इंडोनेशिया में भूकंप के बाद दूसरे दिन भी बचाव अभियान जारी 

इंडोनेशिया में भूकंप के बाद दूसरे दिन भी बचाव अभियान जारी जीवित बचे लोगों की तलाश कर रहा राहत दल।

मरुडु (एपी)। इंडोनेशिया के असेह प्रांत में भूकंप के बाद तबाह हो चुके एक शहर में बचाव कर्मी, सैनिक और पुलिस का बचाव अभियान गुरुवार को दूसरे दिन भी जारी है और वह लोग मलबे में जीवित बचे लोगों की तलाश कर रहे हैं। बुधवार की रात को बारिश और अंधेरे की वजह से बचाव अभियान को रोका गया था। उत्तर-पूर्व सुमात्रा में बुधवार को तड़के आये शक्तिशाली भूकंप में करीब 100 लोगों की मौत हो गई।

भूकंप में सैकड़ों घायल हो गये और दर्जनों इमारतें ध्वस्त हो गयीं। सबसे ज्यादा तबाही भूकंप के केंद्र के समीप स्थित पीडी जाया जिले में होने का अंदाजा है। फिलहाल भूकंप से हुई तबाही का आंकलन किया जा रहा है। भूकंप के बाद कुछ लोगों को सड़कों पर रात बितानी पड़ी जबकि अन्य हजारों ने मस्जिदों और अस्थायी आश्रय स्थलों में शरण ली। जिन लोगों के घर बच गए हैं, वह लोग डर के कारण वहां जाना नहीं चाहते।

असेह की आपदा शमन एजेंसी ने गुरवार को कहा कि मरने वालों की संख्या 98 तक पहुंच गई और 8,000 से अधिक लोग पीडी जाया के कई आश्रय स्थलों में हैं। इंडोनेशिया सरकार ने असेह में दो सप्ताह के लिए आपात स्थिति की घोषणा की है और प्रभावित क्षेत्रों में सहायता पहुंचाई जा रही है। बचाव अभियान में हजारों की संख्या में अधिकारी, कर्मचारी, ग्रामीण, सैनिक और पुलिस बल शामिल है और उनका ध्यान पीडी जाया में भूकंप से बुरी तरह प्रभावित शहर मरुडु पर केंद्रित है। बचाव दल के सदस्यों ने बताया कि उन्होंने मलबे में दबे लोगों के जीवित बचे होने की उम्मीद अभी नहीं त्यागी है।

Share it
Top