मध्यप्रदेश के पेंच पार्क में बढ़ रही बाघों की संख्या 

मध्यप्रदेश के पेंच पार्क में बढ़ रही बाघों की संख्या जबलपुर स्टेट फॉरेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट (एसएफआरआई) की जारी ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, पार्क में 53 बाघ हैं।

सिवनी (भाषा)। मध्यप्रदेश के प्रसिद्ध पेंच टाईगर रिजर्व में बाघों की संख्या बढ़ने की खुशखबरी गणना के ताजा आंकड़ों में दी गई है। जबलपुर स्टेट फॉरेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट (एसएफआरआई) की जारी ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, पार्क में 53 बाघ हैं।

पेंच के फील्ड डायरेक्टर शुभरंजन सेन ने शनिवार को बताया कि दिसम्बर 2015 से मार्च 2016 के बीच पार्क में बाघों की गणना कराई गई थी। कैमरा ट्रेप और बाघ रहवासों के आधार पर एसएफआरआई जबलपुर ने हाल ही में गणना के परिणाम सार्वजनिक किए हैं। साल 2014 में डब्ल्यूआईआई देहरादून की गणना में पार्क में 44 बाघ कैमरा ट्रेप में मिले थे। दो साल बाद एसएफआरआई जबलपुर से की गई गणना में पार्क में 50 बाघ कैमरा ट्रेप में मिले हैं। कैमरा ट्रेप के अलावा अन्य तरीकों से हुई गणना में पेंच पार्क में 53 से ज्यादा बाघ होना बताया गया है।

सेन ने बताया कि एसएफआरआई ने गणना के दौरान तैयार की गई रिपोर्ट में पार्क में होने वाले मानव हस्तक्षेप का भी आंकलन किया है। पार्क में मानव हस्तक्षेप की घटनाओं को नहीं के बराबर माना गया है, जिसे निम्नतम श्रेणी (लो कैटेगरी) में रखा गया है।

गौरतलब है कि गणना में ढाई साल या उससे कम उम्र के बाघ शावकों को शामिल नहीं किया जाता है। यदि पार्क में मौजूद बाघ शावकों की संख्या को ताजा आंकड़ों में जोड़ दिया जाए, तो बाघों की संख्या 80 के पार पहुंच जायेगी। बाघों के अलावा घनत्व के आधार पर पार्क के शाकाहारी वन्यप्राणियों की गणना के आंकड़े भी एसएफआरआई ने जारी किए हैं।

रिपोर्ट में चीतल, सांभर, नीलगाय, जंगली सूअर, लंगूर और बारागौर (बायसन) शाकाहारी वन्यप्राणियों की संख्या में भी इजाफा हुआ है। कोर और बफर एरिया को मिलाकर कुल 1179 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल पेंच टाईगर रिजर्व में फैला है।

Share it
Top