सरकार का सूखे बुंदेलखंड को तोहफा

सरकार का सूखे बुंदेलखंड को तोहफाप्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ। सूखा से जूझ रहे बंदेलखंड के किसानों के लिए राज्य सरकार 13 बांध का निर्माण करा रही है। इन बांधों को तैयार हो जाने से यहां के किसानों को राहत मिलेगी। गुरुवार को नवीन आटोमेशन तकनीक से सुसज्जित चोधरी चरण सिंह लहचूरा स्वाचालित बांध आधुनिकीकरण परियोजना का लोकार्पण और जनपद ललितपुर में प्रस्तावित भौरंट बांध का शिलान्यास करते हुए सिंचाई मंत्री शिवपाल यादव ने यह बात कही।

अब बुंदेलखंड बनेगा हरा भरा

उन्होंने कहा कि बुन्देलखण्ड ने बहुत सूखा बर्दाश्त किया है। इस कारण ये पिछड़ा हुआ है। अब 13 बांध तैयार हो जाने से बुन्देलखण्ड में पानी की कमी नहीं रहेगी। भरपूर सिंचाई होने से उत्पादन बढ़ेगा तथा किसान खुशहाल होगा और बुन्देलखण्ड हरा भरा बनेगा। इस अवसर पर सिंचाई विभाग के अधीक्षण अभियन्ता विनय श्रीवास्तव ने बताया कि लहचूरा बांध धसान नदी पर बना है। इस बांध से धसान नहर प्रणाली के कृषि योग्य कमाण्ड एरिया 97169 में से रबी सीजन में 39910 हेक्टेयर क्षेत्र की सिंचाई होती थी। इस परियोजना के पूर्ण हो जाने से 14575 हेक्टेयर की अति सिंचन क्षमता में वृद्धि होगी।

यूपी का सबसे आधुनिक बांध

उन्होंने बताया कि यह यूपी का सबसे आधुनिक बांध है। इसमें नवीनतम तकनीक का इस्तेमाल किया गया है। बीयर बांध के 960 मीटर नीचे एक नवीन बांध 346.50 मीटर लम्बा एवं 20.25 मीटर ऊंचा पक्का निर्माण कराया गया है, जिसमें 17 अदद फाटक लगे हैं। इस परियोजना पर कुल 328.30 करोड़ रूपये व्यय हुए और 14575 हेक्टेयर नवीन सिंचाई क्षमता का सृजन हुआ।

परिणाम आपके सामने हैं: शिवपाल

इस अवसर पर शिवपाल यादव ने कहा कि 38 साल पहले इस योजना की शुरूआत हुई थी और कार्य में प्रगति नहीं के बराबर थी। साल 2012 में समाजवादी सरकार बनने के बाद इस योजना को तीव्र गति से चालू किया गया और परिणाम आपके सामने है। उन्होंने कहा कि बुन्देलखण्ड में बहुत सी सिंचाई परियोजनायें 35 साल से अधूरी पड़ी थीं, उन पर हमने काम शुरू किया है। 13 बांधों के निर्माण की स्वीकृति दी गई है। आज 5 वें बाध का लोकार्पण हो रहा है। जल्द ही चार बांधों का लोकार्पण होगा और शेष परियोजनायें भी जल्दी पूरी की जाएंगी।

गौशाला निर्माण पर भी ध्यान

उन्होंने बताया कि यूपी की सिंचाई व्यवस्था दुनिया की सबसे बड़ी व्यवस्था है, जहां 74000 किमी. नहरें, 33000 टयूबवैल, 265 लिफ्ट कैनाल हैं। पर उसके समाधान पर बोलते हुए मंत्री जी ने कहा कि शीघ्र ही गौशाला निर्माण के आदेश जारी किये जायेंगे ताकि उसमें गायें रखी जा सकें और गौ रक्षा का कार्य होने के साथ-साथ किसानों की फसलों को भी नष्ट होने से बचाया जा सके। शिवपाल यादव ने आयुक्त चित्रकूट धाम मण्ड, बांदा, हमीरपुर, महोबा, चित्रकूट के जिलाधिकारी और सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ अर्जुन सहायक परियोजना के सम्बन्ध में समीक्षा बैठक की। जिसमें विनय श्रीवास्तव ने 32 तालाबों की खुदाई का पैसा प्राप्त न होने की जानकारी दी। जिसपर मंत्री ने जल्दी ही प्रमुख सचिव सिंचाई तथा मुख्य सचिव के साथ बैठक कर धन आवंटित करने का आश्वासन दिया।

Share it
Share it
Share it
Top