नोटबंदी, रेल दुर्घटना प्रधानमंत्री की पूंजीवादी सोच का परिणाम, जनता सबक सिखायेगी: मायावती 

नोटबंदी, रेल दुर्घटना प्रधानमंत्री की पूंजीवादी सोच का परिणाम, जनता सबक सिखायेगी: मायावती मायावती, बसपा प्रमुख 

नई दिल्ली (भाषा)। नोटबंदी और कल की रेल दुर्घटना के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर करारा प्रहार करते हुए BSP प्रमुख मायावती ने कहा कि वह इसके लिए प्रधानमंत्री मोदी की पूंजीवादी सोच और कार्यशैली को जिम्मेदार मानती है और जनता सब देख रही है और राज्य विधानसभा चुनाव और 2019 के लोकसभा चुनाव में उन्हें सबक सिखायेगी।

पुखरायां में रेल दुर्घटना को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए मायावती ने संसद भवन परिसर में कहा, ‘‘ये जो कुछ कल हुआ है, वह केंद्र की वर्तमान सरकार द्वारा रेल पटरियों पर ध्यान नहीं देने की वजह से हुआ है। मैं इसके लिए रेल मंत्री को नहीं बल्कि प्रधानमंत्री मोदी की पूंजीवादी सोच और कार्यशैली को जिम्मेदार मानती हूं।''

जब BJP के नेतृत्व में केंद्र में राजग सरकार बनी तब मैंने कहा था कि अब गरीब, मेहनतकश, मध्यमवर्ग की हालत बहुत खराब होने वाली है। बीच-बीच में मोदी सरकार ने जनहित के नाम पर कई फैसले लिये, लेकिन जनहित की आड़ में अपने चहेते पूंजीपतियों और धन्नासेठों को फायदा पहुंचाया।
मायावती, BSP प्रमुख

BSP प्रमुख ने कहा कि केंद्र सरकार ने बुलेट ट्रेन चलाने का फैसला किया और उस पर अरबो-खरबों रुपये खर्च कर रहे हैं लेकिन रेल आधारभूत संरचना, पटरियों आदि के रखरखाव और मरम्मत पर ध्यान नहीं दिया। उन्होंने कहा कि यह बुलेट ट्रेन अहमदाबाद से मुम्बई तक चलायी जाएगी। अहमदाबाद गुजरात में है, जबकि गुजरात के व्यापारी मुम्बई कारोबार करने जाते हैं। ऐसे में बुलेट ट्रेन केवल पूंजीपतियों को ध्यान में रख कर चलायी जा रही है।

मायावती ने कहा कि बुलेट ट्रेन पर खर्च होने वाला अरबों-खरबों रुपया अगर रेल सुविधा और सुरक्षा पर खर्च होता तो ऐसे ट्रेन हादसे नहीं होते। उन्होंने आरोप लगाया कि पूरे देश की जनता त्राहि-त्राहि कर रही है और अगर आप प्रधानमंत्री का मिजाज देखें तो आपको स्पष्ट हो जायेगा कि जब गरीब, मेहनतकश, मध्यमवर्ग को पीड़ा होती है तब उन्हें खुशी होती है। जब पूंजीपतियों को खुशी मिलती है तब प्रधानमंत्री और खुश हो जाते हैं।

कल प्रधानमंत्री आगरा में परिवर्तन रैली में गए थे। वहां उन्होंने पिछली सरकार की आवास योजना पर लीपापोती करके एक नई योजना पेश कर दी। लेकिन आगरा से कुछ ही घंटे की दूरी पर कानपुर देहात नहीं गए जहां रेल दुर्घटना घटी थी। अगर प्रधानमंत्री वहां जाते तो लोगों के जख्मों पर मरहम लगता।
मायावती, BSP प्रमुख

उन्होंने कहा कि रेल में गरीब लोग, मध्यम वर्ग सफर करता है। लेकिन उन्हें सुरक्षा और सुविधा नहीं मिल रही है।

BSP प्रमुख ने कहा, ‘‘BJP सरकार को यह महंगा पड़ेगा। 2019 के लोकसभा चुनाव और उससे पहले राज्य विधानसभा चुनाव में जनता उन्हें सबक सिखायेगी।'' उन्होंने कहा कि 500 रुपये और 1000 रुपये के नोट पर पाबंदी लगाने का निर्णय किया गया और यह दावा किया गया कि 10 महीने से तैयारी चल रही थी। जब इतने समय से तैयारी चल रही थी तब जनता को इतनी परेशानियां क्यों उठानी पड़ी? मायावती ने दावा किया कि प्रधानमंत्री मोदी ने नोटबंदी का निर्णय अपने चहेते पूंजीपतियों के कालेधन, अपनी पार्टी और नेताओं के कालेधन को ठिकाने लगाने के लिए किया। और अब 50 दिन और मांग रहे हैं।

उन्होंने कहा कि जनता इतनी नासमझ नहीं है। वो सब समझती है। BJP ने अपने एक चौथाई चुनावी वादे पूरे नहीं किये और जनता को उलझाने का काम कर रही है। जनता उन्हें सबक सिखायेगी।

Share it
Top