छोटी छठ में व्रतियों ने चखा रसियाव का प्रसाद 

छोटी छठ में व्रतियों ने चखा रसियाव का प्रसाद घाट में पूजा की बेदी को तैयार करती महिला।

लखनऊ। नहाय खाय यानि आहार शुद्धि और व्रत संकल्प के साथ शुक्रवार से शुरू हुई छठ पूजा के बाद आज शनिवार को शहर में खरना यानि छोटी छठ का त्योहार मनाया गया। इस अवसर पर महिलाओं ने साठी के चावलों और गन्ने के रस से बना रसियाव का प्रसाद चखा। खरना यानि छोटी छठ के दिन घरों में रात भर भजन कीर्तन का कार्यक्रम आयोजित होता रहा।

साठी के चावलों और गन्ने के रस से बनता है रसियाव

नहाय खाय से शुरू हुए पहले दिन के बाद छठ के दूसरे दिन खरना का त्योहार मनाया जाता है, जिसको छोटी छठ भी कहा जाता है। व्रत रखने वाली महिलाएं इस दिन साठी के चावलों और गन्ने के रस से बना रसियाव यानि खीर बनाती हैं और शाम को इस प्रसाद को चखने के बाद निर्जल व्रत की शुरुआत करती हैं, जिसका समापन उगते सूर्य को अर्घ्य देने के बाद किया जाता है।

छठ माई से मांगती हैं वरदान

शुक्रवार से शुरू हुए इस पर्व पर व्रत रखने वाली महिलाएं पूरे 48 घंटे तक व्रत रखेंगे और रविवार की शाम पानी में खड़े होकर ढलते हुए सूरज को पहला अर्घ्य देंगी। अगले क्रम में सोमवार को पूजा का समापन सुबह उगते हुए सूरज को दूसरा अर्घ्य देने के साथ किया जायेगा। ये पूजा सुहागिनें अपने पति की और अपने बच्चों की लम्बी उम्र और सुख समृद्धि के लिये करती हैं और छठ माई से उनके लिये वरदान मांगती हैं।

घरों में चलती रही तैयारियां

छठ पूजा को लेकर महिलाएं आज काफी उत्साहित नजर आयीं। कोई सामान पूजा की सामग्री खरीदने में लगा रहा तो कोई कपड़ों और गहनों की खरीदारी में व्यस्त दिखायी दिया। वहीं कई महिलाएं ऐसी भी दिखीं जो छठी माई का भोग तैयार करने में व्यस्त रहीं। कई जगहों पर घरों में गड्ढे खुदवाये जाने का काम भी जारी रहा। जो महिलाएं घाट पर जाकर पूजा नहीं करना चाहतीं, वह अपने घरों में ही खोदे गये गढ्ढों में भरे गये पानी में खड़े होकर, पूजा के समय सूर्य को अर्घ्य देकर अपनी पूजा सम्पन्न करेंगी।

घाट की सफाई का काम पूरा

छठ पूजा के मौके पर वैसे तो शहर में कई जगहों पर पूजा करने के इन्तजाम किये जा रहे हैं, पर गोमती नदी के किनारे बसे लक्ष्मण मेला पार्क के छठ घाट में छठ पूजा के इन्तजाम व्यापक स्तर पर किये गये हैं। घाट की सफाई का काम पूरा हो चुका है और पूजा की बेदी रंग पुतकर तैयार हो चुकी हैं। अखिल भारतीय भोजपुरी समाज द्वारा छठ पूजा का आयोजन 6 तथा 7 नवम्बर को लक्ष्मण मेला मैदान, छठ मेला घाट, गोमती नदी के तट पर किया जायेगा। इस अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा, जिसमें भोजपुरी के लोक गायक व लोक कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया जाएगा और खासतौर पर छठ पूजा गीत प्रस्तुत किए जाएंगे।

Share it
Share it
Share it
Top