प्रवासियों पर प्रतिबंध संबंधी ट्रंप के शासकीय आदेश पर डेमोक्रेटिक सांसद नाराज

प्रवासियों पर प्रतिबंध संबंधी ट्रंप के शासकीय आदेश पर डेमोक्रेटिक सांसद नाराजकमला हैरिस, कैलीफोर्निया की सांसद

वाशिंगटन (भाषा)। अमेरिका के शीर्ष डेमोक्रेटिक सांसदों ने कट्टरपंथी इस्लामिक आतंकवादियों को अमेरिका में प्रवेश करने से रोकने संबंधी शासकीय आदेश पर हस्ताक्षर करने के अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के निर्णय पर नाराजगी व्यक्त की है।

होलोकॉस्ट मेमोरियल डे’ पर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने मुस्लिम बहुल देशों के शरणार्थियों का अमेरिका में प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया। यह समझने में कोई गलती नहीं करें कि यह मुस्लिमों पर प्रतिबंध है। दोनों पार्टियों के राष्ट्रपतियों ने ऐसे लोगों के लिए अपने दरवाजे खोले हैं, जो दशकों से हिंसा और उत्पीड़न से पीडि़त रहे हैं। हम लाखों शरणार्थियों से मुंह नहीं मोड़ सकते, जो हमारे देश और हमारी अर्थव्यवस्था में सहयोग कर रहे हैं।
कमला हैरिस, कैलीफोर्निया की सांसद

मैं, राष्ट्रपति ट्रंप के धर्म के आधार पर प्रवासियों एवं शरणार्थियों को अमेरिका में प्रवेश करने से रोकने वाले शासकीय आदेश से नाराज हूं। यह घोषणा संवैधानिक सिद्धान्तों एवं धार्मिक सहिष्णुता का उल्लंघन करती है, जो अमेरिकी लोकतंत्र की आधारशिला हैं।
बारबरा ली, अमेरिकी महिला सांसद

यह राष्ट्रपति की ओर से जारी सबसे पिछड़ा और सबसे बुरा शासकीय आदेश है। स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी हर रात रो रहा है, क्योंकि प्रवासियों का स्वागत करने वाली अमेरिका की महान परंपरा, जो अमेरिका की स्थापना के समय से लागू है, को कुचल दिया गया। प्रवासियों और शरणार्थियों को प्रवेश देना केवल मानवीय ही नहीं है, बल्कि इससे हमारी अर्थव्यस्था भी मजबूत हुई है और इससे दशकों से रोजगार सृजन में मदद मिली है।
चक शूमर, मायनोरिटी लीडर

Share it
Top