बैंक खाते में जमा किए सौ-सौ के आठ लाख अस्सी हजार रुपये, बैंक ने की सराहना 

बैंक खाते में जमा किए सौ-सौ के आठ लाख अस्सी हजार रुपये, बैंक ने की सराहना बैँक पर सौ-सौ की नोटें लेकर पहुंचने पर बैंक ने जताया आभार।

स्वयं डेस्क

बीघापुर (उन्नाव)। पांच सौ व एक हजार के नोटों पर पाबंदी के बीच एक ओर जहां बैंकों के साथ हर ओर फुटकर पैसों के लिए मारामारी मची हुई है। वहीं, दूसरी पाही ग्राम प्रधान ने बैंक में सौ-सौ रुपये के आठ लाख अस्सी हजार रुपये जमा कर दूसरों के लिए मिशाल पेश की है। बैंककर्मियों के साथ ही क्षेत्रीय लोगों ने उनके इस कार्य की सराहना की है।

नगर पंचायत के ग्राम प्रधान राजकिशोर गुप्ता व्यापारी भी हैं। वह गाँव में ही किराना का काम करते हैं। शुक्रवार सुबह वह जब पंजाब नेशनल बैंक पहुंचे तो शायद ही किसी को पता होगा कि वह जो करने जा रहे हैं वह फुटकर पैसों की परेशानी से जूझ रहे लोगों को राहत पहुंचाएगा। राजकिशोर गुप्ता ने शुक्रवार को पंजाब नेशनल बैंक में सौ सौ रुपये के नोट में आठ लाख अस्सी हजार रुपये जमा कराए। राजकिशोर की इस पहल पर बैंककर्मी हैरान हुए बिना नहीं रह सके। नोटों पर पाबंदी लगने के बाद से हर व्यक्ति फुटकर पैसों के लिए परेशान है। पांच सौ के नए नोट अभी तक बाजार में पहुंचे नहीं है और दो हजार के जो नोट आए हैं उन्हें कोई फुटकर करने को तैयार नहीं है। ऐसे में हर व्यक्ति की कोशिश है कि वह सौ सौ रुपये के अधिक से अधिक नोट अपने पास सहेजकर रख सके। उधर बीघापुर समेत जिले भर में अब तक किसी भी व्यक्ति द्वारा सौ सौ रुपये के नोटों में इतनी बड़ी रकम बैंक में नहीं जमा की गई है। शाखा प्रबंधक अनिल बाजपेई ने बताया कि व्यापारी व ग्राम प्रधान राजकिशोर द्वारा जो भी पैसे बैंक में जमा किए गए हैं वह बड़े स्तर पर लोगों को राहत पहुंचाएंगे। हर रोज बैंकों में लग रही लंबी लाइन में शामिल लोग फुटकर पैसे पाने की जद्दोजहद कर रहे हैं। अनिल बाजपेई ने यह भी कहा कि राजकिशोर की तरह ही अगर अन्य व्यापारी भी खुदरा रुपयों को बैंक में जमा करें तो क्षेत्र के जरूरतमंदों को राहत मिल सकती है। सौ सौ रुपये के नोटों को लेकर आठ लाख अस्सी हजार रुपये जमा करने वाले राजकिशोर की क्षेत्र में खूब सराहना हुई।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Share it
Share it
Top