अमेरिका एक और भारतीय पर जानलेवा हमला, सिख युवक को गोली मारकर किया घायल, दो हफ्तों में हो चुकी हैं दो हत्याएं

अमेरिका एक और भारतीय पर जानलेवा हमला, सिख युवक को गोली मारकर किया घायल, दो हफ्तों में हो चुकी हैं दो हत्याएंअमेरिका में एक अज्ञात व्यक्ति ने 39 वर्षीय एक सिख को उसी के घर के बाहर गोली मारकर घायल कर दिया।

न्यूयार्क (भाषा)। अमेरिका में नकाब पहन कर आए एक व्यक्ति ने 39 वर्षीय एक सिख को उसी के घर के बाहर गोली मारकर घायल कर दिया और चिल्लाते हुए कहने लगा ‘अपने देश वापस जाओ।' कुछ ही दिन पहले कंसास में एक भारतीय इंजीनियर की हत्या के बाद के इस मामले के घृणा अपराध होने का संदेह है।

नई दिल्ली में भारतीय अधिकारियों ने इस सिख व्यक्ति की पहचान अमेरिकी नागरिक दीप राय के रुप में की है। यह सिख व्यक्ति शुक्रवार को वाशिंगटन राज्य के केंट शहर स्थित अपने घर के बाहर अपना वाहन ठीक कर रहा था, तभी वहां एक अज्ञात व्यक्ति आ गया। केंट पुलिस ने कहा कि दोनों व्यक्तियों के बीच कहासुनी हुई। पीड़ित का कहना है कि संदिग्ध व्यक्ति ने ‘अपने देश वापस जाओ' जैसी बातें कहीं। इसके बाद अज्ञात व्यक्ति ने पीडि़त की बाजू में गोली मार दी। पीडि़त के अनुसार, हमलावर छह फुट लंबा एक श्वेत आदमी था। उसने अपने चेहरे के निचले हिस्से को एक नकाब से ढका हुआ था।

सिख व्यक्ति को हालांकि कोई जानलेवा चोट नहीं आई है लेकिन वे इसे एक बेहद गंभीर घटना के तौर पर देख रहे हैं।
केन थॉमस, प्रमुख, केंट पुलिस

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

भारत सरकार के एक अधिकारी ने कहा कि राय अब बात कर पा रहे हैं। अधिकारी ने कहा कि सरकार घायल व्यक्ति को हर संभव मदद देने के लिए तैयार है। सीएटल टाइम्स की खबर के अनुसार, अधिकारी इस गोलीबारी की जांच संदिग्ध घृणा अपराध के दृष्टिकोण से कर रहे हैं।

भारतीय अधिकारी ने कहा कि सेन फ्रांसिस्को में भारत का महावाणिज्य दूतावास स्थानीय अधिकारियों के संपर्क में है। ये अधिकारी अपराध की प्रकृति सुनिश्चित करने पर काम कर रहे हैं।

रिपोर्ट में कहा गया कि केंट पुलिस ने मामले की जांच शुरु कर दी है और इसके लिए एफबीआई और अन्य कानून प्रवर्तन एजेंसियों से संपर्क किया है। थॉमस ने कहा, ‘‘हमारी जांच अभी शुरुआती चरण में है।’’ केंट पुलिस कमांडर जेरोड कासनेर ने कहा कि सिख समुदाय और अन्य इस घटना पर नजर बनाए हुए हैं।

कासनेर ने कहा, ‘‘देशभर में हालिया तनाव और चिंता के कारण लोग इससे भावनात्मक रुप से जुड़ सकते हैं, खासतौर पर तब जब अपराध एक किसी व्यक्ति के जीने के तरीके और उसके रुप-रंग, वेशभूषा को लेकर किया गया हो।'' यह घटना भारतीय समुदाय के खिलाफ किए गए घृणा अपराधों की श्रृंखला में सबसे हालिया अपराध है।

पिछले ही माह कंसास में 32 वर्षीय भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास कुचिभोटला की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। अमेरिकी नौसेना के पूर्व सैनिक एडम पुरिन्टन (51) ने श्रीनिवास और उसके दोस्त आलोक मदसानी को गोली मारने के बाद कहा था, ‘‘मेरे देश से बाहर निकलो।'' इस सप्ताह की शुरुआत में भारतीय मूल के एक स्टोर मालिक हरनीश पटेल (43) मृत अवस्था में पाए गए थे। उनके शरीर पर गोलियों के घाव थे। हालांकि पुलिस ने कहा कि पटेल की हत्या में उनका भारतीय मूल का होना कोई वजह प्रतीत नहीं होता।

रेंटन में सिख समुदाय के नेता जसमीत सिंह ने कहा कि उन्हें बताया गया है कि शुक्रवार को घायल सिख व्यक्ति को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।

उन्होंने कहा कि पीड़ित और उसका परिवार हिल गए हैं। उन्होंने कहा, ‘‘अभी जो कुछ भी चल रहा है, उसमें हम नुकसान की स्थिति में हैं। घृणा का जो माहौल पैदा कर दिया गया है, वह किसी के बीच फर्क नहीं करता।'' उन्होंने कहा कि उनके समुदाय के लोगों ने गाली गलौच की घटनाओं में इजाफे की जानकारी दी है।

उन्होंने कहा, ‘‘यह गाली-गलौच एक तरह का पूर्वाग्रह है, विदेशियों से लगने वाला एक प्रकार का डर है, जो हमने पहले कभी नहीं देखा।'' उन्होंने कहा कि सिख समुदाय को निशाना बनाकर किए जाने वाली घटनाओं की संख्या 11 सितंबर के आतंकी हमलों के बाद हुए हमलों की याद दिलाती है।

भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक दीप राय पर हुए हमले के बारे में जानकर मैं दुखी हूं। मैंनें पीड़ित के पिता सरदार हरपाल सिंह से बात की है।
सुषमा स्वराज, विदेश मंत्री

इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा, ‘‘भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक दीप राय पर हुए हमले के बारे में जानकर मैं दुखी हूं। मैंनें पीड़ित के पिता सरदार हरपाल सिंह से बात की है।'' सुषमा ने ट्वीट किया, ‘‘उन्होंने मुझे बताया कि उनके बेटे की बाजू में गोली लगी है। वह खतरे से बाहर है और एक निजी अस्पताल में उसकी स्थिति में सुधार आ रहा है।'' रेंटन में सिख समुदाय के नेता जसमीत सिंह ने कहा कि उन्हें बताया गया है कि शुक्रवार को घायल सिख व्यक्ति को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।

उन्होंने कहा कि पीड़ित और उसका परिवार ‘‘हिल गए हैं।'' उन्होंने कहा, ‘‘अभी जो कुछ भी चल रहा है, उसमें हम नुकसान की स्थिति में हैं। घृणा का जो माहौल पैदा कर दिया गया है, वह किसी के बीच फर्क नहीं करता।'' सिख कोएलिशन जैसे पैरोकार समूह ने कहा कि वह कानून प्रवर्तन अधिकारियों से अपील करता है कि वे इस गोलीबारी की घटना की जांच संभावित घृणा अपराध के रुप में करें।

विभिन्न अधिकार समूहों और भारतीय मूल के संगठनों ने इस समुदाय के लोगों तक पहुंच बनाते हुए उनसे डर के आगे न झुकने और घृणा अपराध या हिंसा की किसी भी घटना की तत्काल जानकारी कानून प्रवर्तन अधिकारियों को देने के लिए कहा।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top