ओबामा ने मोदी को किया फोन, संबंधों को मजबूत करने के लिए दिया धन्यवाद 

ओबामा ने मोदी को किया फोन, संबंधों को मजबूत करने के लिए दिया धन्यवाद दोनों नेताओं के बीच फोन पर कल हुई बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने भारत और अमेरिका के बीच सामरिक साझीदारी को मजबूत बनाने में योगदान और सहयोग देने के लिए ओबामा को धन्यवाद दिया।

वॉशिंगटन (भाषा)। अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भारत और अमेरिका के बीच संबंधों को मजबूत बनाने वाली साझेदारी के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फोन करके उन्हें धन्यवाद दिया और दोनों नेताओं ने रक्षा और असैन्य परमाणु उर्जा संबंधों को और सुदृढ़ बनाने के तरीकों पर चर्चा की।

दोनों नेताओं के बीच फोन पर कल हुई बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने भारत और अमेरिका के बीच सामरिक साझीदारी को मजबूत बनाने में योगदान और सहयोग देने के लिए ओबामा को धन्यवाद दिया। व्हाइट हाउस ने फोन पर हुई बातचीत का ब्यौरा देते हुए कहा कि ओबामा ने उनकी साझेदारी के लिए शुक्रिया अदा करने और रक्षा, असैन्य परमाणु उर्जा और लोगों के बीच आपसी संपर्क बढ़ाने समेत सहयोग के साझे प्रयासों की समीक्षा के मकसद से कल मोदी से फोन पर बात की।

व्हाइट हाउस ने कहा, ‘‘ओबामा ने वर्ष 2015 में भारत के गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल होने की याद ताजा की और प्रधानमंत्री को भारत के आगामी गणतंत्र दिवस की 68वीं वर्षगांठ से पहले बधाई दी।'' इसमें कहा गया है, ‘‘दोनों नेताओं ने भारत को अमेरिका के एक बड़े रक्षा सहयोगी के तौर पर मान्यता देने और जलवायु परिवर्तन की वैश्विक चुनौती से निपटने समेत साझी आर्थिक और सुरक्षा प्राथमिकताओं पर हुई प्रगति पर चर्चा की।''

प्रधानमंत्री कार्यालय ने नई दिल्ली में एक बयान में कहा कि दोनों नेताओं ने पिछले कुछ वर्षों में भारत और अमेरिका के बीच संबंधों में अहम समग्र प्रगति एवं सहयोग की संतोष जताते हुए समीक्षा की। मोदी ने ओबामा को उनके भविष्य की योजनाओं के लिए शुभकामनाएं दी।

मोदी के मई 2014 में चुनाव में जीत प्राप्त करने के बाद ओबामा उन्हें सबसे पहले बधाई देने वाले नेताओं में शामिल थे और उन्होंने उन्हें व्हाइट हाउस आने का तत्काल निमंत्रण दिया था। दोनों नेताओं ने सितंबर 2014 में व्हाइट हाउस में मुलाकात की थी। इसके बाद से उन्होंने आठ बार मुलाकात की है जो एक रिकॉर्ड है।

दक्षिण एवं मध्य एशिया मामलों के लिए सहायक विदेश मंत्री निशा देसाई बिस्वाल के अनुसार दोनों नेताओं के बीच गर्मजोशी भरे संबंध हैं। निशा ने हाल में एक साक्षात्कार में कहा, ‘‘उनके बीच काफी आपसी भाईचारा है। वे नेतृत्व, मूल्यों एवं दृष्टिकोण को लेकर एक दूसरे का बहुत सम्मान करते हैं।''

Share it
Top