिलनाडु एक्सप्रेस की एक बोगी में आंध्र प्रदेश के नेल्लोर के पास आग लग जाने से कम से कम 35 यात्री जिंदा जल गए थे।

19 अगस्त 2013

बिहार के खगड़िया जिले में राज्य रानी एक्सप्रेस ट्रेन की चपेट में आकर 28 लोगों की मौत हो गई थी।

25 जून 2014

बिहार के छपरा में डिब्रूगढ़ राजधानी के नौ डिब्बे पटरी से उतर गए। इस हादसे में पांच यात्रियों की मौत हो गई है जबकि आठ घायल हो गए।

7 नवम्बर 2016

बिहार के दरभंगा में ट्रेन की चपेट में आने से 3 महिलाओं समेत 5 लोगों की मौत हो गई। हादसे में जान गंवाने वाली 3 महिलाएं और 2 बच्चें छठ पूजा कर लौट रही थे। हादसा दरभंगा जिले में रामभद्रपुर स्टेशन के पास हुआ था।

Share it
Top