रेल हादसे में घायलों का सरकार कराएगी मुफ्त इलाज

रेल हादसे में घायलों का सरकार कराएगी मुफ्त इलाजरेल हादसे के बाद मौके पर पहुंचे मध्य प्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान।

लखनऊ। प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डा. शिवाकान्त ओझा ने पुखरायां (कानपुर) में हुई भीषण ट्रेन दुर्घटना में मृत व्यक्तियों के प्रति गहरा दुःख प्रकट किया है। उन्होंने मृतकों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि इस दुःख की परिस्थिति में उत्तर प्रदेश सरकार पूरी तरह मृतकों के परिजनों के साथ है और जो भी सम्भव मदद होगी, सरकार मुहैया कराएगी। उन्होंने रेल दुर्घटना में घायल लोगों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की है। साथ ही इस दुर्घटना में घायलों के इलाज की सम्पूर्ण व्यवस्था को निःशुल्क भी कर दिया है।

कानपुर के अस्पतालों को किया गया अलर्ट

डा. ओझा ने बताया कि घायलों के इलाज में किसी भी प्रकार की कमी न होने पाये, इसके लिए महानिदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य की अध्यक्षता में चिकित्सकों का एक दल मौके पर पहुंच चुका है। कानपुर के समस्त चिकित्सालयों को अलर्ट कर दिया गया है। सभी चिकित्सकों और अन्य आवश्यक स्टाफ को अस्पतालों में मौजूद रहने के निर्देश दिए गए हैं। कानपुर के समस्त सरकारी अस्पतालों में घायलों के लिए बेड आरक्षित रखने के लिए संबंधित क्षेत्र के मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया गया हैं। इसके अलावा उन्होंने अस्पताल में दवाइयां, रक्त आदि की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित करने तथा दुर्घटना में घायल व्यक्तियों की आवश्यक जांचे भी अस्पतालों में ही कराने के निर्देश दिए हैं।

नहीं बर्दाश्त की जाएगी लापरवाही

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि इस दुर्घटना की जानकारी प्राप्त होते ही उन्होंने घायलों एवं मृतकों को अस्पताल लाने के लिए एम्बुलेंस की समुचित व्यवस्था के निर्देश संबंधित क्षेत्र के सीएमओ को दिए थे। मेडिकल टीम को भी मौके पर भेजा गया, ताकि कम से कम जन हानि होने पाये। उन्होंने बताया कि लगातार सम्पूर्ण स्थिति पर नजर रखी जा रही है। घायल व्यक्त्यिों के इलाज में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

अस्पतालों में जीवन रक्षक दवाओं की कमी नहीं

प्रमुख सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य अरूण कुमार सिन्हा ने बताया कि कानपुर के समस्त सरकारी चिकित्सालयों में आकस्मिक चिकित्सा सुविधा को चाक-चौबंद बनाए रखने के निर्देश दिए है। अभी तक इस दुर्घटना में 103 लोगों के मृत्यु की सूचना प्राप्त हुई है। मृतकों के शवों को उनके घर तक पहुंचाने की व्यवस्था तत्काल करने के निर्देश दिए गए हैं। इसमें निजी एनजीओ का सहयोग भी प्राप्त किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अस्पतालों में तमाम प्रकार की जीवन रक्षक दवाइयां उपलब्ध हैं। घायलों के इलाज में किसी भी प्रकार की कमी नहीं होने दी जाएगी।

स्वास्थ्य व्यवस्था पर एक नजर

सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य बी. हेकाली झिमोमी ने मौके पर पहुंच कर सम्पूर्ण स्थिति का जायजा लिया। उन्होंने दुर्घटना क्षेत्र के अन्तर्गत आने वाले समस्त अस्पतालों और पोस्टमार्टम हाउस का निरीक्षण किया। उन्होंने बताया कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पुखरायां में आंशिक रूप से घायल 94 लोगों को इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई है और 14 घायलों को अस्पताल में भर्ती किया गया है। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र देवीपुर में 24 व्यक्ति भर्ती हैं। इनके अलावा कम्बाइंड हास्पिटल में 69 घायल व्यक्तियों का प्राथमिक उपचार किया गया तथा 10 लोग अस्पताल में भर्ती किए गए हैं। इनके अतिरिक्त एलएलआरएम हास्पिटल में 42 तथा जिला अस्पताल में एक घायल व्यक्ति का उपचार किया जा रहा है। झिमोमी ने बताया कि मृतकों के शवों को उनके जनपद के बार्डर तक पहुचाने के लिए लगभग 20 शव वाहनों के प्रबंध कर लिए गए हैं। मध्य प्रदेश के एडिशनल कमीशनर चन्द्र मोहन ठाकुर ने एमपी बार्डर से मृतकों के शवों को उनके घरों तक भेजने की व्यवस्था की है।

तीन बच्चे मिले, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

उन्होंने बताया कि इस दुर्घटना में 03 बच्चे मिले हैं, जिनको जिला प्रशासन को सौंप दिया गया है। साथ ही यह भी निर्देश दिए गए हैं कि जब तक इन बच्चों के परिजनों का पता नहीं चलता, तब तक कि इनका विशेष ख्याल रखा जाए। उन्होंने बताया कि मर्चरी में रखे शवों का तत्परता से पोस्टमार्टम कराने के निर्देश दिए गए हैं, ताकि मृतकों का शव समय से उनके परिजनों तक पहुंचाया जा सके। रेस्क्यू आपरेशन अभी जारी है।

Share it
Share it
Share it
Top