महाराष्ट्र में 10 महानगरपालिका के लिए पड़ रहे हैं वोट, बीएमसी चुनाव के लिए सुरक्षा कड़ी 

महाराष्ट्र में 10 महानगरपालिका के लिए पड़ रहे हैं वोट, बीएमसी चुनाव के लिए सुरक्षा कड़ी महाराष्ट्र में बृहन्मुंबई महानगरपालिका ।

मुंबई (भाषा)। महाराष्ट्र में बृहन्मुंबई महानगरपालिका समेत दस महानगरपालिकाओं के लिए मतदान हो रहा है। आज के मतदान से ये तय हो जाएगा कि इस बार किस पार्टी का वर्चस्व रहेगा। बृहन्मुंबई महानगरपालिका चुनाव 2017 (बीएमसी) में कुल 227 सीटों के लिए 2275 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। इसके अलावा 717 उम्मीदवार निर्दलीय है। वोटों की गिनती गुरुवार (23 फरवरी) को होगी।

सुबह से ही मुम्बई में नेता अभिनेता व जनता अपने मतों का प्रयोग कर रही है। बीएमसी चुनाव इसलिए भी अहम है क्योंकि इसकी तुलना विधानसभा और लोकसभा चुनावों से की जाती है। इस चुनाव में शिवसेना और भारतीय जनता पार्टी इस बार अलग-अलग चुनाव लड़ रहे हैं। सुबह साढ़े 7 बजे से मतदान शुरू है।

दूसरे चरण के चुनाव में 3.77 करोड़ मतदाता 10 नगर निगमों, 11 जिला परिषदों और 118 पंचायत समितियों की 3210 सीटों के लिए चुनाव लड़ रहे 17,331 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे।

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने इस चुनाव के लिए अपनी-अपनी पार्टियों का नेतृत्व करते हुये जोर-शोर से चुनाव प्रचार किया। विपक्षी कांग्रेस और राकांपा ने भी अपनी ओर से कोई कसर नहीं छोड़ी।

राज्य में 43,160 मतदान केंद्रों पर मतदान सुबह साढे सात बजे शुरू हुआ। दूसरे चरण में मतदान रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग, सतारा, सांगली, कोल्हापुर, पुणे, सोलापुर, नासिक, अमरावती और गढ़चिरौली में हो रहा है, इन जिलों की 118 पंचायत समितियों में चुनाव हो रहा है।

जिन 10 नगर निगमों में चुनाव हो रहे हैं उनमें मुंबई, ठाणे, उल्हासनगर, नासिक, पुणे, पिंपरी-चिंचवाड, सोलापुर, अकोला, अमरावती और नागपुर शामिल हैं। मतदान के लिए करीब 43,160 मतदान केंद्र स्थापित किए गए हैं। चुनाव ड्यूटी पर 2.76 लाख चुनाव कर्मचारी और करीब इतनी ही संख्या में पुलिस कर्मी तैनात किए गए हैं।

जिला परिषदों और पंचायत समितियों में 1.80 करोड़ से अधिक मतदाता जबकि 10 नगर निगमों में 1.95 करोड़ शहरी मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे।

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में 2275 प्रत्याशी और 92 लाख मतदाता हैं। एशिया के सबसे बड़े स्थानीय निकाय का संचालन पिछले दो दशक से भाजपा के समर्थन से शिवसेना ने किया है। वर्तमान में हो रहे चुनावों के परिणाम देवेन्द्र फडणवीस सरकार का भविष्य तय करेंगे।

वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव में बहुमत हासिल करने से पहले शिवसेना की जूनियर साझीदार रही भाजपा ने शिवसेना द्वारा दिए गए सीटों की संख्या के प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया था।

भाजपा दुनिया के सबसे बड़े स्थानीय निकायों में से एक बीएमसी में सत्ता हासिल करने की कोशिश में है, बीएमसी का सालाना बजट 37,000 करोड़ रुपए से अधिक होता है।

दस स्थानीय निकायों की 1268 सीटों के लिए 9208 प्रत्याशी मैदान में हैं, 11 जिला परिषदों के लिए 654 सीटों पर 2956 प्रत्याशी किस्मत आजमा रहे हैं और 118 पंचायत समितियों की 1288 सीटों के लिए 5167 प्रत्याशी ताल ठोंक रहे हैं। 15 जिला परिषदों और 165 पंचायत समितियों के लिए मतदान का पहला चरण 16 फरवरी को हुआ जहां 69 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया। मतगणना 23 फरवरी को होगी.

नागपुर में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत उन लोगों में से थे जिन्होंने सुबह सुबह मतदान किया। भागवत ने आरएसएस मुख्यालय के करीब स्थित भारत महिला विद्यालय में सुबह करीब साढ़े सात बजे मतदान किया।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने महल स्थित टाउन हाल में नागपुर नगर निगम के लिए सुबह करीब साढ़े नौ बजे अपने मताधिकार का उपयोग किया। मतदान के बाद गडकरी ने संवाददाताओं से बातचीत के दौरान मतदाताओं से जाति, धर्म आदि को दरकिनार कर योग्य प्रत्याशी का चयन करने की अपील की। उन्होंने उम्मीद जताई कि इस बार मतदान का प्रतिशत 70 तक होगा।

गडकरी ने 122 सदस्यीय एनएमसी में कम से कम 100 सीटें जीतने का भरोसा भी जताया। एनएमसी के लिए 821 प्रत्याशी मैदान में हैं।

मुम्बई पुलिस ने सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए

बृहन्मुंबई महानगरपालिका चुनाव 2017 (बीएमसी) सुचारु रूप से कराने के लिए मुम्बई पुलिस ने समूचे शहर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हैं।

पुलिस उपायुक्त अशोक दुधे ने कहा, ‘‘ पुलिस शहर में मतदान के दौरान किसी भी अप्रिय घटना को टालने के लिए कड़ी निगरानी रख रही है। शहर में 7,297 मतदान केंद्र हैं जिसमें 726 संवेदनशील केंद्र शामिल हैं। इसके अलावा, शहर के 159 इलाकों को संवेदनशील घोषित किया गया है। शहर की अहम प्रतिष्ठानों पर भी पुलिस बंदोबस्त किया गया है।''

पुलिस ने मतदान केंद्रों के 100 मीटर तक सीआरपीसी की धारा 144 (निषेधाज्ञा) लागू कर दी है जहां गैर मतदाताओं के प्रवेश पर रोक रहेगी। प्रवक्ता ने कहा कि चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद से आचार संहिता के उल्लंघन को लेकर कम से कम 17 प्राथमिकियां और 59 गैर संज्ञेय अपराध दर्ज किए गए हैं।

उन्होंने कहा कि 3,000 लोगों के खिलाफ एहतियातीतौर पर कार्रवाई की गई है और शहर से 125 लोगों को बाहर निकाल दिया गया है। इस दौरान पुलिस ने करीब 1,100 लोगों को एहतियाती तौर पर गिरफ्तार किया गया है. इसके अलावा, 844 वारंट जारी किए गए हैं और अवैध शराब बेचने पर 185 मामले दर्ज किए गए हैं। उपायुक्त ने कहा कि मतदान केंद्रों के बाहर विशेष और अपराध शाखाओं के कर्मी सादे कपड़ों में तैनात रहेंगे।

First Published: 2017-02-21 11:51:11.0

Share it
Share it
Share it
Top